Saturday, June 12, 2021
Home ज़रूर पढ़ें Transparency Web Series: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर (भाग -...

Transparency Web Series: स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर (भाग – 1)

यह वेब सीरीज एक आम आदमी के उस यात्रा वृतांत को दिखाता है, जो "चंदे की पारदर्शिता" की खोज में अनंत यात्रा पर निकल पड़ता है।

एक आम आदमी जीवन भर अपने हक के लिए लड़ता रहता है। देश भले ही लोकतंत्र की बुनियाद पर टिका हो परन्तु इसका अस्तित्व राजनीतिक दलालों के हाथों निर्धारित होता है। 

“ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता” वेब सीरीज में उसी आम आदमी की कहानी को बहुत खूबसूरती से बुना गया है। यह वेब सीरीज एक आम आदमी के उस यात्रा वृतांत को दिखाता है, जो “चंदे की पारदर्शिता” की खोज में अनंत यात्रा पर निकल पड़ता है। वेब सीरीज में आम आदमी के रूप में डॉ मुनीश रायजादा कई सवालों की गठरी बांधे इस यात्रा की मंजिल तलाशनें यानी अपने सभी सवालों के जवाब खोजने निकल जाते हैं। लेकिन क्या उन्हें उनके प्रश्नों के जवाब मिलते हैं? क्या केजरीवाल उनके सवालों का जवाब देते हैं? 

एक राजनीतिक चेहरा देश बदलने के मकसद से राष्ट्र पटल पर उजागर हुआ था। जिसने कहा था, देश का आम आदमी भ्रष्टाचार नहीं करना चाहता है और हमें मिलकर इस भ्रष्टाचार को खत्म करना होगा। आखिर क्यों और कैसे वह एक भ्रष्टाचारी बन बैठे। आम आदमी पार्टी जिसके तीन सिद्धांत “वित्तीय पारदर्शिता”, “आंतरिक सतर्कता” और “शक्ति विकेंद्रीकरण।” आखिर कैसे ये तीनों सिद्धांत मटिया मेट हो गए? जिस पारदर्शिता का नारा पूरी दुनिया में दिया गया। आखिर क्यों उसे अपने घर में स्थापित नहीं कर पाए?

घोटालों के विरुद्ध एक प्रयास उठा था। जिसके तहत लोकपाल बिल के विषय को सामने लाया गया था। कहा गया था कि लोकपाल बिल आ जाए तो भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाया जा सकता है। जिसके पश्चात अन्ना हजारे जी (राष्ट्रीय स्तर पर सामाजिक कार्यकर्ता के तौर पर जाने जाते हैं।) को सामने लाया गया था। परन्तु ऐसा क्या हुआ था कि लोकपाल बिल आने के उपरांत भी भ्रष्टाचार पर अंकुश नहीं लगा और ना ही घोटालों की गति पर विराम लगा? 

2010 में जब अन्ना आंदोलन शुरू हुआ था तो उसकी नींव ही भ्रष्टाचार को खत्म करना था, सदियों से मैली पड़ी राजनीतिक व्यवस्था को बदलना था। जहां सेवक बनकर काम करना था। वहीं एक बदलाव की लहर लेकर आता हुआ एक आम चेहरा देखते ही देखते आखिर मालिक कैसे बन गया??

यह भी पढ़ें :- Transparency Web Series : स्वराज से लेकर भ्रष्टाचार तक का सफर

“ट्रांसपेरेंसी: परदर्शिता” वेब सीरीज भ्रष्टाचार के खिलाफ गत दशक शुरू होने वाले इंडिया अगेंस्ट करप्शन व अन्ना आंदोलन से निकली “आम आदमी पार्टी” पर आधारित है और इस सीरीज के माध्यम से ही सभी सवालों पर से पर्दा उठेगा। आगे आप जानेंगे की ऐसा क्या था कि एक आम आदमी (अरविंद केजरीवाल) पर पूरी दुनिया ने विश्वास कर लिया था? आखिर कौन है डॉ मुनीश रायजादा? और क्यों वह चंदे की पारदर्शिता से जुड़े सवालों की खोज कर रहे हैं?

भारतीय दर्शकों के लिए MX Player पर निशुल्क उपलब्ध है। https://www.mxplayer.in/show/watch-transparency-pardarshita-series-online-f377655abfeb0e12c6512046a5835ce1

यू.एस.ए और यूके के दर्शकों के लिए Amazon Prime पर मौजूद है। https://www.amazon.com/gp/video/detail/B08NWY9VWT/ref=atv_dp_share_cu_r

डॉक्यूमेंट्री को https://transparencywebseries.com/ पर भी देखा जा सकता है।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी