Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

घटती जा रही है ताजमहल की सुन्दरता, अधिकारियों ने जताई चिंता

यमुना में सीधे गिर रहे नालों और बढ़ती गंदगी से ताजमहल की सुंदरता पर असर पड़ रहा है। अधिकारियों के मुताबिक यमुना में स्वच्छ पानी रहना चाहिए, वहीं इस समस्या का स्थायी समाधान खोजना चाहिए।

यमुना में सीधे गिर रहे नालों और बढ़ती गंदगी से ताजमहल की सुंदरता पर असर पड़ रहा है। पर्यावरणविद अधिवक्ता एमसी मेहता और नेशनल इन्वायरमेंटल इंजीनियरिग रिसर्च इंस्टीट्यूट (नीरी) के चेयरमैन डॉ. एसके गोयल ने एएसआई के अधिकारियों के साथ शनिवार को ताजमहल का दौरा किया। इस दौरान ताज ईस्ट ड्रेन का बुरा हाल देखा गया। दरअसल यमुना में सीधे गंदगी जाने के कारण दरुगध जैसी समस्याएं तो आ ही रही हैं, इसके अलावा ताजमहल के पीछे यमुना में पनप रहे कीड़े ‘गोल्डीकाइरोनोमस’ भी ताजमहल के सुंदरता पर हमला कर रहे हैं।


सभी अधिकारी जब ताज टेनरी पहुंचे तो देखा कि ताज ईस्ट ड्रेन यमुना में गिरकर उसे प्रदूषित कर रही है। उन्होंने इसपर चिंता व्यक्त की। वहीं यमुना की गंदगी के कारण पनप रहे कीड़ो ने ताजमहल के मार्बल पर काफी गंदगी छोड़ दी है।

यमुना में पानी कम होने के कारण कीड़े और दरुगध जैसी समस्या पैदा हो रही है। साफ पानी की कमी भी ताजमहल की सुंदरता पर असर डाल रही है। अधिकारियों के मुताबिक यमुना में स्वच्छ पानी रहना चाहिए, वहीं इस समस्या का स्थायी समाधान खोजना चाहिए।

निरी के चेयरमैन डॉ. एसके गोयल ने आईएएनएस को बताया, “हमें यमुना का पानी बेहद कम लगा, उसमें ड्रेन्स गिर रहें है, इसमें काफी सुधार की जरूरत है। यमुना देखने मे भी गंदा लग रही है। गंदगी के कारण कीड़े भी मार्बल पर लग रहे हैं। हालांकि एएसआई की तरफ से समय समय पर उसे डिस्टिल्ड वॉटर से साफ किया जाता है। रेगुलर बेसिस पर ताजमहल के अंदर तो काम चल रहा है लेकिन ताजमहल के बाहर जो ड्रेन्स हैं उसमें काफी सुधार की जरूरत है। गंदा पानी होने के कारण दरुगध की समस्या भी आती है, नगर निगम द्वारा कुछ योजनाओं का प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है। जैसे ही ये मंजूर होते है तो लगभग 1 से 2 साल में इसमें संभावित सुधार आ जाएगा।”

यमुना की गंदगी के कारण पनप रहे कीड़ो ने ताजमहल के मार्बल पर काफी गंदगी छोड़ दी है | (Pexel)

आगरा के मेयर नवीन जैन ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि, “ताजमहल की सुरक्षा बनी रहे उसके लिए आवश्यक है कि ताजमहल के पास जो यमुना नदी है उसमें हर समय पानी भरा रहना चाहिए। पुरातत्व विभाग और अन्य लोगों का मानना है ताजमहल की नींव के लिए पानी की शील जरूरी है यानी साफ पानी रहे, ताकि उसकी मजबूती बनी रहे। यमुना में पानी न होने के कारण खतरा उत्पन्न हो रहा है।”

उन्होंने कहा, “शहर के नालों का पानी पहले सीधे यमुना में जाता था, लेकिन हमने काफी सुधार किया है। हमने सीवर ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) लगाए हैं। इसके जरिए गंदे पानी को फिल्टर कर छोड़ते हैं। लेकिन ये अभी और बनाने की आवश्यकता है, उसके लिए हमने प्रस्ताव भेजा हुआ है। सरकार से मंजूरी मिलते ही इसमें काफी सुधार होगा। इसके बाद ही हम शतप्रितश्त पानी शुद्ध करके यमुना में पहुंचा पाएंगे। 90 नालों में से करीब 60 नालों का पानी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के जरिये फिल्टर कर यमुना में छोड़ा जाता है। वहीं वैकल्पिक तौर पर विशेष रसायनों के जरिये नालों के पानी को फिल्टर भी किया जा रहा है।”

यह भी पढ़े :- दिल्ली Metro का लक्ष्य : सौर उर्जा का उत्पादन

ताजमहल में कार्यरत एक अधिकारी ने बताया कि, “कल कुछ अधिकारियों ने आकर ताजमहल विजिट किया था। दरअसल पहली समस्या जो की नालों का गंदा पानी यमुना में गिर रहा है, वो ठीक नहीं हो रहा है। यदि वो फिल्टर होकर जाए तो ठीक रहेगा। दूसरी समस्या ताजमहल में पानी की कमी है, वहीं ताजमहल के पीछे यमुना में पानी की कमी होने के कारण कीचड़ दिखाई देती है। तीसरी समस्या कीड़े हैं। गंदगी के कारण कीड़े पैदा हो रहे हैं, वो ताजमहल के पीछे लगे मार्बल पर बैठ उसे खराब कर रहे हैं।” ( आईएएनएस-SM)
 

Popular

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep Reading Show less

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) [Wikimedia Commons]

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने लोकप्रिय स्पेनिश सीरीज 'मनी हाइस्ट' के लिए अपने प्यार को कबूल कर लिया है और सर्जियो माक्र्विना द्वारा निभाए गए अपने पसंदीदा चरित्र 'प्रोफेसर' को ट्रिब्यूट दिया है। एक मजेदार टेक में, स्टार ने प्रसिद्ध 'प्रोफेसर' चरित्र को ट्रिब्यूट दी, हैशटैग इंडियाबेलाचाओ फैन प्रतियोगिता की शुरूआत करते हुए प्रशंसकों को श्रृंखला के लिए अपने प्यार को दिखाने और साझा करने की अनुमति दी। आयुष्मान पियानो पर क्लासिक 'बेला चाओ' का अपना गायन भी गाते हुए दिखाई देते हैं।

Keep reading... Show less