Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

Transparency web series: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर(भाग-4)

समाज के प्रति जैसा झुकाव शुरुआती दिनों में अरविंद का था, तब सब कहा करते थे की अरविंद राजनीति में कुर्सी पाने के लिए नहीं आए हैं।

क्या है अरविंद केजरीवाल का असली चेहरा। इसे हम ट्रांसपेरेंसी के भाग – 4 जान पाएंगे। (Transparency Web Series)

अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) का जन्म 16 Aug 1968 में हरियाणा के हिसार क्षेत्र में हुआ था। शुरू से ही अरविंद एक शांत स्वभाव के व्यक्ति रहे हैं। समाज से उनका बेहद लगाव रहा है। आईआईटी खड़गपुर से स्नातक डिग्री प्राप्त करने के बाद समाज सेवा के लिए भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) से जुड़े। उसके बाद धीरे – धीरे उन्होंने राजनीति में फैल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रतिक्रिया व्यक्त करनी शुरू कर दी थी।

समाज के प्रति जैसा झुकाव शुरुआती दिनों में अरविंद का था, तब सब कहा करते थे की अरविंद राजनीति में कुर्सी पाने के लिए नहीं आए हैं। उनके द्वारा जनता से किए गए सभी वादों को वो पूरा करेंगे। अरविंद केजरीवाल का शुरू में ध्यान केवल भ्रष्टाचार (Corruption) मिटाने पर था। लेकिन धीरे – धीरे ऐसा क्या हुआ कि आज वो खुद भ्रष्टाचार के ढेर पर बैठे हैं? झाडू हाथ में ले जिस कचरे को वो राजनीति से साफ करने आए थे। आखिर क्यों आज उस गंदगी का एक हिस्सा बन चुके हैं?


2006 – 2007 से ही अरविन्द केजरीवाल ने “स्वराज” के बारे में सोचना शुरू कर दिया था। कैसे समाज में भ्रष्टाचार को खत्म कर स्वराज स्थापित किया जाए। इन अहम मुद्दों पर अरविंद ने सोचना शुरू कर दिया था। यहां तक उनके द्वारा लिखी एक किताब भी है जिसका नाम है “स्वराज।” जब समाज में परिवर्तन कि बातें होने लगी। आवाज उठाए जाने लगे तब एक NGO रजिस्टर हुआ था PCRF के नाम से। लेकिन आज इस NGO का क्या हुआ? PCRF का क्या हुआ?

अरविंद केजरीवाल ने एक बार अपने अनशन के दौरान भाषण दिया था कि “भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन, जय प्रकाश आंदोलन के 30 साल के बाद यह मौका आया है। यह आर या पार की लड़ाई है। हमें इस मौके को खोना नहीं है। इन भाषणों से जनता में जोश पैदा करने वाले। दिल्ली की गद्दी हासिल करते ही मूक क्यों हो गए?

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर (भाग – 1)

उस वक्त आंदोलन का लोगों पर इतना प्रभाव था कि देश – विदेश से लोग अपना काम अपना परिवार तक छोड़ कर केवल पार्टी को अपना समर्थन देने आए थे। जब पार्टी का गठन हुआ तो अरविंद केजरीवाल ने जनता से कहा कि हम आम आदमी को मौका देना चाहते हैं। जो लोग भी हमसे जुड़ना चाहते हैं। हमारे पास आए। ये हैरानी की ही बात है कि उस वक्त लोग लाइनों में लग – लग कर पार्टी की मेंबरशिप ले रहे थे। लेकिन ऐसा क्या हुआ कि आज वह सभी समर्थक अपने – अपने घर जा चुके हैं और आज आम आदमी पार्टी से नाराज़ हैं?

अरविंद केजरीवाल कहते थे, हम बड़े बंगले में नहीं रहेंगे। VIP सिक्योरिटी नहीं लेंगे। AC में बैठ कर नहीं जनता के बीच रह कर काम करेंगे। अपने लोगों को नहीं बल्कि आम जनता को मौका देंगे। फिर उन सभी वादों और भाषणों को क्यों दरकिनार कर दिया उन्होंने? अगर टिकट का लालच नहीं था तो आज क्यों दिल्ली कि गद्दी पर बैठे हैं? क्या शुरू से उनका मकसद गद्दी हासिल करना था? क्यों जनता के साथ उन्होंने विश्वासघात किया?

जब अन्ना आंदोलन (Anna Movement) लोगों में प्रचलित हुआ। लोगों ने बढ़ – चढ़ कर हिस्सा लिया। तब पार्टी के एक सदस्य संजय सिंह जैसे लोगों के दिमाग में यह बात आने लगी थी कि, पार्टी के अंदर मुस्लिम, हिन्दू, पंडित, किन्नर और भी समुदाय के लोग होने चाहिए। एक तरफ अरविंद केजरीवाल कहते थे कि हमें सही मायनों में धर्मनिपेक्षता को स्थापित करना होगा। हिन्दू – मुस्लिम के भेद को खत्म करना होगा। वहीं दूसरी तरह उनकी पार्टी के लोग और वह खुद भी जाति भेद उत्पन्न करते थे। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है उन्हीं के पार्टी के एक सदस्य जितेन्द्र सिंह तोमर, जिन्हें सिर्फ इसलिए नेता बनाया गया क्योंकि वह एक राजपूत थे। आखिर क्यों?

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES : स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर(भाग-2)

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES: क्या था INDIA AGAINST CORRUPTION?

क्यों अरविंद केजरीवाल जब मुस्लिम इलाकों में जाते थे तो कहते थे यहां बात करो Batla House की। और जब हिन्दू इलाकों में आते थे तो उनके भाषण और हाव – भाव दोनों बदल जाते थे? क्यों अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, अफजल गुरु के बारे में कोई कुछ नहीं बोलेगा क्योंकि इससे मुसलमान नाराज हो जाते हैं?

हमें हमारे सभी प्रश्नों के जवाब Transparency: Pardarshita web series के माध्यम से मिलेंगे। क्या है अरविंद केजरीवाल का असली चेहरा। इसे हम ट्रांसपेरेंसी के भाग – 4 जान पाएंगे। आगे हम जानेंगे कि असल मायनों में “स्वराज” क्या होता है। गांधीवादी विचारधारा से लोग कैसे परिवर्तित हुए। उन्होंने कैसे समाज में भी परिवर्तन किए।

भारतीय दर्शकों के लिए MX Player पर निशुल्क उपलब्ध है।

https://www.mxplayer.in/show/watch-transparency-pardarshita-series-online-f377655abfeb0e12c6512046a5835ce1

यू.एस.ए और यूके के दर्शकों के लिए Amazon Prime पर मौजूद है। https://www.amazon.com/gp/video/detail/B08NWY9VWT/ref=atv_dp_share_cu_r

डॉक्यूमेंट्री को https://transparencywebseries.com/ पर भी देखा जा सकता है।

Popular

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने स्लीपर सेल्स के ज़रिये दिल्ली में लगवाई आईईडी- रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

एक सूत्र ने कहा कि आरडीएक्स-आधारित इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED), जो 14 जनवरी को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फूल बाजार में पाया गया था और उसमें "एबीसीडी स्विच" और एक प्रोग्राम करने योग्य टाइमर डिवाइस होने का संदेह था।

कश्मीर और अफगानिस्तान में सक्रिय जिहादी आतंकवादियों द्वारा लगाए गए आईईडी में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाने वाले इन स्विच का पाकिस्तान(Pakistan) सबसे बड़ा निर्माता है। सूत्र ने कहा कि इन फोर-वे स्विच और टाइमर का उपयोग करके विस्फोट का समय कुछ मिनटों से लेकर छह महीने तक के लिए सेट किया जा सकता है।

Keep Reading Show less

राष्ट्रपति भवन (Wikimedia Commons)

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम(South Delhi Municipal Corporation) में भाजपा के मुनिरका वार्ड से पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द(Ramnath Kovind) को एक पत्र लिखकर राष्ट्रपति भवन(Rashtrapati Bhavan) में स्थित मुगल गार्डन का नाम बदल कर पूर्व राष्ट्रपति मिसाइल मैन डाक्टर अब्दुल कलाम वाटिका(Abdul Kalam Vatika) के नाम पर रखने की मांग की है। निगम पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति को भेजे अपने पत्र में लिखा है, मुगल काल में मुगलों द्वारा पूरे भारत में जिस प्रकार से आक्रमण किए गए और देश को लूटा था। वहीं देशभर में मुगल आक्रांताओं के नाम से लोगों में रोष हैं। जिन्होंने भारत की संस्कृति को खत्म करने का प्रयास किया उनको प्रचारित न किया जाए।

rastrapati bhavan, mughal garden राष्ट्रपति भवन स्थित मुगल गार्डन (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

शोधकर्ताओं ने कोविड के खिलाफ लड़ने में कारगर हिमालयी पौधे की खोज। ( Pixabay )

कोविड के खिलाफ नियमित टीकाकरण के अलावा दुनिया भर में अन्य प्रकार की दवाईयों पर अनेक संस्थायें रिसर्च कर रही हैं जो मानव शरीर पर इस विषाणु के आक्रमण को रोक सकती है। इसी क्रम में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं को एक बड़ी सफलता मिली है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं ने एक हिमालयी पौधे की पंखुड़ियों में फाइटोकेमिकल्स की खोज की है जो कोविड संक्रमण के इलाज में करगर साबित हो सकती है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी में स्कूल ऑफ बेसिक साइंस के बायोएक्स सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. श्याम कुमार मसाकापल्ली के तर्ज पर एक वक्तव्य में कहा की, अलग अलग तरह के चिकित्सीय एजेंटों में पौधों से प्राप्त रसायनों फाइटोकेमिकल्स को उनकी क्रियात्मक गतिविधि और कम विषाक्तता के कारण विशेष रूप से आशाजनक माना जाता है। टीम ने हिमालयी बुरांश पौधे की पंखुड़ियों में इन रसायनों का पता लगया है। पौधे का वैज्ञानिक नाम रोडोडेंड्रोन अर्बोरियम है जिसे वहाँ के स्थानीय लोग अलग अलग तरह की बीमारियों में इसका इस्तेमाल करते हैं।

Keep reading... Show less