Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

करोना काल में ऑनलाइन शिक्षा। (WIKIMEDIA COMMONS)

हाल ही में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020, जिसे 29 जुलाई 2020 को भारत के केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा अनुमोदित किया गया था, भारत की नई शिक्षा प्रणाली के दृष्टिकोण को रेखांकित करता है। इस नई शिक्षा नीति का उद्देश्य 2040 तक भारत की शिक्षा प्रणाली को बदलना है और अब शिक्षा को देश में आगे बढ़ाने के लिए एक नई पहल की गई है। इस नई योजना को लेकर भारत में गूगल के शीर्ष अधिकारियों और केंद्रीय शिक्षा मंत्री के बीच एक अहम बैठक भी हो चुकी है। जहां गूगल इंडिया और शिक्षा मंत्रालय छात्रों और देश भर के विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों को तकनीकी सहायता प्रदान करने के लिए मिलकर काम करने की योजना बना रहे हैं।

यह साझेदारी ना केवल भारत के छात्रों को मजबूत बनाएगी बल्कि उन्हें क्लासरूम के बाहर भी तकनीकी तौर से सशक्त बनाएगी। साथ ही, भारतीय युवा वैश्विक प्रौद्योगिकी और भविष्य के कौशल से लैस होंगे। गूगल ने शिक्षा के संबंध में भारत में लनिर्ंग प्लेटफॉर्म्स पर 50 से अधिक नई सुविधाएं शुरू की हैं। जैसे:फीचर अपडेट, एडटेक, बेस्ट एडटेक इंडिया, ऑफलाइन कॉन्टेंट, गूगल क्लासरूम, गूगल मीट अपडेट, एजुकेशन न्यूज आदि।

Keep Reading Show less

दुनिया में होने वाली घटनाएं हमारे दिमाग के अंदर की दुनिया को कैसे प्रभावित कर सकती हैं। (pixabay)

यूनिसेफ की रिपोर्ट 'द स्टेट्स ऑफ द वल्र्डस चिल्ड्रन 2021' में कहा गया है किमानसिक स्वास्थ्य पर कोविड-19 महामारी ने बच्चों और उनके परिवारों के मानसिक स्वास्थ्य को लेकर गंभीर चिंताएं पैदा कर दी हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 15 से 24 साल के लगभग 14 फीसदी या 7 में से 1 बच्चे अक्सर तनाव महसूस करते हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को यहां रिपोर्ट जारी की।
रिपोर्ट ने साफ किया है कि दुनिया में होने वाली घटनाएं हमारे दिमाग के अंदर की दुनिया को कैसे प्रभावित कर सकती हैं।

21 देशों में यूनिसेफ के सर्वेक्षण में, भारत में केवल 41 प्रतिशत युवा मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए समर्थन लेने के इच्छुक थे, जबकि 21 देशों के लिए यह औसत 83 प्रतिशत था।

रिपोर्ट जारी करते हुए मंत्री मंडाविया ने कहा, "हमारी सनातन संस्कृति और आध्यात्मिकता में मानसिक स्वास्थ्य की व्यापक रूप से चर्चा की गई है। हमारे ग्रंथों में मन और शरीर के पारस्परिक विकास की व्याख्या की गई है। स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन का निवास होता है। हमें बहुत खुशी है कि आज यूनिसेफ ने बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर एक वैश्विक रिपोर्ट जारी की है।"
केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा कि जैसे-जैसे हमारे समाज में संयुक्त परिवार की बजाय एकल परिवार का चलन बढ़ा है, बच्चों में मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं अक्सर हो गई हैं। आज माता-पिता अपने बच्चे को पर्याप्त समय नहीं दे पा रहे हैं, इसलिए हमें मानसिक स्वास्थ्य के बारे में बात करने की जरूरत है। हमें बताया गया है कि दुनिया भर में लगभग 14 प्रतिशत बच्चों को मानसिक स्वास्थ्य समस्या है। यह गंभीरता से लेना होगा।"

साथ ही मंडाविया ने कहा, "बेहतर और विकसित समाज के निर्माण के लिए जरूरी है कि समय-समय पर बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य की निगरानी की जाए। इसके लिए स्कूलों में शिक्षकों के बेहतर मानसिक स्वास्थ्य की भी व्यवस्था करनी होगी। क्योंकि, बच्चे अपने शिक्षकों पर सबसे ज्यादा भरोसा करते हैं।"

अपने अनुभव को साझा करते हुए मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री के रूप में उन्हें दूसरी लहर के दौरान मानसिक दबाव का सामना करना पड़ा।

उन्होंने कहा, "लोगों की समस्याओं ने मुझे झकझोर दिया। उसके बाद मैंने सुबह योग और साइकिल चलाना शुरू किया। मेरा आप सभी से अनुरोध है कि आप भी अपने मन की समस्याओं की जांच करें और उसकी बेहतरी के लिए काम करें। अपने बच्चों के साथ घर पर पर्याप्त समय बिताएं। उनसे दोस्ताना माहौल में बात करें।"
यूनिसेफ और गैलप द्वारा 2021 की शुरूआत में 21 देशों में 20,000 बच्चों और वयस्कों के साथ किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में बच्चे मानसिक तनाव के लिए समर्थन लेने में हिचकिचाते हैं। भारत में 15-24 वर्ष की आयु के बीच केवल 41 प्रतिशत युवाओं ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के लिए सहायता प्राप्त करना अच्छा है, जबकि 21 देशों के लिए यह औसत 83 प्रतिशत है।

Keep Reading Show less

ग्रामीण आबादी का पूर्ण विकास और सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण सुनिश्चित करने के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं। (pixabay)

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय गांवों में शिक्षा के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए ठोस कदम उठाने जा रहा है। इसके अंतर्गत गांवों के स्कूलों में इंटरनेट कनेक्टिविटी को बढ़ावा दिया जाएगा। शिक्षा मंत्रालय के अनुसार यह छात्रों के बीच डिजिटल अंतर को कम करने का एक प्रयास है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में शिक्षा के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने, गांवों में इंटरनेट कनेक्टिविटी को बढ़ाने, ग्रामीण आबादी का पूर्ण विकास और सामाजिक-आर्थिक सशक्तिकरण सुनिश्चित करने के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।

छात्रों के बीच डिजिटल अंतर को कम करने के लिए शिक्षा मंत्रालय डिजिटल शिक्षा को मजबूत करने पर विशेष ध्यान दे रहा है। अब डिजिटल ढांचे का नया पैटर्न क्षेत्रीय भाषाओं पर भी आधारित होगा इसका लक्ष्य डिजिटल शिक्षा में अधिक से अधिक अंतर्भाव लाना और डिजिटल शिक्षा को आम लोगों तक पहुंचाना है।

Keep reading... Show less