Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

तिब्बत अपनी “आजादी” चाहता है

मध्य एशिया की पर्वत श्रेणियों , कुनलुन (Kunlun) एवं हिमालय (Himalaya) के मध्य स्तिथ तिब्बत (Tibet) एक अद्भुत देश है लेकिन यह देश अब भी कब्जे में है।

तिब्बत (Tibet) एक अद्भुत देश है। (Pexel)

मध्य एशिया की पर्वत श्रेणियों , कुनलुन (Kunlun) एवं हिमालय (Himalaya) के मध्य स्तिथ तिब्बत (Tibet) एक अद्भुत देश है। जिसका एतिहासिक वृतांत 7 वीं शताब्दी से ही मिलता आ रहा है। पांच सौ वर्ष पहले, महान शेनराब मीवो नामक एक अर्ध पौराणिक व्यक्तित्व ने तिब्बती बोन धर्म  (Tibeti Bon religion) की स्थापना की थी।

तिब्बत (Tibet) के इतिहास की बात करें तो करीब 17 वीं शताब्दी के दौरान 1642 में, पांचवे दलाई लामा (Dalai lama) गवांग लोजांग ग्यात्सो ने तिब्बत पर अपना अधिकार स्थापित किया तथा उन्होंने तिब्बती सरकार की वर्तमान शासन प्रणाली “गांदेन फोड्रांग” की स्थापना भी की थी। उस समय तक तिब्बत के चीन(China) के साथ काफी अच्छे संबंध थे। उस समय पांचवे दलाई लामा ने चीन से मांग की थी कि , वह उनकी संप्रभुता को पूरी मान्यता प्रदान करे। तब चीन के शासक मिंश (Minsh) ने न केवल दलाई लामा को एक स्वतंत्र शासक के रूप में स्वीकार किया, बल्कि उन्हें पृथ्वी पर एक देवता के रूप में भी स्वीकार किया था।


चीन हमेशा से ही, तिब्बत के मामलों में अपना हस्तक्षेप करता आया था। चीन पर शासन करने वाले मांचुओं (Manchua), तिब्बत (Tibet) के मामलों में दखल देने का प्रयास करते रहते थे। कई वर्षों तक तो ये स्तिथि सामान्य रही लेकिन वर्ष 1876 में जब 13 वें दलाई लामा (Dalai lama) थूप्तेन ग्यातसी ने 19 वर्ष की आयु में , राज्य की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली। तब उन्होंने तिब्बत (Tibet) को, अंतराष्ट्रीय मामलों में न्यायसंगत पूर्ण प्रभुसत्ता हासिल करने में मदद की थी। तभी से चीन ने तिब्बत पर अपना अधिकार स्थापित करना शुरू कर दिया था। उस समय लगभग सभी ओर ब्रिटिशों का शासन था और चीन के संबंध ब्रिटिशों के साथ काफी बेहतर थे। जब तक तिब्बत का मुद्दा ब्रिटिशों (British) तक पहुंचा, चीन ने ब्रिटिशों को यह समझाने में सफलता हासिल कर ली थी कि, तिब्बत (Tibet) पर उनका अधिराज है। तिब्बत के लोगों ने चीन के इस प्रभुत्व को कभी स्वीकार नहीं किया था। लेकिन तिब्बत के पास चीनी विरोध का कोई जरिया नहीं था। तब उस दौरान विश्व में एक ताकत अपनी जगह बना रही थी, जो ब्रिटिशों से बराबरी कर सकती थी, और वो ताकत था “रूस” (Russia) और तिब्बतियों ने रूस से अपनी बात – चीत को आगे बढ़ाया था ताकि वो चीन (China) के शासन से मुक्त हो सकें। लेकिन धीरे – धीरे ब्रिटिश (British) सरकार ये समझने लगी थी कि, आने वाले समय में उनके हितों को खतरा पहुंच सकता है। उस दौरान ब्रिटिशों ने योजना बनाकर तिब्बत पर चढ़ाई की और 1904 को ल्हासा में प्रवेश किया। दलाई लामा ने तब एक आखिरी उम्मीद से चीनी शासक से मदद मांगी की, वह इन सैन्य आक्रमणों को रोकें और ल्हासा (Lhasa) से अपनी सेनाएं भी हटा लें। लेकिन चीन नहीं माना था। बल्कि 2000 से भी अधिक मांचू (Manchu) व चीनी सैनिकों ने ल्हासा में हत्या , बलात्कार जैसी कई हिंसक घटनाओं को अंजाम दिया था।

13 फरवरी का दिन, तिब्बतियों का बड़ा वर्ग अपनी आजादी (Freedom) के तौर पर मानता है। (Unsplash)                 

उसके बाद, वर्ष 1949 में चीन ने बिना किसी कारण के फिर एक बाद पूर्वी तिब्बत (East tibet) पर चढ़ाई की और वहां अपना अधिकार जमाना शुरू कर दिया था। उस समय चीन कि आक्रामकता के विरोध में तिब्बत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nation) में अपनी गुहार लगाई लेकिन संयुक्त राष्ट्र संघ ने तिब्बत के इस मुद्दे को नज़रंदाज़ कर दिया था।

इसके बाद जब, 14 वें दलाई लामा (Dalai lama) ने तिब्बत (Tibet) की सत्ता ग्रहण की तब उन्होंने, तिब्बत की शांतिपूर्ण आज़ादी के लिए , तिब्बत प्रतिनिधिमंडल से एक समझौते पर जबरन हस्ताक्षर करवाए थे। लेकिन ये दस्तावेज़ तिब्बत सरकार पर उलटे पड़ गए थे क्यूंकि बाद में जाकर चीन ने उन्हीं दस्तावेजों का प्रयोग कर तिब्बत को अपना उपनिवेश बनाने की योजना को अंजाम दिया था। इसी के तहत् 1951 में लाखों चीनी सैनिकों ने फिर एक बार ल्हासा पर आक्रमण किया। कई मठों पर बम – गोले बरसाकर उनका विनाश कर डाला। लोगों की राजनीतिक स्वतंत्रता की छीन लिया। बड़े पैमाने पर विद्रोह करने वाले लोगों को चीनी सैनिकों ने गिरफ्तार कर कैद कर डाला। हजारों महिलाओं, बच्चों को मौत के घाट उतार दिया था। एक ऐसा निर्ममतापुर्ण प्रतिहार किया, जिसे तिब्बत के लोगों ने शायद ही कभी देखा था। कई वर्षों तक ना तिब्बती लोग इससे उभर पाए ना चीनियों ने उन्हें कभी उठने दिया। करीब 1959 तक चीन ने तिब्बत पर अपना कब्जा स्थापित कर लिया था। एक बार 14 वें दलाई लामा के विरोध करने पर , चीनियों ने उनके पीछे भी अपनी सैना लगा डाली थी और तब दलाई लामा (Dalai lama) चीनी सैनिकों से बचते हुए, भागकर भारत (India) में आ गए थे। उनके साथ – साथ तिब्बतियों की बड़ी सैन भी आयी थी। जो आज भारत के कई हिस्सों में बस चुके हैं।

13 फरवरी का दिन, तिब्बतियों का बड़ा वर्ग अपनी आजादी (Freedom) के तौर पर मानता है। इसी दिन तिब्बत सरकार के मुख्यालय धर्मशाला में तिब्बत के सैकड़ों लोगों ने रैली निकालकर, चीन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। तिब्बतियों ने इस रैली के दौरान अपनी आजादी कि मांग को काफी मजबूत किया है।

14 वें, व अंतिम रूप से क्यूंकि, दलाई लामा ने अपने बाद अभी तक किसी को तिब्बती सरकार के पद पर नहीं बिठाया है। दलाई लामा निरन्तर भारत (India) से ही तिब्बत की आज़ादी मांग उठाते आएं हैं। दलाई लामा के भारत में और भारत के बाहर भी कई समर्थक हैं जो दलाई लामा के साथ तथा उनकी भांति तिब्बत की आजादी को लेकर निरंतर आवाज़ उठाते रहते हैं।
विस्फोटक बल्लेबाज “विवियन रिचर्ड्स” (Vivian Richards) ने हालहीं में अपने ट्वीट में माध्यम से कहा कि “हैप्पी इंडिपेंडेंस डे तिब्बत, अभी बहुत आगे तक जाना है|”
भारतीय कलाकार गजेन्द्र चौहान (Gajendra Chauhan) ने भी तिब्बत को लेके कहा कि “तिब्बत आजादी चाहता है।” इसके अतिरिकत अमेरिकी अभिनेता रिचर्ड गेरे (Richard Gere) , रेसिंग साइकिलिस्ट केडल इवांस (Cadal Evans) , रसेल ब्रांड को एक ब्रिटिश अभिनेता है। इन सभी ने तिब्बत की आजादी के लिए अपनी आवाज़ को हमेशा बुलंद रखा है।

यह भी पढ़े :- ‘चीन की आक्रामकता ने रणनीतिक सहयोग करने के लिए खोलीं भारत की आंखें’

भारत में भी तिब्बत की आजादी के कई समर्थक हैं , जो तिब्बत (Tibet) की स्वतंत्रता का मुद्दा हमेशा वैश्विक स्तर पर उठाते आएं हैं। आज के विश्व में आगे बढ़ता ये विश्व उसमें से एक देश अब भी किसी के कब्जे में पड़ा है। चीन का ये तिब्बत पर से दबदबा हटना और तिब्बत को एक स्वतंत्र राष्ट्र का दर्जा मिलना बहुत जरूरी है।

Popular

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep Reading Show less

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) [Wikimedia Commons]

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने लोकप्रिय स्पेनिश सीरीज 'मनी हाइस्ट' के लिए अपने प्यार को कबूल कर लिया है और सर्जियो माक्र्विना द्वारा निभाए गए अपने पसंदीदा चरित्र 'प्रोफेसर' को ट्रिब्यूट दिया है। एक मजेदार टेक में, स्टार ने प्रसिद्ध 'प्रोफेसर' चरित्र को ट्रिब्यूट दी, हैशटैग इंडियाबेलाचाओ फैन प्रतियोगिता की शुरूआत करते हुए प्रशंसकों को श्रृंखला के लिए अपने प्यार को दिखाने और साझा करने की अनुमति दी। आयुष्मान पियानो पर क्लासिक 'बेला चाओ' का अपना गायन भी गाते हुए दिखाई देते हैं।

Keep reading... Show less