Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
थोड़ा हट के

क्या आप जानते हैं कि धरती पर रह रहा, सबसे पुराना जीव कौन है ?

UWA के वैज्ञानिकों के अनुसार भूमध्य सागर के तल पर उगने वाले समुद्री घास (Seagrass) धरती पर रह रहे सबसे प्राचीन जीव हो सकते हैं।

समुद्री घास ही तटीय पारिस्थितिक तंत्रों की नींव होते हैं। (Unsplash)

कहा जाता है कि तस्मानियाई पौधे (Tasmanian plant) लगभग साठ हज़ार वर्ष पुराने हैं। पर वैज्ञानिकों ने कुछ ऐसा खोज निकाला है जो उन तस्मानियाई पौधों से भी अत्यंत प्राचीन है।

असल में, भूमध्य सागर (Mediterranean Sea) के तल पर उगने वाले समुद्री घास, इस ग्रह के सबसे प्राचीन, धरती पर रहने वाले जीव हो सकते हैं। यह दावा मेरा नहीं बल्कि, ऑस्ट्रेलिया और यूरोप के वैज्ञानिकों ने इस दिशा में शोध कर, ऐसा अनुमान लगाया है। 


तो क्यों ना पहले मैं आपको भूमध्य सागर के संबंध में भी कुछ तथ्यात्मक बातें बता दूँ। 

भूमध्य सागर

भूमध्य का अर्थ हुआ धरती के मध्य का भाग। प्राचीन काल में यूनान, रोम, अरब, स्पेन जैसे देशों के बीच स्थित होने के कारण इसका यह नाम पड़ा। भूमध्य सागर का क्षेत्रफल, भारत के क्षेत्रफल का तकरीबन तीन-चौथाई है। और वर्तमान में यह अटलांटिक महासागर से जुड़ा हुआ है। 

यह भी पढ़ें – मेरा मानसिक स्वास्थ्य, हाय तौबा ज़िंदाबाद !

भूमध्य सागर। (Twitter)

एक लाख साल पुराने

अब पुनः वैज्ञानिकों की छानबीन की बात करें तो, शोधकर्ताओं का कहना है कि उनके अध्ययन से यह बात साफ होती है कि यह जलमग्न वनस्पतियां लगभग ‘ एक लाख साल ’ पुरानी हैं।

चिरंजीवी अस्तित्व का मूल कारण 

वैज्ञानिकों का कहना है कि सेल्फ-क्लोनिंग और अलैंगिक रूप से खुद को जन्म देने की क्रिया को करने की क्षमता ही, इनके चिरंजीवी अस्तित्व का मूल कारण है। 

जिन जगहों पर शोधकर्ताओं ने जांच की है, वो सतह दस हज़ार साल से सूखी है और उस वक़्त समुद्र का स्तर आज के मुकाबले सौ मीटर कम हुआ करता था।

वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया यूनिवर्सिटी (UWA)

अध्ययन का नेतृत्व पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया विश्वविद्यालय के महासागर संस्थान द्वारा किया गया था। पेश की गयी रिपोर्ट को प्लॉस वन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

आपको बता दूँ कि सागर के निचले भाग में उगने वाले समुद्री घास ही तटीय पारिस्थितिक तंत्रों (coastal ecosystems) की नींव होते हैं। निराशाजनक बात है कि यह समुद्री घास पिछले बीस सालों से अपने पतन की ओर लगातार बढ़ रहे हैं। 

वैज्ञानिकों ने अपनी चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि यह जीव भी अब जलवायु के बदलते चक्र में खुद को ढालने में असमर्थ साबित होंगे। 

यह आर्टिक्ल VOA पर छपे एक अंग्रेज़ी लेख से प्रेरित है।

Popular

देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। [pixabay]

दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने अब भारत में भी दस्तक दे दी है। मामले की गंभीरता आप इस बात से समझ सकते हैं कि देश के टॉप साइंटिस्ट ने शुक्रवार को यह चेतावनी तक दे दी है कि यह वेरिएंट देश में तीसरी लहर ला सकता है। बता दें कि देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। ये दोनों मरीज कर्नाटक से हैं। इनमे से एक शख्स 66 साल का विदेशी है जो 20 नवंबर को बैंगलुरु आया था। कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद इसे प्राइवेट होटल में आइसोलेट कर दिया गया, जिसके बाद 27 नवंबर को ये शख्स दुबई लौट गया। वहीं 46 साल का जो दूसरा शख्स ओमिक्रॉन वेरिएंट से प्रभावित है, वो स्थानीय है और 22 नवंबर को ये पॉजिटिव पाया गया था। फिलहाल इनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के लिए भेजे गए हैं। अब आइये जानते हैं कि क्या होती है जीनोम सिक्वेंसिंग।

जीनोम सिक्वेंसिंग क्या है ?

Keep Reading Show less

हेल्थ स्टार्टअप्स ने भारत के सेकेंडरी केयर सर्जरी मार्केट का लाभ उठाया। [IANS]

हेल्थकेयर स्टार्टअप्स (Healthcare Startups) ने भारत में स्वास्थ्य देखभाल की सुविधाओं पर विशेष ध्यान देने के साथ देश में सेकेंडरी केयर सर्जरी बाजार में तेजी ला दी है। सर्जरी स्वास्थ्य देखभाल खर्च और सेकेंडरी केयर सर्जरी के साथ बढ़ते बाजार का सबसे बड़ा हिस्सा है।

प्रिस्टिन केयर, प्रैक्टो और मिरास्केयर जैसे हेल्थकेयर स्टार्टअप्स ने ऐसे तकनीकी प्लेटफॉर्म तैयार किए हैं, जो सस्ते दामों पर डॉक्टरों, ग्राहकों और अस्पतालों को जोड़ते हैं।

ये स्टार्टअप (Healthcare Startups) ऑनलाइन चिकित्सा सलाह प्रदान करते हैं और उसके बाद यदि आवश्यक हो तो देशभर के छोटे अस्पतालों में हर्निया, बवासीर, पित्त पथरी आदि जैसी बीमारियों के लिए गैर-महत्वपूर्ण न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी की जरूरत होती है, जो महानगरों के बड़े अस्पतालों की तुलना में कम क्षमता पर चलते हैं।

प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care), जो जनवरी 2021 से लगभग पांच गुना बढ़ चुका है, इस क्षेत्र में अग्रणी है। इसमें 80 से अधिक क्लीनिकों, 400 से अधिक साझेदार अस्पतालों और 140 से अधिक इन-हाउस सुपर स्पेशियलिटी सर्जनों का एक पारिस्थितिकी तंत्र है। यह देशभर के 22 से अधिक शहरों में काम करता है।

हाल ही में आए मिरास्केयर क्लीनिक एंड सेंटर भी उन्नत सामान्य, लेप्रोस्कोपिक सर्जरी और प्रोक्टोलॉजी में उपचार की एक सीरीज प्रदान करता है।

Memorial Hospital Central, hopitals in india, online health facilities पूरे भारत में 2,000 बड़े आकार के अस्पतालों में पहले से ही ऐसी सुविधाएं हैं। [Wikimedia Commons]

Keep Reading Show less
कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रोन डेल्टा वेरिएंट से 30 गुना ज्यादा खतरनाक माना जा रहा है। (Wikimedia Commons)

भारत, जापान, मलेशिया, सिंगापुर और दक्षिण कोरिया में अब ओमिक्रॉन(omicron)के मामले सामने आए हैं और हर गुजरते घंटे के साथ नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं जिसको देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि एशिया-प्रशांत(Asia Pacific) क्षेत्र के देशों को स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने और अपने लोगों को टीकाकरण(vaccination) पर ध्यान पर करने की जरूरत है, क्योंकि ओमिक्रोन वेरिएंट विश्व स्तर पर फैलता जा रहा है और नए क्षेत्रों में प्रवेश कर रहा है।

WHO, covid-19 विश्व स्वास्थ्य संगठन का संकेत (Pixabay)

Keep reading... Show less