Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

Transparency: पारदर्शिता

By: अविरल पाण्डेय कई महानुभाव गाहे-बगाहे मुझसे प्रश्न करते हैं कि भला अरविंद केजरीवाल से मेरी इस नापसंदगी का कारण क्याहै? चूँकि इस प्रश्न का उत्तर बहुत लंबा है और इसे मात्र कुछ पंक्तियों में समेटना कदापि संभव नहीं, अतः अवसर आने पर इस प्रश्नजाल में उलझने से मैं सदैव बचता था।परंतु मुझे लगता है

‘अविरल पांडेय’

By: अविरल पाण्डेय


कई महानुभाव गाहे-बगाहे मुझसे प्रश्न करते हैं कि भला अरविंद केजरीवाल से मेरी इस नापसंदगी का कारण क्या
है? चूँकि इस प्रश्न का उत्तर बहुत लंबा है और इसे मात्र कुछ पंक्तियों में समेटना कदापि संभव नहीं, अतः अवसर आने पर इस प्रश्नजाल में उलझने से मैं सदैव बचता था।
परंतु मुझे लगता है कि अब मुझे इस प्रश्न का उत्तर मिल गया है और वह भी मात्र दो शब्दों का, उत्तर है- Transparency: Pardarshita भले ही यह औरों के लिए यह एक वेबसीरीज की परिपाटी पर खरी उतरने वाली कोई वस्तु हो, परंतु मेरे लिए यह एक ऐसा उत्तर है जिसकी प्रतीक्षा में मैं वर्षों से था इसके लिए Dr. Munish Raizada जी का कोटि-कोटि आभार, जिन्होंने इस प्रकार के विभिन्न भावों को संचित कर, इन्हें इन 2 शब्दों के पीछे लाकर खड़ा कर दिया। ठीक उसी प्रकार, जिस प्रकार कभी राष्ट्र के हेतु सकारात्मक विचार रखने वाले जन कभी एक नेता के पीछे आकर खड़े हुए थे।
वस्तुतः इसके अवलोकन के पश्चात ऐसा प्रतीत हुआ कि मेरा अपना कष्ट कोई बहुत विशाल नहीं है। क्योंकि मैने तो
मात्र अपना मन खोया है। जबकि Dr.Raizada जैसे हज़ारों कार्यकर्ताओं ने अपना तन, मन और धन तीनों खोया है।

ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता।

मेरे मित्र कई बार अरविंद केजरीवाल का बचाव करते हुए कहते हैं कि यह भी तो देखो की उन्होंने विद्यालय और
चिकित्सालय को लेकर कितना उत्तम कार्य किया है। इसके उत्तर में मैं मात्र इतना ही कहता हूँ- अवश्य किया होगा और उसके लिए वह साधुवाद के पात्र हैं। परंतु वह जिस दायित्व के लिए चुने गए थे, वह इससे कहीं वृहत था।

यह भी पढ़ें: ‘ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता’ देखने के बाद !

उन्हें उस कार्य के लिए लाया गया था, जो 65 वर्षों में भाजपा और कांग्रेस नहीं कर पायी थी। वही कार्य जिसके
लिए जब वह रामलीला मैदान में बैठे थे, तब हम अपने विद्यालय के समय को धता बताते हुए, अपने शहर में चल रहे आन्दोलन में भाग लेने पहुँच जाते थे। इस बात के विश्वास के साथ की हमारे आगे खड़े लोग हमारा भाग्य बदलेंगे। घर और आस-पड़ोस में पड़ने वाले विभिन्न प्रकार के तानों और उलाहनों को इस विश्वास के साथ भीतर उतार लेते थे कि अवश्य ही एक दिन इन सभी की शंकाएं निर्मूल और हमारा संकल्प विजयी होगा।

एक वह समय था और एक आज का समय है। हम कहाँ खड़े हैं यह बताने की आवश्यकता नहीं है। सरल बात यह है कि उस काल में इस आन्दोलन का ध्वज उठाने वाले ‘आज’ एक उपहास का विषय बन चुके हैं। पुस्तकीय ज्ञान से उलट आन्दोलन के प्रति नाकारात्मक भाव रखने वाले विजयी और दृढ़ संकल्प रखने वाले सकारात्मक विचार परास्त हो चुके हैं। और इस पराजय ने न जाने कितने ही आन्दोलनों की हत्या उनके भ्रूण में ही कर डाली। वह आन्दोलन जो आगे चलकर इस राष्ट्र की चेतना के कर्णधार बनते। अब आने वाले 30-40 वर्षों तक इस समाज की कोख से निकले हर आंदोलन को अपनी शुचिता की अग्निपरिक्षा देनी होगी। और साथ ही अग्निपरीक्षा देगा हर वह नेता, हर वह कार्यकर्ता जो इन आन्दोलनों की वाणी बनने आगे आएगा। सनद रहे, आन्दोलन किसी भी समाज की चैतन्यता का प्रतीक होते हैं। जिस समाज में आन्दोलन नहीं होते, उस समाज की चेतना की आयु बहुत अल्प होती है। और मरी हुई चेतना वाला समाज हमेशा राजा की ‘दया’ पर चलता है।

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less