Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

कौन थे “भुले भटके शिविर” वाले बाबा?

इस संसार में नाम से बड़ा काम होता है। इंसान के काम से ही उसकी पहचान होती है। आज हम ऐसे ही एक व्यक्ति के बारे में बात करेंगे जिनका काम ही उनका नाम बन गया।

राजाराम तिवारी (Rajaram Tiwari) द्वारा शुरू किया गया “भुले भटके शिविर” ने कई बिछड़े लोगों को उनके परिवार जनों से मिलाने का काम किया है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

मैथलीशरण गुप्त की एक कविता आप सभी को याद होगी कि “नर हो, न निराश करो मन को, कुछ काम करो, कुछ काम करो, जग में रह कर कुछ नाम करो।

इस संसार में नाम से बड़ा काम होता है। इंसान के काम से ही उसकी पहचान होती है। आज हम ऐसे ही एक व्यक्ति के बारे में बात करेंगे जिनका काम ही उनका नाम बन गया। 


“भूले भटके” नाम से मशहूर राजाराम तिवारी जिन्होंने अपने काम से लाखों लोगों के जीवन को बर्बाद होने से बचाया। कौन हैं राजाराम तिवारी? आखिर कैसे लोगों ने इनके असली नाम को भुलाकर इन्हें भूले भटके तिवारी, भूल भटके बाबा आदि जैसे नाम दे दिए। 

हम सभी जानते हैं कि कुंभ मेले आदि जैसे भव्य समारोह में बड़ी संख्या में लोग एकत्रित होते हैं। ऐसे में कई बार लोग अपने परिजनों से बिछड़ जाते हैं, छोटे बच्चे अपने माता – पिता से बिछड़ जाते हैं। ऐसे में राजाराम तिवारी (Rajaram Tiwari) द्वारा शुरू किया गया “भुले भटके शिविर” ने कई बिछड़े लोगों को उनके परिवार जनों से मिलाने का काम किया है। संगम किनारे बांध के नीचे बना यह “भुले भटके शिविर” पर लोगों को इतना विश्वास है कि अगर वह अपने प्रियजनों से बिछड़ भी जाए तो वहां उस शिविर में अवश्य मिल जाएंगे। 

कुंभ मेले आदि जैसे भव्य समारोह में बड़ी संख्या में लोग एकत्रित होते हैं। ऐसे में कई बार लोग अपने परिजनों से बिछड़ जाते हैं, छोटे बच्चे अपने माता – पिता से बिछड़ जाते हैं। (Wikimedia Commons)

शिविर की शुरुआत कैसे हुई? 

हुआ कुछ यूं कि एक बार राजाराम अपने दोस्तों के साथ माघ स्नान के लिए इलाहाबाद (Allahabad) आए हुए थे। प्रत्येक वर्ष की भांति करोड़ों लोगों की भीड़ से इलाहाबाद जगमगा उठा था। लेकिन उसी भीड़ में एक बुजुर्ग महिला अपने परिवार से बिछड़ गई थी। जब राजाराम तिवारी ने उस महिला को देखा तो उनसे उस महिला की हालात देखी नहीं गई और उन्होंने फैसला किया कि बुजुर्ग महिला को उनके परिवार वालों से मिला कर के ही दम लेंगे। 

राजाराम तिवारी ने अपनी सूझबूझ से एक ‘टीन’ का भोंपू बनाया और चिल्ला – चिल्ला कर बुजुर्ग महिला का नाम लेने लगे ताकि उनके परिवार वालों तक उनका संदेश पहुंच सके। आपको बता दें कि यही वह क्षण था जब राजाराम तिवारी की जिंदगी ने एक नया मोड़ लिया था। राजाराम ने उस बुजुर्ग महिला को उनके परिवार जनों से तो मिला दिया था, लेकिन इस घटना के बाद राजाराम ने गहन विचार किया और अपने दोस्तों से कहा कि मेले में ऐसे कई लोग होंगे जो अपने परिवार, अपने माता – पिता से बिछड़ गए होंगे। क्यों न उन्हीं लोगों के लिए कुछ किया जाए? 

जिसके बाद यहीं से उन्होंने अपने भारत सेवा दल संस्था की नींव रखी और आज इस शिविर को “भुले भटके शिविर” या “खोया पाया शिविर” के नाम से जाना जाता है|

इस संस्था की वेबसाइट के मुताबिक जब से यह संस्था शुरू हुई यानी 1946 से लेकर अब तक यह करीब 25 लाख से भी ज्यादा बिछड़े लोगों को उनके परिजनों से मिला चुका है। राजाराम ने अपने जीवन के 71 साल, भटके लोगों को उनके परिजनों से मिलाने में गुजार दिए। यही कारण है कि लोग इनका वास्तविक नाम भूलकर इन्हें भुले भटके बाबा के नाम से जानने लगे। 

राजाराम तिवारी उर्फ भुले भटके बाबा। जो आज मर कर भी अमर हो गए हैं। कई लोगों के दिलों में जिंदा हैं। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

यह भी पढ़ें :- आखिर कौन है हिन्दू?

राजाराम तिवारी को उनके इस सराहनीय कार्य के लिए पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था। साथ ही अब उनके जीवन पर एक फिल्म का भी निर्माण होने वाला है। दंगल फिल्म के निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर ने राजाराम तिवारी के जीवन पर फिल्म बनाने की घोषणा कर चुके हैं। 

आपको बता दें कि अपने जीवन को दूसरों के नाम करने वाले राजाराम तिवारी का 88 वर्षीय अवस्था में 2016 में ही निधन हो गया था। भले ही राजाराम तिवारी आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनके द्वारा शुरू किया गया यह कार्य, यह मिशन आज भी बरकरार है। अब यह शिविर उनके छोटे पुत्र व शिक्षक उमेश तिवारी द्वारा संचालित किया जा रहा है। 

हमारे देश में बड़ी हस्तियों और उनके द्वारा किए गए कार्यों को तो सब जानते हैं। लेकिन एक छोटी सी जगह से निकलकर और अपनी बड़ी सोच से दूसरों के लिए कुछ कर गुजरने वाले बहुत कम लोग होते हैं। उन्हीं में एक थे राजाराम तिवारी उर्फ भुले भटके बाबा। जो आज मर कर भी अमर हो गए हैं। कई लोगों के दिलों में जिंदा हैं। 

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less