कक्षा 10 तक हिंदी को अनिवार्य विषय बनाने पर जानिए पूर्वोत्तर राज्यों से क्या आ रही हैं प्रतिक्रिया?

0
65
कक्षा 10 तक हिंदी को अनिवार्य विषय बनाने पर जानिए पूर्वोत्तर राज्यों से क्या आ रही हैं प्रतिक्रिया? (Wikimedia Commons)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(Amit Shah) की सभी पूर्वोत्तर राज्यों में कक्षा 10 तक हिंदी(Hindi) को अनिवार्य विषय बनाने की घोषणा पर मिली-जुली प्रतिक्रिया सामने आ रही है। राज्य में पहले से ही 200 बोलियां प्रचलन में हैं, वहीं इस चर्चा ने नया भाषा विवाद खड़ा कर दिया है। विभिन्न राजनीतिक और गैर-राजनीतिक निकायों ने सर्वांगीण एकीकरण के लिए स्वदेशी और स्थानीय भाषाओं को बढ़ावा देने और उनकी रक्षा करने की पुरजोर वकालत की है।

भारत(India) के पूर्वोत्तर क्षेत्र में 4.558 करोड़ लोग (2011 की जनगणना) रहते हैं और स्वदेशी जनजातियां लगभग 28 प्रतिशत हैं और वे ज्यादातर अपनी मातृभाषा या अपनी स्वदेशी भाषा में बातचीत करते हैं। आठ राज्यों में से तीन पूर्वोत्तर राज्यों(North Eastern States) — नागालैंड, मिजोरम और मेघालय में अधिकांश लोग ईसाई बहुल हैं, जबकि अन्य पूर्वोत्तर राज्यों असम, त्रिपुरा, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में ज्यादातर लोग या तो हिंदू या मुसलमान या बौद्ध हैं।

amit shah, northeastern states
अमित शाह (Wikimedia commons)

आंकड़ों के अनुसार, असम (2011 की जनगणना) में कुल 31,205,576 आबादी में से 15,095,797 असमिया भाषी, 9,024,324 बंगाली भाषी, 14,16,125 बोडो भाषी और 21,01,435 हिंदी(Hindi) भाषी हैं। जानकारी के मुताबिक, 2001 की जनगणना के अनुसार 13,010,478 असमिया भाषी, 73,43,338 बंगाली, 12,96,162 बोडो और 15,69,662 हिंदी भाषी लोग थे।

असम(Assam) में 2001-2011 के दशक में इन 4 भाषाओं के बोलने वालों की पूर्ण संख्या में असमिया की 20,85,319, बंगाली की 16,80,986, बोडो की 1,19,963 और हिन्दी भाषियों की संख्या 5,31,773 थी। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने 10 अप्रैल को संसदीय राजभाषा समिति की 37वीं बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा था कि हिंदी को अंग्रेजी की वैकल्पिक भाषा के रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए, लेकिन स्थानीय भाषाओं के रूप में नहीं।

गृह मंत्री(Amit Shah) ने कथित तौर पर बैठक में कहा, “पूर्वोत्तर के 9 आदिवासी समुदायों ने अपनी बोलियों की लिपियों को देवनागरी में बदल दिया है, जबकि पूर्वोत्तर के सभी 8 राज्यों ने कक्षा 10 तक के स्कूलों में हिंदी को अनिवार्य करने पर सहमति व्यक्त की है। छात्रों को हिंदी का प्रारंभिक ज्ञान देने की जरूरत है। कक्षा 9 तक के छात्रों को हिंदी का प्रारंभिक ज्ञान देने और हिंदी शिक्षण परीक्षाओं पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है।”

जबकि पूर्वोत्तर क्षेत्र में राजनीतिक दल हिंदी सीखने के मुद्दे पर विभाजित हैं। भाषा विशेषज्ञों और राजनीतिक टिप्पणीकारों ने कहा कि अंग्रेजी और हिंदी में पढ़ाते समय, स्थानीय और स्वदेशी भाषाओं को उनके प्रचार और व्यावहारिक उपयोग के लिए समान औचित्य दिया जाना चाहिए। असम(Assam) के प्रभावशाली शीर्ष साहित्यिक निकाय, असम साहित्य सभा (ASS) ने पूर्वोत्तर राज्यों में कक्षा 10 तक हिंदी को अनिवार्य विषय बनाने के कदम का विरोध किया है। एएसएस महासचिव जादव चंद्र शर्मा ने कहा कि हिंदी को अनिवार्य भाषा बनाने से स्वदेशी भाषा को खतरा होगा।

पूर्वोत्तर क्षेत्र में प्रसिद्ध राजनीतिक टिप्पणीकार और एक प्रसिद्ध लेखक सुशांत तालुकदार ने कहा कि भाषा पूर्वोत्तर में जातीय समुदायों के लिए एक महत्वपूर्ण पहचान चिह्न् है। बहुभाषी ऑनलाइन पोर्टल ‘नेजाइन’ के संपादक तालुकदार ने आईएएनएस को बताया, “भाषा की बहस का समाधान नहीं हुआ है और भाषा के आधार पर राज्य के गठन के बाद भी यह क्षेत्र राज्य और स्वायत्तता के लिए विभिन्न भाषाई समूहों द्वारा पहचान आंदोलनों का गवाह बना हुआ है। इस पृष्ठभूमि में किसी विशेष भाषा को या तो आधिकारिक भाषा के रूप में या शिक्षा के माध्यम के रूप में या अनिवार्य विषय के रूप में धकेलने का कोई भी प्रस्ताव विरोध को जन्म देगा।”

