Saturday, June 12, 2021
Home दुनिया शेख हसीना ने कहा, रोहिंग्याओं के प्रत्यावर्तन के लिए म्यांमार के साथ...

शेख हसीना ने कहा, रोहिंग्याओं के प्रत्यावर्तन के लिए म्यांमार के साथ कर रहे बातचीत

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि रोहिंग्याओं की शांतिपूर्ण वापसी के लिए देश म्यांमार के साथ बातचीत कर रहा है।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कहा है कि रोहिंग्याओं की शांतिपूर्ण वापसी के लिए देश म्यांमार के साथ बातचीत कर रहा है। प्रधानमंत्री हसीना ने बांग्लादेश की दोस्ताना विदेश नीति को दोहराया और पड़ोसी म्यांमार के साथ चर्चा के माध्यम से जबरन-विस्थापित रोहिंग्याओं के प्रत्यावर्तन के लिए नए सिरे से काम किए जाने पर जोर दिया। हसीना ने रक्षा सेवा कमान और स्टाफ कॉलेज (डीएससीएससी) 2020-2021 पाठ्यक्रम के स्नातक समारोह में भाग लेते हुए यह टिप्पणी की।

प्रधानमंत्री ने गुरुवार को यहां गणभवन से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समारोह में भाग लेते हुए कहा, “हम राष्ट्रपिता की विदेश नीति का पालन करते हैं – ‘सभी से मित्रता, किसी के प्रति द्वेष नहीं’ और अंतर-देशीय संबंधों को उच्चतम स्तर तक ले जाने के लिए हमारी सरकार बहुत सक्रिय है।” बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की ऐतिहासिक भूमिका का उल्लेख करते हुए, प्रधानमंत्री ने कहा, “हम इस नीति के अनुरूप अच्छे संबंधों को बनाए रखते हुए आगे बढ़ रहे हैं। आज, कोई भी देश यह दावा नहीं कर सकता है कि उसके बांग्लादेश के साथ शत्रुतापूर्ण संबंध हैं।”हसीना ने जोर दिया कि बांग्लादेश सभी के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों को आगे बढ़ा रहा है।  उन्होंने कहा, “बांग्लादेश तुरंत रोहिंग्याओं का प्रत्यावर्तन (स्वदेश वापसी) चाहता है।” हसीना ने कहा, “हम बातचीत के माध्यम से उनके नागरिकों के प्रत्यावर्तन को लेकर म्यांमार के साथ बातचीत कर रहे हैं। हम एक दोस्ताना रवैये के साथ ऐसा कर रहे हैं।” 

rohingya
बांग्लादेश में 7 लाख से ज्यादा रोहिंग्याओं मौजूद हैं । ( Wikimedia Commons )

 

यह भी पढ़ें : अल्पसंख्यकों के पवित्र स्थलों का नवीनीकरण कर रहा पाकिस्तान

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री ने दोहराया कि वह चाहते हैं कि वे अपने नागरिकों को वापस लें। उन्होंने कहा, “क्षेत्रीय सुरक्षा और विकास के हित में, हमने म्यांमार के नागरिकों को जबरन विस्थापित करने के लिए किसी के साथ कोई संघर्ष नहीं किया है और उनकी वापसी की व्यवस्था कर रहे हैं।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि विस्थापित म्यांमार के नागरिकों को आश्रय देने के लिए पूरी दुनिया ने बांग्लादेश की प्रशंसा की है। 25 अगस्त, 2017 को अपने गृह नगर राखीन में एक सैन्य कार्रवाई शुरू होने के कुछ महीनों के भीतर सात लाख से अधिक रोहिंग्याओं ने बांग्लादेश में शरण ली थी। वे देश में पहले से मौजूद चार लाख रोहिंग्याओं में शामिल हो गए थे। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री के दबाव के कारण म्यांमार सरकार ने 2017 के अंत में बांग्लादेश के साथ रोहिंग्याओं को वापस लेने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन प्रत्यावर्तन प्रक्रिया अभी तक जमीन पर उतरने में विफल रही है। हाल ही में म्यांमार ने यह सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्था बनाने पर सहमति व्यक्त की है कि रोहिंग्या सुरक्षा, गरिमा और नागरिक अधिकारों के साथ अपने देश लौट सकते हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी