Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

Republic Day 2022 के मौके पर राजपथ पर होगा उत्तराखंड की सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(IANS)

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है। इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर होने वाली परेड में मोक्षधाम भगवान बदरीविशाल, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब, ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल से सजी देवभूमि उत्तराखंड की झांकी गणतंत्र दिवस राजपथ पर नजर आएगी। 73वें गणतंत्र दिवस में शामिल की गई इस झांकी में बदरीनाथ मंदिर, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब,ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल की भव्यता एवं दिव्यता को दशार्या जाएगा।

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी। उत्तराखंड को पहली बार झांकी को लेकर पुरस्कार मिला था। राजपथ में केदारखंड की थीम पर निकली उत्तराखंड राज्य की झांकी को काफी सराहा गया था।


Republic day, Uttarakhand, Rajpath, \u0909\u0924\u094d\u0924\u0930\u093e\u0916\u0902\u0921, \u0917\u0923\u0924\u0902\u0924\u094d\u0930 \u0926\u093f\u0935\u0938 गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(Wikimedia Commons)

इस बार 12 राज्यों में से देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है, जो समस्त प्रदेश वासियों के लिए गौरव की बात है। इस तरह राज्य गठन के बाद अब 13वीं बार उत्तराखंड की झांकी राजपथ पर होने वाली परेड का हिस्सा बनेगी।

यह भी पढ़ें - कोरोना महामारी में डोलो गोली की हुई रिकॉर्ड तोड़ बिक्री

पर्यटन सचिव श्री दिलीप जावलकर ने कहा कि आस्था का प्रतीक बदरीनाथ मंदिर, हेमकुंड साहिब, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम और ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल अपने में उत्तराखंड की संस्कृति को समेटे हुए है। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर इनकी झांकी निकलना हम सबके लिए गौरव की बात है। इसके माध्यम से देश भर के लोग उत्तराखंड की भव्यता और दिव्यता से भी रूबरू होने के साथ सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन किया जाएगा। (आईएएनएस-AS)

Popular

माइग्रेन घर बैठे भी आपको अपनी चपेट में ले सकती है।(Pixabay)

आज कल भाग दोड़ भरी जिन्दगी में कई शारीरिक और मानसिक बीमारी उत्पन्न हो जाती है , जिसमे एक बीमारी भी है । अगर बात करे माइग्रेन की तो इसका दर्द काफी तेज उठता है, ऐसे में काम करना भी मुश्किल हो जाता है। कई बार घर से काम करने वाले लोगों को माइग्रेन का दर्द उठ जाता है, जिससे समय पर काम नहीं हो पाता है। माइग्रेन एक कमजोर कर देने वाली न्यूरोलॉजिकल बीमारी है, जो दुनिया भर में विकलांगता के साथ रहने वाले सालों के शीर्ष 10 प्रमुख कारणों में लगातार शुमार है। माइग्रेन के कुछ मुख्य लक्षण सिर के एक तरफ तेज दर्द या धड़कते हुए दर्द, रोशनी और ध्वनि के प्रति डर जैसे लक्षणों के साथ एक स्थायी सिरदर्द है। यह एक बहुत ही सामान्य सिरदर्द विमाइग्रेन से कार होने के बावजूद, जो दुनिया भर में लगभग 15 प्रतिशत वयस्क आबादी को प्रभावित करता है, यह अपर्याप्त रूप से समझा जाता है और सबसे अधिक उपेक्षित रहता है। देश की राजधानी दिल्ली में, लगभग 25 प्रतिशत आबादी हर साल माइग्रेन से पीड़ित हो जाती है ।

माइग्रेन यह व्यक्तिगत, पेशेवर और सामाजिक डोमेन में व्यक्तियों को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है, इस प्रकार जीवन की समग्र गुणवत्ता और उत्पादकता को प्रभावित कर सकता है। आप को बता दे कि वर्क फ्रॉम होम, या 'न्यू नॉर्मल' ने माइग्रेन से पीड़ित लोगों के जीवन को काफी प्रभावित किया है । यह सुनिश्चित करना और भी जरूरी हो गया है कि अब व्यक्तियों के पास माइग्रेन को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने के लिए उपकरण हों।

Keep Reading Show less
लॉकडाउन के कारण घर से काम करने मजबुर अधिकांश लोग (सांकेतिक तस्वीर, Pixabay)

कोविड-19 के कारण देश भर में जारी लॉकडाउन के कारण घर से काम करते हुए तीन में से एक भारतीय ने हर महीने औसतन 3000 से 5000 रुपये बचाए। एक सर्वे में मंगलवार को कहा गया है कि घर से काम करते हुए लोगों ने आने-जाने, कपड़े, खाने और कई अन्य मदों में पैसे बचाए।

ऑनलाइन सर्वे में शामिल 74 फीसदी लोगों ने कहा कि वे घर से काम करने के लिए तैयार हैं जबकि 80 फीसदी का मानना था कि उनका जॉब रोल घर से काम करने के लिए उपयुक्त है।

Keep Reading Show less