उन्होंने कहा कि अरूणाचल प्रदेश(Arunachal Pradesh) में एक भाषा के रूप में हिंदी द्वारा असमिया की जगह लेने और 2011 की भाषा जनगणना में असम में हिंदी और बंगाली बोलने वालों की आबादी में वृद्धि ने असमिया भाषा के और हाशिए पर जाने की आशंकाओं को हवा दी, जो राज्य और क्षेत्र में अन्य राज्यों में छोटे जातीय समुदायों के साथ भी प्रतिध्वनित होती है।

तालुकदार ने कहा कि ऐसे समय में जब जातीय समुदाय अपनी भाषा को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं, जिसमें कक्षा 10 तक हिंदी(Hindi) को अनिवार्य विषय बनाना भी शामिल है, इसे उनकी भाषाई आकांक्षाओं के विपरीत एक कदम के रूप में देखा जाता है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी-मार्क्सवादी, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस और कुछ अन्य स्थानीय दलों ने इस कदम का कड़ा विरोध किया है, जबकि पूर्वोत्तर की एक राष्ट्रीय पार्टी नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) ने केंद्र के इस कदम का समर्थन करते हुए स्थानीय और स्वदेशी भाषा को बढ़ावा देने की मांग की है।

माकपा केंद्रीय समिति के सदस्य और दिग्गज आदिवासी नेता जितेंद्र चौधरी ने कहा कि भाजपा सरकार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के इशारे पर सभी समुदायों पर हिंदी थोपने की कोशिश कर रही है। त्रिपुरा के पूर्व आदिवासी कल्याण और वन मंत्री चौधरी ने आईएएनएस को बताया, “अगर केंद्र की भाजपा सरकार सभी समुदायों पर हिंदी थोपने पर जोर देती रही, तो इससे देश की राष्ट्रीय एकता प्रभावित होगी। ये विविधता में एकता और भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दर्शन के खिलाफ है।”

बंगाली बहुल दक्षिणी असम से ताल्लुक रखने वाली तृणमूल कांग्रेस की राज्यसभा सदस्य सुष्मिता देव ने आईएएनएस को बताया कि हिंदी थोपना आरएसएस का एजेंडा है। उन्होंने कहा, “पूर्वोत्तर की स्थानीय भाषाओं को बचाने और बढ़ावा देने के बजाय, भाजपा हिंदी भाषा थोपने की कोशिश कर रही है।” एनपीपी सुप्रीमो और मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने केंद्र के इस कदम का समर्थन करते हुए कहा कि केंद्र सरकार को भी स्थानीय भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए कदम उठाने चाहिए। संगमा ने शिलांग में कहा, “पूर्वोत्तर की स्थानीय और स्वदेशी भाषाओं की रक्षा और उन्हें बढ़ावा देने के लिए संस्थागत और वित्तीय सहायता दी जानी चाहिए।”

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा(Himanta Biswa Sarma) भाजपा के नेतृत्व वाले नॉर्थ ईस्ट डेमोकेट्रिक अलायंस (NEDA) के संयोजक भी हैं। उन्होंने कहा कि हिंदी सीखने को अनिवार्य बनाने के लिए केंद्र की ओर से कोई निर्देश नहीं दिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा, “असम के अधिकांश नागरिकों की मातृभाषा असमिया है। असम सरकार ने असम साहित्य सभा और आदिवासी बहुल संगठनों के परामर्श से एक भाषा नीति तैयार की है जहां एक छात्र अंग्रेजी और हिंदी के अलावा असमिया और एक आदिवासी भाषा सीख सकेंगे। बोडो साहित्य सभा में कुछ विपक्ष के कारण राज्य सरकार ने अभी तक नीति की घोषणा नहीं की है।”

सरमा ने कहा कि शाह ने कहा था कि हर किसी को हिंदी(Hindi) जाननी चाहिए। हम चाहते हैं कि छात्र अंग्रेजी और हिंदी सीखें। उन्होंने कहा, अमित शाह(Amit Shah) ने यह नहीं कहा है कि असमिया भाषा छोड़कर सभी को हिंदी सीखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि असमिया या अपनी मातृभाषा सीखने के बाद हिंदी सीखनी चाहिए। हम यह भी चाहते हैं कि हिंदी सीखकर इस क्षेत्र के छात्र दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र में सरकारी और गैर-सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकें।

असम(Assam) के विपक्षी नेता देवव्रत सैकिया (कांग्रेस) ने कहा कि शाह की घोषणा भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई नई शिक्षा नीति के विपरीत है, जो मातृभाषा में प्राथमिक शिक्षा का समर्थन करती है। मणिपुर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कीशम मेघचंद्र ने इम्फाल में कहा कि उनकी पार्टी केंद्रीय गृह मंत्री के मणिपुर और अन्य पूर्वोत्तर भारत के राज्यों में हिंदी भाषा थोपने के बयान का कड़ा विरोध करती है।

यह भी पढ़े – प्रधानमंत्री संग्रहालय और भारतीय राजनीति

मेघालय(Meghalaya) में कांग्रेस के पूर्व नेता और मौजूदा विधायक अम्परिन लिंगदोह, जिन्होंने हाल ही में पार्टी के 4 विधायकों के साथ भाजपा समर्थित मेघालय डेमोकेट्रिक एलायंस (MDA) सरकार का समर्थन करने की घोषणा की, उन्होंने भी शाह की घोषणा का कड़ा विरोध किया। लिंगदोह ने रविवार को शिलांग में मीडिया से कहा, “केंद्र सरकार पूर्वोत्तर राज्यों में एकतरफा हिंदी थोपने की कोशिश कर रही है।”

आईएएनएस(LG)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here