Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

पाकिस्तान के कराची में हिन्दू संपत्ति को बेचने के लिए जाली दस्तावेज़ बनाने का मामला आया सामने

मुख्य न्यायधीश गुलज़ार अहमद ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान पूछा , "अल्पसंख्यकों की संपत्ति किस कानून के तहत बेची जा रही है"?

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट, इस्लामाबाद (Wikimedia Commons)

पाकिस्तान(Pakistan) के कराची में हिन्दू(Hindu) संपत्ति की बिक्री के लिए जाली दस्तावेज़ तैयार करने का मामला सामने आया है। मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट(Paksitan Supreme Court) ने इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड के अध्यक्ष को इस मामले पर स्पष्टीकरण देने के लिए मंगलवार को कोर्ट में पेश होने को कहा है।

मुख्य न्यायधीश गुलज़ार अहमद ने एक याचिका की सुनवाई के दौरान पूछा , "अल्पसंख्यकों(Minorities) की संपत्ति किस कानून के तहत बेची जा रही है"? उन्होंने आगे पूछा की अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित संपत्तियों के संरक्षण के बारे में शीर्ष अदालत के निर्देशों को लागू क्यों नहीं किया जा रहा है।


पाकिस्तानी न्यूज़ एजेंसी के अनुसार याचिकाकर्ता ने साल 2014 के एक फैसले के कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया था , जिसमें स्कूलों और कॉलेजों के लिए पाठ्यक्रम विकसित करके समाज में धार्मिक और सांस्कृतिक सहिष्णुता को बढ़ावा देने के लिए सरकार को शीर्ष अदलात दिशानिर्देश दिए गए थे।

फैसले में सहिष्णुता को बढ़ावा देने और अल्पसंख्यकों के पूजा स्थलों की सुरक्षा के लिए एक पुलिस इकाई की स्थापना के लिए एक टास्क फोर्स का प्रस्ताव दिया गया था।

याचिकाकर्ता ने एक जांच का हवाला देकर दवा किया की ईटीबीपी ने यह साबित करने के लिए जाली दस्तावेज बनाए थे कि सिंध विरासत विभाग ने कराची में हिंदू तीर्थयात्रियों के लिए एक धर्मशाला, एक शरण स्थल के विध्वंस के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) जारी किया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि 716 वर्ग गज में फैली जमीन को एक शॉपिंग सेंटर के निर्माण के लिए एक बिल्डर को सौंप दिया गया था।

sindh government, pakistan, minorities सिंध की सरकार (Wikimedia Commons)

सुप्रीम कोर्ट ने सिंध सरकार(Sindh Government) और ईटीबीपी को कराची के सदर में स्थित हिन्दू धर्मशाला को नहीं गिराने का निर्देश दिया था। रिपोर्ट में कहा गया है की शीर्ष अदालत ने कराची के आयुक्त को धर्मशाला को कब्ज़े में लेने का आदेश दिया था ताकि कोई उसपे अतिक्रमण न कर सके।

अपने आवेदन में याचिकर्ता ने शीर्ष अदालत से परिसर का नियंत्रण पास के बघानी मंदिर के प्रबंधन को हस्तांतरित करने का अनुरोध किया। उन्होंने संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) द्वारा दस्तावेजों की कथित जालसाजी और ईटीपीबी द्वारा विरासत संपत्ति के विध्वंस की जांच की भी मांग की।

आवेदक ने कहा कि इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड ने अदालत के निर्देश का पालन नहीं किया था कि ईटीपीबी ने (पीएचसी) को 38 मिलियन पीकेआर की राशि जारी की, जो उसने श्री परमहंस दयाल की समाधि (मंदिर) के निर्माण और बहाली पर खर्च की थी।

केपी सरकार ने पीएचसी को बहाली कार्य के लिए 20 लाख पीकेआर का अनुदान दिया था, जिस पर कुल 40 लाख पीकेआर खर्च हुआ।

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया, "दुर्भाग्य से ईटीपीबी ने पीएचसी को 38 मिलियन पीकेआर की शेष राशि का भुगतान नहीं किया है, हालांकि आदेश जारी हुए आठ महीने बीत चुके हैं।"

उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से पीएचसी को 38 मिलियन पीकेआर के भुगतान के लिए ईटीपीबी को एक नया निर्देश जारी करने और संगठन के खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू करने का आग्रह किया।

आवेदक ने अदालत को सूचित किया कि कुल 1,831 मंदिर और गुरुद्वारे ईटीपीबी के अधिकार क्षेत्र में हैं, लेकिन उनमें से केवल 31 का उपयोग इन दिनों पूजा के लिए किया जा रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि शेष को या तो बंद कर दिया गया है, अतिक्रमण कर लिया गया है या किसी तीसरे पक्ष को पट्टे पर दे दिया गया है।

याचिकाकर्ता ने शिकायत की थी कि महबूब काजी नाम के एक व्यक्ति ने, जिसने खुद को सरकारी कर्मचारी होने का दावा किया था, उसे जान से मारने की धमकी दी थी। याचिकाकर्ता ने कहा, "उनके (काजी के) हमलावर पिछले हफ्ते कराची के बाथ आइलैंड में मेरे अपार्टमेंट में आए और मेरे गार्ड को पीटा।"

यह भी पढ़ें- केरल का एक धर्मनिरपेक्ष मंदिर-सबरीमाला

सुप्रीम कोर्ट ने सिंध के महानिरीक्षक को मंगलवार को धमकियों के बारे में एक रिपोर्ट सौंपने को कहा।

Input-IANS; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

रिपोर्ट के अनुसार, एप्पल छोटी और लंबी दूरी के वायरलेस चाजिर्ंग उपकरणों पर काम कर रहा है। (Pixabay)

एप्पल (Apple) कथित तौर पर एक ऐसे चार्जर पर काम कर रहा है जो एक साथ कई डिवाइस, एक आईफोन, एयरपोड्स और वॉच को पावर दे सकता है।

मैकरियूमर्स की रिपोर्ट के अनुसार, 'पावर ऑन' न्यूजलेटर के लेटेस्ट एडीशन में मार्क गुरमन ने कंपनी की भविष्य की वायरलेस चाजिर्ंग तकनीक के बारे में कुछ दिलचस्प जानकारी का खुलासा किया।

उन्होंने लिखा, "मेरा यह भी मानना है कि एप्पल (Apple) छोटी और लंबी दूरी के वायरलेस चाजिर्ंग उपकरणों पर काम कर रहा है और यह एक ऐसे भविष्य की कल्पना करता है जहां एप्पल के सभी प्रमुख उपकरण एक-दूसरे को चार्ज कर सकते हैं। कल्पना कीजिए कि एक आईपैड एक आईफोन चार्ज कर रहा है और फिर वह आईफोन एयरपोड्स या एक एप्पल घड़ी चार्ज कर रहा है।"

apple , wireless charger, Iphone, iPod Chargers एप्पल कथित तौर पर एक ऐसे चार्जर पर काम कर रहा है जो एक साथ कई डिवाइस को पावर दे सकता है। [Wikimedia Commons]

Keep Reading Show less

झारखंड के नोआमुंडी में खदान की कमान महिलाओं के हाथ में सौंपेगी टाटा स्टील कंपनी। [Wikimedia Commons]

टाटा स्टील (Tata Steel) कंपनी झारखंड में लौह अयस्क की एक खदान की कमान पूरी तरह महिलाओं के हाथ में होगी। फावड़ा से लेकर ड्रिलिंग तक और डंपर चलाने से लेकर डोजर-शॉवेल जैसी हेवी मशीनों का संचालन कुशल महिला कामगारों के द्वारा किया जाएगा। नये साल यानी 2022 में पश्चिम सिंहभूम जिले की नोआमुंडी आयरन ओर माइन्स को पूरी तरह महिलाओं के हाथ में सौंपने की तैयारी पूरी कर ली गयी है। ऐसा प्रयोग देश में पहली बार हो रहा है।

टाटा स्टील (Tata Steel) के आयरन ओर एंड क्वेरीज डिविजन के महाप्रबंधक ए. के. भटनागर ने पत्रकारों को बताया कि नोआमुंडी स्थित कंपनी की आयरन ओर माइन्स में सभी शिफ्टों के लिए 30 सदस्यों वाली महिलाओं की टीम की तैनाती की जा रही है। खदान को स्वतंत्र रूप से महिलाओं के हाथों संचालित करने का यह टास्क कंपनी ने महिला सशक्तीकरण की परियोजना तेजस्विनी-2.0 के तहत लिया था और अब इसे सफलतापूर्वक लागू करने की तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं।

Keep Reading Show less

इस साल देश में हिरासत में कुल 151 मौतें हुई हैं। (सांकेतिक चित्र, File Photo )

इस साल देश में हिरासत(police custody)में कुल 151 मौतें हुई हैं। केंद्र ने लोकसभा(Loksabha) में मंगलवार को यह जानकारी दी। बीजेपी सांसद वरुण गांधी के सवाल का जवाब देते हुए गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय(Nityanand Rai)ने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) के मुताबिक 15 नवंबर तक पुलिस हिरासत में मौत के 151 मामले दर्ज किए गए हैं।

महाराष्ट्र में पुलिस हिरासत(police custody) में सबसे अधिक (26) मौतें हुईं हैं, उसके बाद गुजरात (21) और बिहार (18) का स्थान रहा है। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में पुलिस हिरासत में 11-11 लोगों की मौत की खबर है।

Keep reading... Show less