Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

क्या भगवान हनुमान जी का जन्म तिरूमला के पर्वतों में हुआ था?

टीटीडी यह दावा करता है कि, तिरुपति में शेश्चलम की सात पहाड़ियों में से एक अंजनद्री पहाड़ी भगवान हनुमान जी का जन्म स्थान है।

तिरुमाला वेंकटेश्वर बालाजी मंदिर| (Wikimedia Commons)

हाल ही में तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (Tirumala Tirupati Devasthanam) ने रामनवमी के समारोह पर घोषणा की, कि भगवान हनुमान जी का जन्म आंध्र प्रदेश (Andhra Pardesh) में हुआ था। टीटीडी जो भगवान हनुमान (Hanuman) जी के मंदिर तिरुमाला पहाड़ियों को नियंत्रित करता है। यह बताता है कि यह तथ्य वैदिक विद्वानों, इतिहासकारों, हिन्दू धार्मिक नेताओं के विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा गहन अध्ययन पर आधारित है। 

टीटीडी (TTD) यह दावा करता है कि, तिरुपति में शेश्चलम की सात पहाड़ियों में से एक अंजनद्री (Anjanadri) पहाड़ी भगवान हनुमान जी का जन्म स्थान है। चार महीने के लंबे अध्ययन के निष्कर्षों के बाद , राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सरमा ने कहा कि, इस अध्ययन ने स्थापित किया है कि, भगवान राम के परम भक्त महावीर हनुमान अंजनद्री की पहाड़ियों में पैदा हुए थे। सरमा ने कहा कि, उनके निष्कर्ष पौराणिक साक्ष्य और भौगोलिक संदर्भों में मौजूद जानकारियों से प्राप्त हुए हैं। सरमा ने कहा कि, 12 पुराणों से सबूत एकत्र किए गए थे। उन्होंने यह भी समझाया कि, कर्नाटक (Karnataka) में हंपी हनुमान जी का जन्म स्थान नहीं है। जैसा कि लंबे समय से यह दावा किया जा रहा है। हम्पी प्राचीन समय का किष्किंधा है। जबकि वेंकटचलम, अंजनद्री है। जब सुग्रीव, हनुमान को अंजनद्री से वानर लाने को कहते हैं तो उनकी बातचीत से यह स्पष्ट हो जाता है। इसी प्रकार कंबा के रामायणम और अन्नाम चार्य की रचनाओं के छंदों से साहित्यिक साक्ष्य मिलें हैं। जबकि एपीग्राफिक साक्ष्य 12वीं और 13वीं शताब्दी के शिलालेख से प्राप्त हुए हैं।


तिरुपति, बालाजी (Wikimedia commons)

इसके अलावा कार्यकारी अधिकारियों ने वैदिक विद्वानों द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों का अध्ययन करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था। समिति ने भौगोलिक मान्यता के लिए स्कंद पुराण की ओर रुख किया, जहां ऋषि मतंग हनुमान जी की माता अंजनी देवी से कहते हैं कि, वेंकटचलम स्वर्णमुखी नदी के उत्तर में है और आंध्र प्रदेश के वर्तमान कुरनूल जिले में अहोबिलम से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 

पैनल ने देश भर के उन सभी स्थानों का भी अध्ययन किया, जहां यह माना जाता है कि, भगवान हनुमान जी का जन्म यहां हुआ था। सभी साक्ष्यों को देखने, पढ़ने और समझने के बाद यह मत सामने निकल के आया कि, भगवान हनुमान जी का जन्म अंजनद्री (Anjanadri) की पहाड़ियों में हुआ था। सभी उपलब्ध साक्ष्य अंजनद्री पहाड़ी का समर्थन करते हैं। 

यह भी पढ़ें : Ram Navami: राम को कण-कण में ढूंढा, पर मिले मेरे मन में वो!

टीटीडी समिति में, श्री वेंकटेश्वर वैदिक विश्वविद्यालय के वीसी आचार्य सन्निधानम सुधाकर सरमा, आचार्य रानी सदाशिव मूर्ति, आचार्य जन्मादि रामकृष्ण, इसरो वैज्ञानिक रेमेला मूर्ति, आचार्य मुरलीधर सरमा और आंध्र प्रदेश पुरातत्व विभाग के उप निदेशक विजय कुमार शामिल थे| टीटीडी एसवी विश्वविद्यालय की वेदाध्ययन परियोजना की प्रमुख अकीला विभेष्ण सरमा समिति की संयोजक थीं|

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less