Monday, May 17, 2021
Home देश सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट द्वारा OTT कंटेंट के नियमन से संबंधित मामलों...

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट द्वारा OTT कंटेंट के नियमन से संबंधित मामलों की सुनवाई पर रोक लगाई


सुप्रीम कोर्ट ( Supreme court )  ने मंगलवार को अलग-अलग हाईकोर्ट ( High court )  में ओवर द टॉप (ओटीटी) (OTT ) प्लेटफॉर्म्स के कंटेंट पर विनियमन (रेगुलेशन) की मांग वाली लंबित याचिकाओं की सुनवाई पर रोक लगा दी है। न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले की सुनवाई की और सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल ( solicitor general )  तुषार मेहता ने दलील पेश की।

शीर्ष अदालत ने विभिन्न हाई कोर्ट में आगे की कार्यवाही पर रोक लगा दी और कहा कि वह होली के बाद दूसरे सप्ताह में इस मामले की सुनवाई करेगी।

शीर्ष अदालत अधिवक्ता शशांक शेखर झा और एनजीओ जस्टिस फॉर राइट्स फाउंडेशन द्वारा दायर याचिका की सुनवाई कर रही थी, जिसमें नेटफ्लिक्स ( Netflix ) , अमेजन प्राइम वीडियो ( Amazon ) , हॉटस्टार  ( hotstar ) जैसे ओटीटी (OTT )  प्लेटफार्मों पर सामग्री के विनियमन की मांग की गई है।

सुनवाई के दौरान, मेहता ने कहा कि सरकार द्वारा दायर स्थानांतरण याचिका के संबंध में एक से अधिक हाईकोर्ट इस मामले से निपट रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट हुआ है कि हाईकोर्ट्स ने कहा है कि वे इस मामले को तब तक आगे बढ़ाएंगे, जब तक कि शीर्ष अदालत द्वारा इस पर रोक नहीं लगा दी जाती। पीठ ने कहा कि जब शीर्ष अदालत द्वारा एक हस्तांतरण में नोटिस जारी किया जाता है, तो न्यायाधीश अक्सर कहते हैं कि मामला शीर्ष अदालत के समक्ष लंबित है।
 

ott
ओटीटी प्लेटफार्मों के लिए दिशानिर्देश लाने में सरकार की मंशा वास्तव में सराहनीय है । ( Unsplash ) 

यह भी पढ़ें :- विश्व स्वास्थ्य संगठन ने COVID-19 महामारी को विश्व की एक वर्ष की वर्षगांठ की आधिकारिक घोषणा की!

अधिवक्ता सत्यम सिंह के माध्यम से एनजीओ ने अपनी याचिका में कहा है, “केंद्र सरकार द्वारा तय किए गए नियम इसके सही कार्यान्वयन के लिए किसी भी प्रभावी तंत्र के बिना दिशानिर्देशों की प्रकृति में कहीं अधिक हैं। यह नियमों के उल्लंघन के लिए किसी भी दंड या सजा का प्रावधान नहीं करता है। कानून के बिना,  (OTT ) ओटीटी प्लेटफार्मों पर सामग्री (कंटेंट) का प्रभावी नियंत्रण नहीं हो सकता है।”

एनजीओ ने कहा कि ओटीटी (OTT ) प्लेटफार्मों के लिए दिशानिर्देश लाने में सरकार की मंशा वास्तव में सराहनीय है, लेकिन इसमें कई दोष और खामियां भी हैं। इसने यह भी कहा कि भारत सरकार ओटीटी  (OTT )  प्लेटफार्मों पर कंटेंट टेलीकास्ट की स्क्रीनिंग पर ध्यान देने में विफल रही है। उचित स्क्रीनिंग तंत्र की कमी के मद्देनजर, ओटीटी प्लेटफॉर्म सामग्री को अश्लील तरीके से पेश करते हैं। इसलिए इस पर कानून की जरूरत है। (AK आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी