Tuesday, May 11, 2021
Home संस्कृति क्या भगवान हनुमान जी का जन्म तिरूमला के पर्वतों में हुआ था?

क्या भगवान हनुमान जी का जन्म तिरूमला के पर्वतों में हुआ था?

टीटीडी यह दावा करता है कि, तिरुपति में शेश्चलम की सात पहाड़ियों में से एक अंजनद्री पहाड़ी भगवान हनुमान जी का जन्म स्थान है।

हाल ही में तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (Tirumala Tirupati Devasthanam) ने रामनवमी के समारोह पर घोषणा की, कि भगवान हनुमान जी का जन्म आंध्र प्रदेश (Andhra Pardesh) में हुआ था। टीटीडी जो भगवान हनुमान (Hanuman) जी के मंदिर तिरुमाला पहाड़ियों को नियंत्रित करता है। यह बताता है कि यह तथ्य वैदिक विद्वानों, इतिहासकारों, हिन्दू धार्मिक नेताओं के विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा गहन अध्ययन पर आधारित है। 

टीटीडी (TTD) यह दावा करता है कि, तिरुपति में शेश्चलम की सात पहाड़ियों में से एक अंजनद्री (Anjanadri) पहाड़ी भगवान हनुमान जी का जन्म स्थान है। चार महीने के लंबे अध्ययन के निष्कर्षों के बाद , राष्ट्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सरमा ने कहा कि, इस अध्ययन ने स्थापित किया है कि, भगवान राम के परम भक्त महावीर हनुमान अंजनद्री की पहाड़ियों में पैदा हुए थे। सरमा ने कहा कि, उनके निष्कर्ष पौराणिक साक्ष्य और भौगोलिक संदर्भों में मौजूद जानकारियों से प्राप्त हुए हैं। सरमा ने कहा कि, 12 पुराणों से सबूत एकत्र किए गए थे। उन्होंने यह भी समझाया कि, कर्नाटक (Karnataka) में हंपी हनुमान जी का जन्म स्थान नहीं है। जैसा कि लंबे समय से यह दावा किया जा रहा है। हम्पी प्राचीन समय का किष्किंधा है। जबकि वेंकटचलम, अंजनद्री है। जब सुग्रीव, हनुमान को अंजनद्री से वानर लाने को कहते हैं तो उनकी बातचीत से यह स्पष्ट हो जाता है। इसी प्रकार कंबा के रामायणम और अन्नाम चार्य की रचनाओं के छंदों से साहित्यिक साक्ष्य मिलें हैं। जबकि एपीग्राफिक साक्ष्य 12वीं और 13वीं शताब्दी के शिलालेख से प्राप्त हुए हैं।

तिरुपति, बालाजी
तिरुपति, बालाजी (Wikimedia commons)

इसके अलावा कार्यकारी अधिकारियों ने वैदिक विद्वानों द्वारा प्रस्तुत दस्तावेजों का अध्ययन करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था। समिति ने भौगोलिक मान्यता के लिए स्कंद पुराण की ओर रुख किया, जहां ऋषि मतंग हनुमान जी की माता अंजनी देवी से कहते हैं कि, वेंकटचलम स्वर्णमुखी नदी के उत्तर में है और आंध्र प्रदेश के वर्तमान कुरनूल जिले में अहोबिलम से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 

पैनल ने देश भर के उन सभी स्थानों का भी अध्ययन किया, जहां यह माना जाता है कि, भगवान हनुमान जी का जन्म यहां हुआ था। सभी साक्ष्यों को देखने, पढ़ने और समझने के बाद यह मत सामने निकल के आया कि, भगवान हनुमान जी का जन्म अंजनद्री (Anjanadri) की पहाड़ियों में हुआ था। सभी उपलब्ध साक्ष्य अंजनद्री पहाड़ी का समर्थन करते हैं। 

यह भी पढ़ें : Ram Navami: राम को कण-कण में ढूंढा, पर मिले मेरे मन में वो!

टीटीडी समिति में, श्री वेंकटेश्वर वैदिक विश्वविद्यालय के वीसी आचार्य सन्निधानम सुधाकर सरमा, आचार्य रानी सदाशिव मूर्ति, आचार्य जन्मादि रामकृष्ण, इसरो वैज्ञानिक रेमेला मूर्ति, आचार्य मुरलीधर सरमा और आंध्र प्रदेश पुरातत्व विभाग के उप निदेशक विजय कुमार शामिल थे| टीटीडी एसवी विश्वविद्यालय की वेदाध्ययन परियोजना की प्रमुख अकीला विभेष्ण सरमा समिति की संयोजक थीं|

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी