Monday, January 25, 2021
Home व्यक्ति विशेष इंडिक्टिंग गोलियथ के लेखक समाज में लाना चाहते हैं बदलाव

इंडिक्टिंग गोलियथ के लेखक समाज में लाना चाहते हैं बदलाव

लाल भाटिया ने अपनी पुस्तक की बिक्री का कुछ हिस्सा कई नेक कामों में लगाया है। उनकी पुस्तक अमेरिका के लगभग 21 न्यायालयों में व्यापक मुकदमेबाजी की बुनियाद पर स्थापित तथ्यों, सबूतों और गवाही पर आधारित है।

लाल भाटिया अपनी पुस्तक इंडिक्टिंग गोलियथ के कारण काफी लोकप्रिय हुए। यह किताब एक ऐसे व्यक्ति की वास्तविक जीवन की कहानी है, जिसने अमेरिका में कोई वकील के बिना न्याय के लिए लड़ाई लड़ी, जब उसके खिलाफ धोखाधड़ी और झूठे आरोप लगाए गए थे। अपनी पुस्तक की बिक्री का कुछ हिस्सा उन्होंने कई नेक काम में लगाया जैसे पश्चिम बंगाल में विभिन्न लड़कियों के स्कूलों और कॉलेजों में सेनेटरी पैड वेंडिंग मशीन दान की, कोलकाता में जरूरतमंद लोगों को भोजन वितरित किया और हाल ही में मनाए गए दुर्गा पूजा में हजारों फेस मास्क भी वितरित किए।

उन्होंने कहा, सैनिटरी नैपकिन हर महिला की जरूरत है। यह एक आवश्यक वस्तु है और हर लड़की को इस तक पहुंच होनी चाहिए। मुझे लगता है कि बहुत सी गरीब युवा लड़कियों तक नैपकिन की पहुंच नहीं है और इसलिए मुझे लगा कि इंडिक्टिंग गोलियथ टीम को इस शून्य को पूरा करने की जरूरत है। हमने पश्चिम बंगाल के विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों में सेनेटरी नैपकिन वेंडिंग मशीनें लगाईं। मुझे खुशी है कि युवा लड़कियों को आवश्यक सुविधाएं मिलेंगी।

यह भी पढ़ें – राष्ट्रीय शिक्षा दिवस- मौलाना अबुल कलाम आज़ाद की ज़ुबानी

इस बीच आपको बता दें कि, भाटिया की पुस्तक अमेरिका के लगभग 21 न्यायालयों में व्यापक मुकदमेबाजी की बुनियाद पर स्थापित तथ्यों, सबूतों और गवाही पर आधारित है। लेखक लाल भाटिया को प्रताड़ित किया गया, पीड़ित किया गया, गलत तरीके से दोषी ठहराया गया और गलत तरीके से कैद किया गया। भाटिया को अपनी बेगुनाही साबित करने और भारत लौटने में 13 साल लग गए।

The authors of Indicating Goliath want to bring change in society
इंडिक्टिंग गोलियथ। (Facebook)

लाल भाटिया ने कहा, मैंने इन 13 वर्षों के सफर के दौरान किताब लिखी। मैंने हर मिनट का विवरण दिया और अपने दावे का समर्थन करने के लिए अविवादित तथ्यों और सबूतों को एकत्र किया और इसे किताब से जोड़ दिया। नोशन प्रेस एकमात्र प्रकाशन कंपनी थी, जो इस किताब को प्रकाशित करने के लिए सहमत थी क्योंकि यह किताब सिस्टम के अंधेरे पक्ष को उजागर करती है।

यह भी पढ़ें – अमेरिकी चुनावी नतीजे भारत से संबंध पर असर नहीं डालेंगे

उन्होंने कहा, यह एक तेरह साल की परेशान करने वाली यात्रा थी, जो अव्यवस्था के खतरों से गुजर रही थी, जिसने मेरी ईमानदारी और धीरज का परीक्षण किया। किसी ने भी यह नहीं मूल्यांकन किया कि किसी व्यक्ति पर अपराध का इल्जाम लगा देना एक घोटाला हो सकता है और यह किसी शक्तिशाली को बचाने के लिए एक कदम हो सकता है जो इस पूरे मामले में जुड़ा हुआ हो।

इस पुस्तक में अमेरिकी प्रशासन में घोर अन्याय और कई खामियों को प्रकाश में लाने के लिए भाटिया द्वारा किए गए प्रयासों का उल्लेख है। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी