Tuesday, June 15, 2021
Home थोड़ा हट के एक ऐसा अरबपति जिसकी इच्छा है 'निर्धन मरने की'

एक ऐसा अरबपति जिसकी इच्छा है ‘निर्धन मरने की’

दान और योगदान में बहुत कम अंतर होता है। चक फीनी उन व्यक्तियों में से हैं जिन्होंने दान को सबसे बड़ा योगदान समझा है और यही वजह है कि उन्होंने अपनी पूरी संपत्ति दान कर दी।

पैसा हमारे जीवन में अहम महत्व रखता है। बिना पैसे के समाज में कोई आप की तरफ देखता भी नहीं क्योंकि उन्हें अपने रुतबे और धन का अहंकार का घमंड होता है। किन्तु विश्व में कुछ ऐसे भी व्यक्ति हैं जिन्हे पैसे और संपत्ति का कोई मोह नहीं। दान देना उनके लिए सर्वोपरि कर्त्तव्य है, चक फीनी यही सोच रखने वाले व्यक्ति हैं। चक ने अपनी सारी जमा-पूंजी जो कि अरबों में थी वह दान कर दी। उन्होंने अपने कमाए हुए पैसों को इसलिए दान कर दिया क्योंकि उन्हें निर्धन मरना था।

संत कबीर लिखते हैं कि “मन लागो मेरो यार फकीरी में।” और इसी पंक्ति के सटीक उदाहरण हैं चक फीनी। उन्होंने न कभी महंगे कपड़े पहने, न ही महँगी घड़ियाँ पहनी और न ही लम्बी ‘आलीशान’ गाड़ियों में घूमे। किन्तु पैसा कमाने का जूनून और दान करने का भाव उनमे भरपूर मात्रा में मौजूद है। चक फीनी ने लगभग $8 बिलियन डॉलर दान कर दिए जो कि उनकी कुल सम्पत्ति है।

चक द्वारा किए गए दान:

चक ने $588 मिलियन कॉर्नेल विश्वविद्यालय को दान किए, $125 मिलियन कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय और $60 मिलियन स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय को दान में दिए। चक ने करीब $1 बिलियन डॉलर आयरलैंड में 7 विश्वविद्यालय के निर्माण और पुनर्निर्माण के लिए दान किए। उन्होंने कई देशों में बच्चों के लिए क्लिफ्ट लिप (खण्‍डोष्‍ठ)सर्जरी प्रदान करने के उद्देश्य से एक चैरिटी फंड की भी स्थापना की।

यह भी पढ़ें: जलवायु परिवर्तन बन सकता है कैंसर का मुख्य कारण

ना नाम चाहिए न ही प्रशंसा

किन्तु इन सब योगदानों के बावजूद भी चक ने कभी भी अपना नाम उजागर नहीं किया क्योंकि उन्होंने कभी भी दान के लिए प्रशंसा नहीं चाहिए थी।

जब मीडिया में उनके विषय में लिखा गया तब लोगों को उनके योगदान के विषय में पता चला और चक भी खुलकर मीडिया के सामने आए। तब उनसे पूछा गया कि “आपने अपने पूरी कमाई को दान करने का फैसला क्यों लिया?” तब चक ने बड़ा सीधा किन्तु सटीक जवाब दिया कि “क्योंकि लाश के साथ पैसा साथ नहीं जाता।”

चक फीनी ‘ड्यूटी फ्री शॉपर ग्रुप’ के सह-संस्थापक हैं और ‘अटलांटिक फिलेन्ट्रोपीस’ के संस्थापक हैं। चक के बाद विश्व के दो सबसे बड़े कारोबारियों ने उनके नक़्शे-कदम पर चलने का फैसला किया है। एक हैं अमेरिका के सबसे सफल कारोबारी ‘वॉरेन बफे’ और दूसरे हैं विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति में गिने जाने वाले ‘बिल गेट्स’। और यह दोनों भी योगदान देने में पीछे नहीं रहते।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी