Monday, May 17, 2021
Home संस्कृति माघ मेला के संत तकनीक के माध्यम से भक्तों से जुड़ रहे

माघ मेला के संत तकनीक के माध्यम से भक्तों से जुड़ रहे

उन लोगों के लिए जो विभिन्न कारणों से माघ मेले में शामिल नहीं हो पाए हैं, जिनमें कोरोना भी शामिल है, उनके लिए अब उम्मीद जगी है। वे तकनीक के माध्यम से इसका हिस्सा बन सकते हैं। माघ मेला में डेरा डाले हुए संतों ने अपने शिष्यों से जुड़ने के लिए तकनीक का इस्तेमाल शुरू कर दिया है।

संत विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने प्रवचन का लाइव स्ट्रीमिंग कर रहे हैं।

आचार्य परमानंद उन लोगों में से हैं जो नियमित रूप से अपने फेसबुक पेज के साथ-साथ यूट्यूब चैनल पर भी अपनी भागवत कथा और राम कथा अपलोड करते हैं।

उनके शिष्य अजय राय ने कहा, “आचार्य के बड़ी संख्या में भक्त हैं जो महामारी के कारण इस साल माघ मेले में नहीं आ सके। वे हमसे संपर्क कर रहे हैं और इसलिए हमने आचार्य के प्रवचनों को लाइव स्ट्रीम करने का फैसला किया। ये प्रवचन पोस्ट किए जाते रहेंगे और कोई भी बाद में उन्हें सुन सकता है।”

अखिल भारतीय दंडी संन्यासी परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी ब्रह्माश्रम महाराज ने कहा कि वह नियमित रूप से अपने अनुयायियों के साथ स्काइप और फेसटाइम के माध्यम से निर्धारित समय पर बातचीत करते हैं।

साधु माघ मेला Magh Mela
माघ मेला स्नान पवित्र स्नानों में से एक है।(Pixabay)

उन्होंने कहा, “मेरे भक्तों के असंख्य प्रश्न हैं और मैं इस तकनीक के माध्यम से उनकी समस्याओं को दैनिक आधार पर हल करता हूं।”

माघ मेला में लगभग हर शिविर में एक लैपटॉप और एक टेक-सेवी शिष्य है। व्हाट्सऐप के माध्यम से प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए संदेश भेजे जाते हैं और प्रवचन और अन्य धार्मिक गतिविधियों के लिए कार्यक्रम ईमेल और सोशल मीडिया के माध्यम से बताए जाते हैं।

इस समय प्रौद्योगिकी के अनुकूलन को जो चीज आसान बनाती है वो यह तथ्य है कि बड़ी संख्या में संत उच्च शिक्षित हैं। उदाहरण के लिए, स्वामी प्रणव पुरी के पास कंप्यूटर साइंस में बी.टेक की डिग्री है और उन्होंने एमबीए भी कर रखा है। महंत बजरंग मुनि उदासीन के पास बीबीए (बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन), बीए और एमए जैसी डिग्री भी हैं।

यह भी पढ़ें: “नागा साधु बनना आसान नहीं”

किन्नर अखाड़े जैसे अखाड़ों से जुड़े संत भी टेक्नो-सेवी हैं। इस वर्ष ‘कल्पवासी’ भी पिछले वर्षों के विपरीत बाहरी दुनिया से कटे हुए नहीं हैं। 76 वर्षीय स्वदेश मौर्य अपने साथ अपना लैपटॉप और सेल फोन लेकर आए हैं। उन्होंने कहा, “यह मुझे अपने परिवार से जुड़े रहने में मदद करता है क्योंकि वे मेरी भलाई के बारे में चिंता करते हैं। इसके अलावा, मैं अपने तम्बू में बैठे आध्यात्मिक प्रवचनों को सुन सकता हूं।”(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी