Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

Transparency web series: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर(भाग-4)

समाज के प्रति जैसा झुकाव शुरुआती दिनों में अरविंद का था, तब सब कहा करते थे की अरविंद राजनीति में कुर्सी पाने के लिए नहीं आए हैं।

क्या है अरविंद केजरीवाल का असली चेहरा। इसे हम ट्रांसपेरेंसी के भाग – 4 जान पाएंगे। (Transparency Web Series)

अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) का जन्म 16 Aug 1968 में हरियाणा के हिसार क्षेत्र में हुआ था। शुरू से ही अरविंद एक शांत स्वभाव के व्यक्ति रहे हैं। समाज से उनका बेहद लगाव रहा है। आईआईटी खड़गपुर से स्नातक डिग्री प्राप्त करने के बाद समाज सेवा के लिए भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) से जुड़े। उसके बाद धीरे – धीरे उन्होंने राजनीति में फैल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रतिक्रिया व्यक्त करनी शुरू कर दी थी।

समाज के प्रति जैसा झुकाव शुरुआती दिनों में अरविंद का था, तब सब कहा करते थे की अरविंद राजनीति में कुर्सी पाने के लिए नहीं आए हैं। उनके द्वारा जनता से किए गए सभी वादों को वो पूरा करेंगे। अरविंद केजरीवाल का शुरू में ध्यान केवल भ्रष्टाचार (Corruption) मिटाने पर था। लेकिन धीरे – धीरे ऐसा क्या हुआ कि आज वो खुद भ्रष्टाचार के ढेर पर बैठे हैं? झाडू हाथ में ले जिस कचरे को वो राजनीति से साफ करने आए थे। आखिर क्यों आज उस गंदगी का एक हिस्सा बन चुके हैं?


2006 – 2007 से ही अरविन्द केजरीवाल ने “स्वराज” के बारे में सोचना शुरू कर दिया था। कैसे समाज में भ्रष्टाचार को खत्म कर स्वराज स्थापित किया जाए। इन अहम मुद्दों पर अरविंद ने सोचना शुरू कर दिया था। यहां तक उनके द्वारा लिखी एक किताब भी है जिसका नाम है “स्वराज।” जब समाज में परिवर्तन कि बातें होने लगी। आवाज उठाए जाने लगे तब एक NGO रजिस्टर हुआ था PCRF के नाम से। लेकिन आज इस NGO का क्या हुआ? PCRF का क्या हुआ?

अरविंद केजरीवाल ने एक बार अपने अनशन के दौरान भाषण दिया था कि “भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन, जय प्रकाश आंदोलन के 30 साल के बाद यह मौका आया है। यह आर या पार की लड़ाई है। हमें इस मौके को खोना नहीं है। इन भाषणों से जनता में जोश पैदा करने वाले। दिल्ली की गद्दी हासिल करते ही मूक क्यों हो गए?

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर (भाग – 1)

उस वक्त आंदोलन का लोगों पर इतना प्रभाव था कि देश – विदेश से लोग अपना काम अपना परिवार तक छोड़ कर केवल पार्टी को अपना समर्थन देने आए थे। जब पार्टी का गठन हुआ तो अरविंद केजरीवाल ने जनता से कहा कि हम आम आदमी को मौका देना चाहते हैं। जो लोग भी हमसे जुड़ना चाहते हैं। हमारे पास आए। ये हैरानी की ही बात है कि उस वक्त लोग लाइनों में लग – लग कर पार्टी की मेंबरशिप ले रहे थे। लेकिन ऐसा क्या हुआ कि आज वह सभी समर्थक अपने – अपने घर जा चुके हैं और आज आम आदमी पार्टी से नाराज़ हैं?

अरविंद केजरीवाल कहते थे, हम बड़े बंगले में नहीं रहेंगे। VIP सिक्योरिटी नहीं लेंगे। AC में बैठ कर नहीं जनता के बीच रह कर काम करेंगे। अपने लोगों को नहीं बल्कि आम जनता को मौका देंगे। फिर उन सभी वादों और भाषणों को क्यों दरकिनार कर दिया उन्होंने? अगर टिकट का लालच नहीं था तो आज क्यों दिल्ली कि गद्दी पर बैठे हैं? क्या शुरू से उनका मकसद गद्दी हासिल करना था? क्यों जनता के साथ उन्होंने विश्वासघात किया?

जब अन्ना आंदोलन (Anna Movement) लोगों में प्रचलित हुआ। लोगों ने बढ़ – चढ़ कर हिस्सा लिया। तब पार्टी के एक सदस्य संजय सिंह जैसे लोगों के दिमाग में यह बात आने लगी थी कि, पार्टी के अंदर मुस्लिम, हिन्दू, पंडित, किन्नर और भी समुदाय के लोग होने चाहिए। एक तरफ अरविंद केजरीवाल कहते थे कि हमें सही मायनों में धर्मनिपेक्षता को स्थापित करना होगा। हिन्दू – मुस्लिम के भेद को खत्म करना होगा। वहीं दूसरी तरह उनकी पार्टी के लोग और वह खुद भी जाति भेद उत्पन्न करते थे। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है उन्हीं के पार्टी के एक सदस्य जितेन्द्र सिंह तोमर, जिन्हें सिर्फ इसलिए नेता बनाया गया क्योंकि वह एक राजपूत थे। आखिर क्यों?

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES : स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर(भाग-2)

यह भी पढ़ें :- TRANSPARENCY WEB SERIES: क्या था INDIA AGAINST CORRUPTION?

क्यों अरविंद केजरीवाल जब मुस्लिम इलाकों में जाते थे तो कहते थे यहां बात करो Batla House की। और जब हिन्दू इलाकों में आते थे तो उनके भाषण और हाव – भाव दोनों बदल जाते थे? क्यों अरविंद केजरीवाल ने कहा कि, अफजल गुरु के बारे में कोई कुछ नहीं बोलेगा क्योंकि इससे मुसलमान नाराज हो जाते हैं?

हमें हमारे सभी प्रश्नों के जवाब Transparency: Pardarshita web series के माध्यम से मिलेंगे। क्या है अरविंद केजरीवाल का असली चेहरा। इसे हम ट्रांसपेरेंसी के भाग – 4 जान पाएंगे। आगे हम जानेंगे कि असल मायनों में “स्वराज” क्या होता है। गांधीवादी विचारधारा से लोग कैसे परिवर्तित हुए। उन्होंने कैसे समाज में भी परिवर्तन किए।

भारतीय दर्शकों के लिए MX Player पर निशुल्क उपलब्ध है।

https://www.mxplayer.in/show/watch-transparency-pardarshita-series-online-f377655abfeb0e12c6512046a5835ce1

यू.एस.ए और यूके के दर्शकों के लिए Amazon Prime पर मौजूद है। https://www.amazon.com/gp/video/detail/B08NWY9VWT/ref=atv_dp_share_cu_r

डॉक्यूमेंट्री को https://transparencywebseries.com/ पर भी देखा जा सकता है।

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less