ओडिशा की महिलाओं को सशक्त बना रहा कलाघर

शिल्प-आधारित सामाजिक उद्यम ने 19 से 50 वर्ष की आयु की 200 से अधिक ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाया है। अब, ये महिलाएं प्रति दिन 1,000 रुपये से 5,000 रुपये कमाती हैं।
 | 
कलाघर एक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म की तरह काम करता है । ( आईएएनएस )
By: रजनीश सिंह

ओडिशा के बालासोर जिले के एक छोटे से गांव से पांच साल पहले छह कारीगरों के साथ अपनी यात्रा शुरू करने के बाद, ओडिशा का कलाघर न केवल ग्रामीण महिला कारीगरों के लिए रोजगार के अवसर पैदा कर रहा है, बल्कि ओडिशा में हस्तशिल्प (हैंडीक्रॉफ्ट) को पुनर्जीवित भी कर रहा है।

शिल्प-आधारित सामाजिक उद्यम ने 19 से 50 वर्ष की आयु की 200 से अधिक ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाया है। अब, ये महिलाएं प्रति दिन 1,000 रुपये से 5,000 रुपये कमाती हैं।

यह शिल्प रूप ओडिशा के मयूरभंज जिले के बारिपदा जेल में बंद कैदियों के लिए भी सुधार का एक जरिया बन गया है।

कलाघर एक ई-कॉमर्स  प्लेटफॉर्म  की तरह काम करता है, जो 'अर्ते यूतिल' (स्पेनिश में) यानी 'उपयोगी कला' की अवधारणा से प्रेरित है। कलाघर का उद्देश्य मयूरभंज जिले में सबाई कारीगरों की आर्थिक स्थिति में सुधार करना है, जिसमें 45 आदिवासी समुदाय हैं। वे न केवल कारीगरों को उत्पादों को विकसित करने में मदद करते हैं, बल्कि डिजाइन और ट्रेंड को समझने में भी उनकी सहायता करते हैं।

शहरीपन और वरीयताओं के साथ ही भारतीय कला के इतिहास और विरासत को बनाए रखने से लेकर, कलाघर विभिन्न जमीनी स्तर के कलाकारों, गैर-सरकारी संगठनों और स्वयं सहायता समूहों के साथ काम करता है और समकालीन डिजाइनों को समझने में उनकी सहायता करता है।
art works
पिपली, पट्टचित्र पेंटिंग, डेलिकेट सिल्वर फिलिग्री ज्यूलरी ये सभी ओडिशा से संबंधित कला रूप हैं। ( Unsplash )

ओडिशा के मयूरभंज और बालासोर जिलों में 10-15 से अधिक गांवों को कवर करते हुए, यह पहल महिलाओं के लिए सामाजिक और आर्थिक सशक्तीकरण सुनिश्चित कर रही है, जो उनके कौशल और कला के पूरक हैं, और प्रशिक्षण के माध्यम से कला में नयापन लाते हैं।

यह भी पढ़ें :- प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में यूपी पहुंचा नम्बर वन

जुलाई 2016 में दो बहनों -- मेघा और शिप्रा अग्रवाल (दोनों उम्र के तीसरे दशक में) द्वारा शुरू किए गए कलाघर ने महिला कारीगरों को बाजार से प्राकृतिक फाइबर के लिए 100 प्रतिशत टिकाऊ होम डेकोर प्रोडक्ट्स भेजते हुए सम्मानजनक आजीविका के अवसर पैदा करके सशक्त बनाया है।

शिप्रा ने आईएएनएस को बताया, "हमने छह कारीगरों के साथ बालासोर जिले के एक छोटे से गांव में अपनी यात्रा शुरू की। वर्तमान में, हम मयूरभंज और बालासोर के 200 से अधिक कारीगरों के साथ काम कर रहे हैं।"

उन्होंने आगे कहा कि महिलाएं अपने खाली समय के दौरान अपने घरों में यह काम कर सकती हैं और अपनी कमाई कर सकती हैं।

उन्होंने कहा कि शुरू में हम इन महिलाओं से मिलने जाते थे, लेकिन इनमें से कई हमारे पास आईं और काम करने की इच्छा व्यक्त की। हम उन्हें आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान करते हैं और उन्हें प्रति दिन 150 रुपये से लेकर 250 रुपये तक का भुगतान भी करते हैं।

शिप्रा ने कहा कि प्रतापपुर की सविता, सुभद्रा, आरती, नमिता और कई अन्य को रोजगार मिला है और अपने घरों में अपने नियमित कामों को संभालने के साथ-साथ अपने काम का आनंद ले रही हैं।

पिपली, पट्टचित्र पेंटिंग, डेलिकेट सिल्वर फिलिग्री ज्यूलरी, पारलाखेमूंदी, और सबाई ग्रास की बुनाई के जटिल काम - ये सभी ओडिशा से संबंधित कला रूप हैं। लेकिन अग्रवाल बहनों को लगा कि इस कला पर काम करने वाले लाखों कारीगरों को उनका हिस्सा नहीं मिल रहा है।

इसलिए, शिल्प बाजार को पुनर्जीवित करने के लिए, उन्होंने 2016 में कलाघर की स्थापना की। इसके साथ, उन्होंने ओडिशा, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल में हस्तशिल्प उद्योग को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य रखा।

अपने उद्यम को सामाजिक अर्थ देने के लिए, बहनों ने बारिपदा जेल के साथ भी सहयोग किया और वहां बंद कैदियों के लिए सबाई बुनाई पर एक सप्ताह की कार्यशाला का आयोजन किया। ( AK आईएएनएस )