Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

Transparency Web Series : स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर

"Transparency: Pardarshita" एक राजनीतिक थ्रिलर वेब सीरीज जो चंदे की पारदर्शिता के लिए एक आम - आदमी द्वारा किए गए संघर्ष को उजागर करती है।

“Transparency: Pardarshita” एक राजनीतिक थ्रिलर वेब सीरीज| (Transparency)

दुनिया में कई वेब सीरीज (Web Series) हैं, जिनकी कहानी, उससे जुड़े पात्र और उस सीरीज को जनता तक पहुंचाने का मकसद अलग-अलग होता है। कुछ काल्पनिक कुछ रहस्यमयी और कुछ सत्य घटनाओं पर आधारित ऐसी वेब सीरीज होती हैं जो जनता को सच्चाई से रूबरू कराती है।  

आज हम एक ऐसी वेब सीरीज की बात करेंगे जो राजनीतिक शैली पर आधारित है। यह सीरीज चंदे की पारदर्शिता के लिए एक आम-आदमी द्वारा किए गए संघर्ष को उजागर करती है।


“Transparency: Pardarshita” एक राजनीतिक थ्रिलर वेब सीरीज है जिसे Dr. Munish Raizada द्वारा निर्मित और निर्देशित किया गया है। जिसमें कुल 7 एपिसोड हैं। प्रत्येक एपिसोड 40 से 50 मिनट की अवधि में है। वेब सीरीज में तीन गीतों को भी बखूबी शामिल किया गया है| जिसमें कैलाश खेर जी द्वारा “बोल रे दिल्ली बोल”, उदित नारायण जी द्वारा “कितना चंदा” और सवानी मुद्गल जी द्वारा “वैष्णव जन”| यह एक ऐसी वेब सीरीज है, जो आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) और इंडिया अगेंस्ट करप्शन (India Against Corruption) के चौंकाने वाले तथ्यों के विषय में बात करती है। एक ऐसी राजनीतिक पार्टी जिसने इस मकसद से सत्ता में कदम रखा की भ्रष्टाचार को जड़ से खत्म कर देंगे उस पार्टी ने कैसे मासूम जनता की उम्मीदों का गला घोंटा है, यह सीरीज ऐसे कई झकझोर देने वाले सच को बयां करती है|

यह सीरीज झकझोर देने वाले सच को बयां करती है| (Transparency)

स्वराज, व्यवस्था परिवर्तन, आम – आदमी, जनलोकपाल, अन्ना आंदोलन, चंदे की पारदर्शिता और सत्य के अहम मुद्दों के साथ इस पूरी वेब सीरीज के स्वरूप को गठित किया गया है। 

“राजधानी का ओहदा पाया, सिमट गई तेरी हर काया”। यह सीरीज दिल्ली के साथ हुए छल को बखूबी बयां करती है। एक पार्टी जिसने छल – कपट से वो सब हासिल कर लिया जिसे वह दुनिया के सामने धिक्कारने का झूठा नाटक करती थी। यह वेब सीरीज एक ऐसी राजनीतिक पार्टी के झूठ से नकाब हटाती है, जिसने व्यवस्था परिवर्तन के नाम पर ना जाने कितने भारतवासियों के उम्मीदों का गला घोट डाला। 

हालांकि इस डॉक्यूमेंट्री सीरीज का मकसद व्यक्तिगत रूप से किसी की प्रतिष्ठा को चोट पहुंचाना नहीं है। यह सीरीज जनता के साथ हुए छल, अन्ना आंदोलन के दौरान हुई घटनाएं और आम आदमी पार्टी की कार्यप्रणाली का गहन विश्लेषण करती है। यह डॉक्यूमेंट्री सीरीज परत दर परत कई रहस्यों पर से पर्दा उठाती है।

यह भी पढ़ें :- Bol Re Dilli Bol – ‘आप’ सरकार से छले जाने का बिन्दुवार वर्णन

इस डॉक्यूमेंट्री सीरीज के माध्यम से आप आगे जानेंगे कि कैसे अन्ना आंदोलन की शुरुआत हुई थी? कैसे एक पार्टी व्यवस्था परिवर्तन के नाम पर जनता की उम्मीदों का एक चेहरा बन गई थी? 

  • डॉक्यूमेंट्री को transparencywebseries.com पर भी देखा जा सकता है

Popular

अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश (IANS)

केबीसी यानि कोन बनेगा करोड़पति भारतीय टेलिविज़न का एक लोकप्रिय धारावाहिक है । यहा पर अक्सर ही कई सेलिब्रिटीज आते रहते है । इसी बीच केबीसी के मंच पर भारत की हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश पहुंचे । केबीसी 13' पर मेजबान अमिताभ बच्चन के साथ बातचीत करते हुए, भारत के गोलकीपर पीआर श्रीजेश 41 साल बाद हॉकी में ओलंपिक पदक जीतने को लेकर बात की। श्रीजेश ने साझा किया कि "हम इस पदक के लिए 41 साल से इंतजार कर रहे थे। साथ उन्होंने ये भी कहा की वो व्यक्तिगत रूप से, मैं 21 साल से हॉकी खेल रहे है। आगे श्रीजेश बोले मैंने साल 2000 में हॉकी खेलना शुरू किया था और तब से, मैं यह सुनकर बड़ा हुआ हूं कि हॉकी में बड़ा मुकाम हासिल किया, हॉकी में 8 गोल्ड मेडल मिले। इसलिए, हमने खेल के पीछे के इतिहास के कारण खेलना शुरू किया था। उसके बाद हॉकी एस्ट्रो टर्फ पर खेली गई, खेल बदल दिया गया और फिर हमारा पतन शुरू हो गया।"

जब अभिनेता अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ के बारे में अधिक पूछा, तो उन्होंने खुल के बताया।"इस पर अमिताभ बच्चन ने एस्ट्रो टर्फ पर खेलते समय कठिनाई के स्तर को समझने की कोशिश की। इसे समझाते हुए श्रीजेश कहते हैं कि "हां, बहुत कुछ, क्योंकि एस्ट्रो टर्फ एक कृत्रिम घास है जिसमें हम पानी डालते हैं और खेलते हैं। प्राकृतिक घास पर खेलना खेल शैली से बिल्कुल अलग है। "

इस घास के बारे में आगे कहते हुए श्रीजेश ने यह भी कहा कि "पहले सभी खिलाड़ी केवल घास के मैदान पर खेलते थे, उस पर प्रशिक्षण लेते थे और यहां तक कि घास के मैदान पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी खेलते थे। आजकल यह हो गया है कि बच्चे घास के मैदान पर खेलना शुरू करते हैं और बाद में एस्ट्रो टर्फ पर हॉकी खेलनी पड़ती है। जिसके कारण बहुत समय लगता है। यहा पर एस्ट्रो टर्फ पर खेलने के लिए एक अलग तरह का प्रशिक्षण होता है, साथ ही इस्तेमाल की जाने वाली हॉकी स्टिक भी अलग होती है।" सब कुछ बदल जाता है ।

Keep Reading Show less

कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। (IANS)

वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे बड़े खिलाड़ी और कप्तान विराट कोहली ने गुरूवार को घोषणा की कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 प्रारूप की कप्तानी छोड़ेंगे। उनका ये एलान करोड़ो दिलो को धक्का देने वाला था क्योंकि कोहली को हर कोई कप्तान के रूप में देखना चाहता है । कई दिनों से चल रहे संशय पर विराम लगाते हुए कोहली ने आज ट्विटर के जरिए एक बयान में इसकी घोषणा की। कोहली ने बताया कि वह इस साल अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी20 विश्व कप के बाद टी20 के कप्तानी पद को छोड़ देंगे।

ट्वीट के जरिए उन्होंने इस यात्रा के दौरान उनका साथ देने के लिए सभी का धन्यवाद दिया। कोहली ने बताया कि उन्होंने यह फैसला अपने वर्कलोड को मैनेज करने के लिए लिया है। उनका वर्कलोड बढ़ गया था ।

Keep Reading Show less

मंगल ग्रह की सतह (Wikimedia Commons)

मंगल ग्रह पर घर बनाने का सपना हकीकत में बदल सकता हैं। वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष यात्रियों के खून, पसीने और आँसुओ की मदद से कंक्रीट जैसी सामग्री बनाई है, जिसकी वजह से यह संभव हो सकता है। मंगल ग्रह पर छोटी सी निर्माण सामग्री लेकर जाना भी काफी महंगा साबित हो सकता है। इसलिए उन संसाधनों का उपयोग करना होगा जो कि साइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के अध्ययन में यह पता लगा है कि मानव रक्त से एक प्रोटीन, मूत्र, पसीने या आँसू से एक यौगिक के साथ संयुक्त, नकली चंद्रमा या मंगल की मिट्टी को एक साथ चिपका सकता है ताकि साधारण कंक्रीट की तुलना में मजबूत सामग्री का उत्पादन किया जा सके, जो अतिरिक्त-स्थलीय वातावरण में निर्माण कार्य के लिए पूरी तरह से अनुकूल हो।

Keep reading... Show less