Saturday, May 8, 2021
Home देश राष्ट्रपति कोविंद ने समय पर न्याय दिए जाने पर जोर दिया

राष्ट्रपति कोविंद ने समय पर न्याय दिए जाने पर जोर दिया


राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शनिवार को ऐसी न्यायिक व्यवस्था लागू करने पर जोर दिया, जिसमें न्याय सुनिश्चित करने के लिए न्याय दिए जाने में देरी के कारणों को समय पर दूर किया जा सके।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शनिवार को ऐसी न्यायिक व्यवस्था लागू करने पर जोर दिया, जिसमें न्याय सुनिश्चित करने के लिए न्याय दिए जाने में देरी के कारणों को समय पर दूर किया जा सके। कोविंद ने कहा कि न्यायिक प्रणाली का उद्देश्य केवल विवादों को हल करना नहीं है, बल्कि न्याय को बनाए रखना भी है।

राष्ट्रपति कोविंद ने यह बात ऑल इंडिया स्टेट ज्यूडीशियल एकेडमीज डायरेक्टर्स र्रिटीट के उद्घाटन कार्यक्रम में अपने संबोधन के दौरान कही।

उन्होंने कहा, “न्याय व्यवस्था का उद्देश्य केवल विवादों को सुलझाना नहीं, बल्कि न्याय की रक्षा करने का होता है और न्याय की रक्षा का एक उपाय, न्याय में होने वाले विलंब को दूर करना भी है। ऐसा नहीं है कि न्याय में विलंब केवल न्यायालय की कार्य-प्रणाली या व्यवस्था की कमी से ही होता हो।”

न्यायिक प्रणाली में प्रौद्योगिकी के तेजी से वृद्धि को देखते हुए, राष्ट्रपति ने न्याय के त्वरित वितरण के लिए सभी न्यायिक प्रक्रियाओं में प्रौद्योगिकी के उपयोग को शुरू करने की आवश्यकता पर जोर दिया।

उन्होंने कहा, “त्वरित न्याय के लिए यह आवश्यक है कि व्यापक न्यायिक प्रशिक्षण के अलावा, हमारी न्यायिक प्रक्रियाओं में प्रौद्योगिकी के उपयोग को शुरू करने की आवश्यकता है।”

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, “मामलों की बढ़ती संख्या के कारण, सही परिप्रेक्ष्य में मुद्दों को समझना और थोड़े समय में सटीक निर्णय लेना आवश्यक हो जाता है।”

 

देश में 18,000 से अधिक अदालतों को कम्प्यूटरीकृत किया गया है। जनवरी तक, लॉकडाउन अवधि सहित, देशभर में आभासी (वर्चुअल) अदालतों में लगभग 76 लाख मामलों की सुनवाई हुई है।

राष्ट्रपति ने कहा कि राष्ट्रीय न्यायिक डेटा ग्रिड, विशिष्ट पहचान कोड और क्यूआर कोड जैसी पहल को वैश्विक स्तर पर सराहा जा रहा है।

कोविंद ने कहा, “इस तकनीकी हस्तक्षेप का एक और लाभ यह है कि इन पहलों के कारण कागजों का उपयोग कम हो गया है, जो प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में मदद करता है।”

उन्होंने माना कि निचली न्यायपालिका देश की न्यायिक प्रणाली का मूल है और साथ ही यह भी उल्लेख किया कि उसमें प्रवेश से पहले सैद्धांतिक ज्ञान रखने वाले कानून के छात्रों को कुशल एवं उत्कृष्ट न्यायाधीश के रूप में प्रशिक्षित करने का महत्वपूर्ण कार्य हमारी न्यायिक अकादमियां कर रही हैं।

यह भी पढ़े :-  वित्त वर्ष 2021-22 में चार लाख टन उड़द आयात का कोटा तय : केंद्र सरकार

राष्ट्रपति ने कहा, “हम भारत के लोग न्यायपालिका से उच्च उम्मीदें रखते हैं। समाज न्यायाधीशों से ज्ञानवान, विवेकवान, शीलवान, मतिमान और निष्पक्ष होने की अपेक्षा करता है।”

उन्होंने कहा, “न्याय-प्रशासन में संख्या से अधिक महत्व गुणवत्ता को दिया जाता है और इन अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए न्यायिक कौशल की ट्रैनिंग, ज्ञान और तकनीक को अपडेट करते रहने तथा लगातार बदल रही दुनिया की समुचित समझ बहुत जरूरी होती है। इस प्रकार इंडक्शन लेवल और इन-सर्विस ट्रेनिंग के माध्यम से इन अपेक्षाओं को पूरा करने में राज्य न्यायिक अकादमियों की भूमिका अति महत्वपूर्ण हो जाती है।” ( AK आईएएनएस ) 

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी