Tuesday, December 1, 2020
Home ओपिनियन कई कटाक्ष और सच को दर्शाता है 'बोल रे दिल्ली बोल' गीत

कई कटाक्ष और सच को दर्शाता है ‘बोल रे दिल्ली बोल’ गीत

कैलाश खेर द्वारा गाया गया गीत 'बोल रे दिल्ली बोल', दिल्ली के सिंघासन पर बैठे कई राजनेताओं पर कटाक्ष कर रहा है।

By: राधिका टंडन

‘बोल रे दिल्ली बोल’ कैलाश खेर द्वारा प्रस्तुत किया गया यह गीत कई कटाक्ष और सवालों को लिए है। दिसंबर 2019 में आए इस गीत में झूठे वादों और खोखले कामों पर सवाल किए गए हैं। यह गीत उन सभी भ्रष्ट प्रथाओं और भ्रष्ट राजनेताओं पर कटाक्ष एवं व्यंग के रूप में उभर कर आया है जिन्होंने दिल्ली और दिल्ली वालों को लूटा है।

आप सोचेंगे दिल्ली ही क्यों? यह इसलिए कि ‘आम आदमी पार्टी’ जिन खोखले वादे और ओछी राजनीति के दम पर सत्ता में आई थी यह गीत मुख्य रूप से उन सभी बातों पर आपका ध्यान केंद्रित करता है। यह बताता है कि 2015 में अरविंद केजरीवाल ने कैसे गुड़ से लदे हुए मीठे वादे किए थे और चुनावों में अपने झूठे गौरव का बखान करने के साथ ही यह बता रहे थे, कि दिल्ली में जिसका शासन है उससे दिल्ली की स्थिति कितनी दयनीय है।

कैलाश खेर की बुलंद आवाज़ और अन्नू रिज़वी के बोल ने इस गीत में मानो क्रांति की नई दिशा दे दी है। इस गीत की शुरुआत ही यमुना के काले सच से होती है कि कैसे यमुना डिटर्जेंट और गन्दगी से घुट-घुट कर दम तोड़ रही है। यह गीत हमें 2012 में हुए क्रांतिकारी आंदोलन ‘इंडिया अगेंस्ट करप्शन'(IAC) की भी याद दिलाता है, कि कैसे अन्ना हज़ारे ने इस देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने का प्रण लिया था।

साथ ही साथ उसी मुहीम से एक नेता बनकर निकले अरविन्द केजरीवाल ने कैसे दिल्ली और दिल्ली वालों को लूटा। कहां है वह स्मार्ट सिटी और कहां है स्वच्छ यमुना? और इन वादों पर कब काम होगा? क्यूंकि अभी भी केवल दम तोड़ती यमुना दिख रही है, और अभी भी गरीब, झुग्गियों में रहने पर मजबूर हैं न उनकी कोई सुनवाई है और न ही कोई पूछ है।

Twitter India Stop promotion of Transparency web series
“ट्रांसपेरेंसी: पारदर्शिता”, मुनीश रायज़ादा द्वारा निर्मित डॉक्यूमेंट्री सीरीज़ .

यह गीत हमें यह भी याद दिलाता है कि कैसे सर्दियों में दिल्ली स्मॉग में घुट जाती है और प्रदूषण की वजह से कई दिक्कतों का सामना करती है। कैसे सड़कें गड्ढे में तब्दील हो जाती हैं और हर बार जलभराव का सामना करना पड़ता है, यह सब इस गीत में दर्शाया गया है। यह गीत शिक्षा में हो रहे भेदभाव को भी बड़ी बारीकी से प्रस्तुत करता है और यह भी दिखाता है कि जिस गरीब ने दिल्ली को खड़ा किया उसको ही छत, रोटी, पानी के लिए दर दर भटकना पड़ता है।

यह भी पढ़ें: पारदर्शिता – अपनों द्वारा छली गयी दिल्ली की अनसुनी कहानी

ठंड में रैन बसेरों का वादा अभी भी फाइलों और पुराने वीडियो में ही कैद है, असल में नहीं। दिल्ली की सड़कों पर अभी भी माँ-बहनों को खौफ का सामना करना पड़ता है, सुरक्षा का तो सवाल ही छोड़ दीजिए। कैलाश खेर का यह गीत असलियत और दिल को झकझोर देने वाले सच से अवगत कराता है और यह गीत डॉ. मुनीश रायज़ादा द्वारा निर्मित डॉक्यूमेंट्री ‘ट्रांसपेरेंसी-पारदर्शिता’ का एक हिस्सा है।

इस पार्टी के सभी काले सच अब उजागर हो रहे हैं और इनकी बेईमानी का पर्दा खुल चुका है। अब अपने अधिकारों के लिए, अपने शहर के लिए खड़े होने का समय आ चूका है, इस टिप्पणी के साथ यह गीत समाप्त होता है और इस भ्रष्ट सरकार का सामना करने की मुहीम को आगे बढ़ाते हुए दिल्ली को कह रहा है ‘बोल रे दिल्ली बोल’।

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी