Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

पाकिस्तान की जमीन पर खंडित होता प्रहलादपूरी मंदिर!

प्रहलादपूरी मंदिर जो इतिहास में मुल्तान शहर में था, एक समय पर यहां अपनी छटा बिखेरता था| लेकिन आज इसका अस्तित्व खंडहर हो चुका है।

हिरणकश्यप को भी भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार द्वारा मारा गया था। (Wikimedia Commons)

उग्रं वीरं महा विष्णुं, ज्वलन्तं सर्वतोमुखं।
नृसिंहम भीषणं भद्रं, मृत्युर मृत्युं नमाम्यहं।।

अर्थात : जो काल का भी काल है। जो भयंकर है, वीर है, जो स्वयं विष्णु है। जिसके मस्तक हर दिशा में प्रदीप्त हैं। जो नरसिंह है, जो प्रलयंकर हैं और कल्याणकारी है। मैं उस ईश्वर को नमन करता हूं।


सीमा के उस पार दुनिया के अन्य हिस्सों में हिन्दू समुदायों द्वारा होली बड़ी धूम – धाम से मनाई जाती है। लेकिन जिस मंदिर में रंगों की शुरूआत हुई थी क्या आप उसके विषय में जानते हैं? प्रहलादपूरी मंदिर जो इतिहास में मुल्तान शहर में था, एक समय पर यहां अपनी छटा बिखेरता था लेकिन आज इसका अस्तित्व खंडहर हो चुका है। ऐतिहासिक और पौराणिक सूत्रों से यह ज्ञात होता है कि, होली की इस गाथा के उत्सर्जन का स्त्रोत मुल्तान, पाकिस्तान के पंजाब सूबे से ही हुआ है।

आज प्रहलादपूरी मंदिर के अवशेष यहां केवल अपना अस्तित्व तलाश रहे हैं। लाहौर से लगभग 350 किमी दूर एक अत्यंत प्राचीन शहर बसता है, जिसका नाम है मुल्तान। इतिहास में इस शहर के संरक्षक संत बहाउद्दीन जकारिया और शाहरुख-ए-आलम हुआ करते थे। जिनके कई सूफी दरगाह आज यहां देखने को मिलते हैं

  प्रहलादपूरी मंदिर के अवशेष यहां केवल अपना अस्तित्व तलाश रहे हैं। (Wikimedia commons)                                        

संत बहाउद्दीन जकारिया की दरगाह के बगल में, उपमहाद्वीप के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक, प्रहलादपूरी मंदिर के अवशेष अब भी पाए जाते हैं। जो कभी शहर का केंद्र बिंदु हुआ करता था। जहां अपने भक्तों की रक्षा करने के लिए भगवान विष्णु ने अवतार लिया था। मुल्तान पाकिस्तान के पंजाब क्षेत्र में होली की उत्पत्ति प्रहलादपूरी मंदिर से ही मानी जाती है। कहा जाता है कि, प्रह्लादपूरी मन्दिर का मूल मंदिर जहां भगवान विष्णु की प्रतिमा थी, का निर्माण हिरणकश्यप के पुत्र प्रहलाद द्वारा किया गया था। भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार के सम्मान में इस मंदिर का निर्माण किया गया था।

मुल्तान में कई ऐसे मंदिर खड़े हैं जो अपने परिवेश से बेखबर हैं। उनमें से कई खंडहर भी हो चुके हैं और केवल करीबी जांच से उनकी वास्तविकता की पहचान स्पष्ट हो सकता है। इसी क्रम में यह हिन्दुओं का प्रहलादपूरी मंदिर मुल्तान की मुस्लिम विजय के बाद नष्ट हो गया था। यह अब केवल जमीन में धंसा हुआ है। ऐसी किवदंतियां भी है कि; इस स्थल पर एक अन्य मंदिर का निर्माण किया गया था परन्तु मुस्लिमों द्वारा उसे नष्ट कर दिया गया। भारत – पाकिस्तान विभाजन के बाद मुल्तान पाकिस्तान के नए देश का हिस्सा बन गया और इसकी हिन्दू आबादी बड़ी संख्या में भारत आ गई थी। विभाजन के कुछ दशकों के बाद इसी मंदिर के निकट एक दरगाह बनाई गई और मस्जिद का निर्माण भी किया गया। जिसके बुर्ज ने मंदिर के प्रांगण तक को घेर लिया था।

मंदिर के अतीत की झलकियों की तरफ नजर दौड़ाएंगे तो पता चलेगा कि, 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद टूटने के बाद, मस्जिद के विनाश का बदला लेने के लिए मंदिर के बाहर इकठ्ठा हुए सैकड़ों मुस्लिमों की भीड़ ने बचे – खुचे प्रह्लादपूरी मंदिर को भी नष्ट कर डाला था। 19वी सदी तक आते – आते प्रह्लादपूरी मंदिर का अस्तित्व पूर्ण रूप से मिट्टी में मिल चुका था।

यह भी पढ़ें :- श्रीमद्भगवद्गीता और अज़ान पर क्यों अटकाई गई सूई?

एक ऐसा मंदिर जहां से रंगों के त्यौहार की शुरुआत हुई थी उसकी स्मृतियां तक अब खो चुकी हैं। प्रह्लाद की पौराणिक कथा, उसके पिता को हराने वाले बाल – संत, शहर के अत्याचारी राजा हिरणकश्यप इन सभी को मंदिर या शहर में दुबारा कभी दोहराया नहीं गया।
एक समय था जब इस मंदिर में शहर की सबसे भव्य होली समारोह की मेजबानी की जाती थी। माताएं अपने बच्चों को होलिका की पौराणिक कथा सुनाती थी, जो हिरणकश्यप की दुष्ट बहन थी। जिसे आग से प्रतिरक्षण का वरदान प्राप्त था। हिरणकश्यप ने होलिका को अपने बच्चे के साथ आग में कदम रखने को कहा था। हालांकि दिव्य हस्तक्षेप के माध्यम से होलिका आग की लपटों में घिर गई और भक्त प्रहलाद बच गया था। होली की पूर्व संध्या पर जलती हुई आग को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाने लगा। हिरणकश्यप को भी भगवान विष्णु के नरसिंह अवतार द्वारा मारा गया था। अंततः इस राक्षस राजा के अत्याचारी शासन से मुक्त कराया था और शहर के लोगों ने परित्यक्त प्राचीन टीले पर प्रहलाद के सम्मान में एक मंदिर का निर्माण किया और पहली बार यहां होली मनाई गई थी।

अभी भी मुल्तान में हिन्दू अल्पसंख्यकों द्वारा यहां भगवान की पूजा अवश्य की जाती है परन्तु दुर्भाग्य यह है कि अब यह प्रह्लादपूरी मंदिर अपना अस्तित्व खो चुका है। मंदिर के रंग और याद दोनों ही पाकिस्तान के मुल्तान शहर से फिके हो चुके हैं। ऐसे कई प्राचीन मंदिर, मूर्तियां जो हमारी सभ्यता और संस्कृति के प्रतीक थे उन्हें मुस्लिमों द्वारा खंडित किया जा चुका है।

Popular

प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। (Unsplash)

एक नए अध्ययन के अनुसार, जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान कोविड संकमित होती हैं, उनमें प्री-एक्लेमप्सिया विकसित होने का काफी अधिक जोखिम होता है। यह बीमारी दुनिया भर में मातृ और शिशु मृत्यु का प्रमुख कारण है। प्री-एक्लेमप्सिया गर्भावस्था के 20वें सप्ताह के बाद रक्तचाप में अचानक वृद्धि है। अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव2 संक्रमण वाली महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है।

वेन स्टेट यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन में आणविक प्रसूति और आनुवंशिकी के प्रोफेसर रॉबटरे रोमेरो ने कहा कि यह जुड़ाव सभी पूर्वनिर्धारित उपसमूहों में उल्लेखनीय रूप से सुसंगत था। इसके अलावा, गर्भावस्था के दौरान सॉर्स कोव 2 संक्रमण गंभीर विशेषताओं, एक्लम्पसिया और एचईएलएलपी सिंड्रोम के साथ प्री-एक्लेमप्सिया की बाधाओं में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ जुड़ा है। एचईएलएलपी सिंड्रोम गंभीर प्री-एक्लेमप्सिया का एक रूप है जिसमें हेमोलिसिस (लाल रक्त कोशिकाओं का टूटना), ऊंचा लिवर एंजाइम और कम प्लेटलेट काउंट शामिल हैं। टीम ने पिछले 28 अध्ययनों की समीक्षा के बाद अपने निष्कर्ष प्रकाशित किए, जिसमें 790,954 गर्भवती महिलाएं शामिल थीं, जिनमें 15,524 कोविड -19 संक्रमण का निदान किया गया था।

गर्भावस्था के दौरान संक्रमण के बिना प्रीक्लेम्पसिया विकसित होने की संभावना 62 प्रतिशत अधिक होती है। (Unsplash)

Keep Reading Show less
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।(PIB)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को दोहराया कि भारत सामूहिक स्वास्थ्य और आर्थिक कल्याण सुनिश्चित करने के लिए Covid-19 महामारी के खिलाफ एक निर्णायक और समन्वित प्रतिक्रिया देने के वैश्विक प्रयासों में सबसे आगे रहा है। कोविंद ने यह भी कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत भारतीयों को अब तक 80 करोड़ से अधिक खुराक मिल चुकी है।

राष्ट्रपति भवन से एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को एक आभासी समारोह में आइसलैंड, गाम्बिया गणराज्य, स्पेन, ब्रुनेई दारुस्सलाम और श्रीलंका के लोकतांत्रिक गणराज्य के राजदूतों/उच्चायुक्तों से परिचय पत्र स्वीकार किए।

अपना परिचय पत्र प्रस्तुत करने वाले राजदूत निम्न हैं : महामहिम गुडनी ब्रैगसन, आइसलैंड के राजदूत, महामहिम मुस्तफा जवारा, गाम्बिया गणराज्य के उच्चायुक्त, महामहिम जोस मारिया रिडाओ डोमिंगुएज, स्पेन के राजदूत, महामहिम दातो अलैहुद्दीन मोहम्मद ताहा, ब्रुनेई दारुस्सलाम के उच्चायुक्त, महामहिम अशोक मिलिंडा मोरागोडा, श्रीलंका के लोकतांत्रिक समाजवादी गणराज्य के उच्चायुक्त।


इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने इन सभी राजदूतों को उनकी नियुक्ति पर बधाई दी और उन्हें भारत में एक सफल कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत के इन सभी पांच देशों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं और भारत इनके साथ शांति, समृद्धि का एक समन्वित दृष्टिकोण साझा करता है।

Keep Reading Show less

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep reading... Show less