Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को लेकर पीएम मोदी ने दिया निर्देश

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं में छूट देने की योजना की समीक्षा करने का निर्देश दिया है।

तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वैरिएंट पर प्रधानमंत्री मोदी ने दिया निर्देश।(PIB)

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अधिकारियों को अंतर्राष्ट्रीय यात्राओं में छूट देने की योजना की समीक्षा करने का निर्देश दिया है। शनिवार को कोविड-19 और टीकाकरण से संबंधित स्थिति की समीक्षा के लिए बुलाई गई एक व्यापक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के खतरे को देखते हुए सतर्क और सक्रिय रहने की जरूरत पर जोर देते हुए इस नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अघिकारियों से अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढ़ील देने की योजना की समीक्षा करने को कहा।

कोविड-19 को लेकर शनिवार को बुलाई गई इस उच्च स्तरीय महत्वपूर्ण बैठक में प्रधानमंत्री ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर , विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर भी जानकारी ली। बैठक के दौरान पीएम मोदी ने लोगों को अधिक सतर्क रहने और मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी उचित सावधानी बरतने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि जिन इलाकों से कोरोना के ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं , उन-उन इलाकों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कोविड वैक्सीन की दूसरी खुराक का कवरेज बढ़ाने की जरूरत पर बल देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

शनिवार को लगभग 2 घंटे तक चली इस उच्चस्तरीय बैठक में कोविड -19 के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों और टीकाकरण संबंधी स्थिति की समीक्षा की गई। प्रधानमंत्री को कोविड-19 संक्रमणों और आंकड़ो के मामलें में वैश्विक हालात की भी जानकारी दी गई। बैठक में प्रधानमंत्री ने टीकाकरण अभियान में प्रगति और 'हर घर दस्तक' अभियान के तहत किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी ली । इस दौरान उन्होने सभी राज्यों को दूसरी खुराक का दायरा बढ़ाने का निर्देश देते हुए राज्यों को यह सुनिश्चित करने पर जोर दिया कि जिन लोगों को पहली खुराक मिली है उन्हें दूसरी खुराक समय पर दी जाए।

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के असर, विभिन्न देशों में पड़े प्रभाव और भारत में इसके असर को लेकर जानकारी लेते हुए प्रधानमंत्री ने इस नए वेरिएंट के खतरे के मद्देनजर लोगों को अधिक सतर्क रहने और उचित सावधानी बरतने ( मास्किंग और सोशल डिस्टेंसिंग ) की जरूरत पर भी बल दिया। इसके साथ ही पीएम मोदी ने सभी अंतर्राष्ट्रीय आगमन की निगरानी की आवश्यकता पर जोर देते हुए जोखिम वाले देशों पर विशेष ध्यान देने का भी निर्देश दिया। उन्होने अधिकारियों को नए वेरिएंट के आने और दुनिया के कई देशों में बदल रहे हालात को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय यात्रा प्रतिबंधों में ढील देने की योजना की समीक्षा करने को भी कहा।

राज्य और जिला स्तर पर उचित जागरूकता सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को मिलकर काम करने का निर्देश देते हुए कहा कि ज्यादा कोरोना वाले मामलों की रिपोर्ट करने वाले क्षेत्रों में गहन नियंत्रण और सक्रिय निगरानी जारी रहनी चाहिए और उन राज्यों को आवश्यक तकनीकी सहायता प्रदान की जानी चाहिए जहां इसके ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। पीएम ने वायरस के वेंटिलेशन और हवा से पैदा होने वाले व्यवहार के बारे में भी जागरूकता पैदा करने की जरूरत पर बल दिया।


यह भी पढ़ें: जाने क्यों कोरोना का नया "बी.1.1.1.529 वैरिएंट" है डेल्टा वैरिएंट से ज़्यादा खतरनाक ?

पीएम ने अधिकारियों को विभिन्न दवाओं के पर्याप्त बफर स्टॉक सुनिश्चित करने के लिए राज्यों के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से बाल चिकित्सा सुविधाओं सहित चिकित्सा बुनियादी ढांचे के कामकाज की समीक्षा के लिए राज्यों के साथ काम करने को कहा। पीएम ने अधिकारियों से पीएसए ऑक्सीजन संयंत्रों और वेंटिलेटर के सही से काम करने को सुनिश्चित करने के लिए भी राज्यों के साथ समन्वय करने का निर्देश दिया।

प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता में हुई इस उच्चस्तरीय बैठक में कैबिनेट सचिव राजीव गौबा , नीति आयोग के सदस्य ( स्वास्थ्य ) डॉ. वी.के.पॉल, गृह सचिव एके भल्ला, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण सचिव राजेश भूषण, शहरी विकास सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा,आईसीएमआर के डीजी डॉ. बलराम भार्गव और भारत सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार प्रो. के. विजय राघवन के अलावा कई अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया।(आईएएनएस-SHM)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन(Twitter)

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन(Donald Trump's Administration) में इस्लामिक कट्टरपंथियों से भरे हुए मुल्क पाकिस्तान को सबसे पहले दिसंबर 2018 में धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन(violation of religious freedom) करने के लिए कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) की इस सूची में रखा गया इसके बाद 2020 में भी इसे बरकरार रखा था। लेकिन पाकिस्तान की सरकार को यह उम्मीद थी कि सत्ता परिवर्तन के बाद उसके दिन फिरेंगे। लेकिन बाइडेन प्रशासन ने इन उम्मीदों में पानी फेर दिया।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन(Antony Blinken) ने धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन(violation of religious freedom) करने के लिए पाकिस्तान को कंट्री ऑफ पर्टिकुलर कॉन्सर्न (सीपीसी) के रूप में फिर से नामित किया है जिससे पाकिस्तान सरकार को झटका भी लगा है। पाकिस्तान के अलावा तालिबान को एक विशेष चिंता की इकाई के रूप में पुन: ब्रांडेड किया है। डॉन न्यूज की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। डॉन न्यूज की रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल जनवरी में सत्ता में आए जो बाइडेन प्रशासन ने दो बदलावों के साथ पुरानी सूची को बरकरार रखा है, जिसमें रूस को शामिल किया गया है और सूडान को सीपीसी श्रेणी से हटा दिया गया है।

Keep Reading Show less

(NewsGram Hindi)

"प्रवासी भारतीय", जब भी यह शब्द हम लोग सुनते हैं तो हमारे जहन में क्या आता है? यही कि हमारे देश भारत के बाहर बसे भारतीय। वास्तव में, प्रवासी भारतीय का मतलब क्या होता है, आज हम आपको बताएंगे और वह लोग विदेशों में किस स्थिति का सामना कर अपना जीवन यापन करते हैं यह भी बताएंगे।

प्रवासी भारतीय का आशय होता है उन भारतवासियों से जो अपने कर्तव्य के कारण देश को छोड़ दूसरे देशों में निवास करते हैं और वहां की आर्थिक व राजनीतिक दशा व दिशा को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यहां उनकी आर्थिक, शैक्षणिक व व्यावसायिक दक्षता का आधार काफी मजबूत है। वे विभिन्न देशों में रहते हैं, अलग भाषा बोलते हैं परन्तु वहां के विभिन्न क्रियाकलापों में अपनी महती भूमिका निभाते हैं। प्रवासी भारतीयों को अपनी सांस्कृतिक विरासत को अक्षुण्ण बनाए रखने के कारण ही साझा पहचान मिली है और यही कारण उन्हें भारत से जोड़े रखता है। वह विश्व के अनेक देशों में फैले हुए हैं जिनकी जनसंख्या करीब 2 करोड़ है। इनमें से 11 देशों में 5 लाख से ज्यादा प्रवासी भारतीय वहां की औसत जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करते हैं, जो कि प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व की बात है।

Keep Reading Show less

तीन साल के कार्यकाल के लिए भारत को संयुक्त राष्ट्र द्वारा मानवाधिकार परिषद के लिए चुना गया। (Wikimedia Commons )

भारत तीन साल के कार्यकाल के लिए गुरुवार को मानवाधिकार परिषद के लिए फिर से निर्वाचित हुआ। अगले वर्ष की शुरुआत 'परिषद में विभिन्न विभाजनों या मतभेदों को दूर करने के लिए अपने बहुलवादी, उदार और संतुलित दृष्टिकोण लाने' की प्रतिज्ञा के साथ हुई। चुनाव में डाले गए 193 वोटों में से भारत को 184 वोट मिले।

चुनाव के लिए भारत के घोषणापत्र में इस बात पर जोर दिया गया था कि मानवाधिकारों का प्रचार और संरक्षण 'संवाद, सहयोग और रचनात्मक और सहयोगात्मक जुड़ाव' द्वारा किया गया था। 47 सदस्यीय परिषद में तीन साल के कार्यकाल के साथ रोटेशन सदस्यता प्रणाली के तहत इस साल कुल 18 सीटों का चुनाव होना था।

Keep reading... Show less