Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

क्या डोनाल्ड ट्रम्प 2024 का चनाव भी लड़ेंगे?

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस संकेत के साथ राजनीतिक क्षेत्र में वापसी की है कि वह 2024 में राष्ट्रपति का चुनाव लड़ सकते हैं।

By: अरुल लुईस


अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस संकेत के साथ राजनीतिक क्षेत्र में वापसी की है कि वह 2024 में राष्ट्रपति का चुनाव लड़ सकते हैं। साथ ही उन्होंने डेमोक्रेट्स सांसदों एवं रिपब्लिकन पार्टी के उन सदस्यों पर प्रहार किया जो उनके प्रति वफादार नहीं हैं।

पद छोड़ने के बाद पहली बार रविवार को सार्वजनिक रूप से बोलते हुए ट्रंप ने कहा कि 3 नवंबर, 2020 के चुनाव में हार नहीं मानता हूं, बल्कि मैं उन्हें तीसरी बार भी हराने का फैसला कर सकता हूं।

उन्होंने इन अटकलों पर विराम लगाया कि वह कोई तीसरी पार्टी बना सकते हैं। उन्होंने इसे फर्जी खबर बताया और कहा कि यह रिपब्लिकन वोट को विभाजित करने की कोशिश है, ताकि “आप कभी जीत न सकें”।

उन्होंने कहा कि हमारे पास रिपब्लिकन पार्टी है। यह एकजुट हो रही है और पहले से कहीं ज्यादा मजबूत हो रही है। उन्होंने अपनी पार्टी के उन “दुश्मन सदस्यों” की सूची की घोषणा की जिन्होंने उन पर महाभियोग चलाने या उन्हें दोषी ठहराने के लिए मतदान किया था।

उन्होंने कंजरवेटिव पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (सीपीएसी) के वार्षिक सम्मेलन में अपनी राजनीतिक मंशा जताने की कोशिश की। एक अनौपचारिक सर्वेक्षण से पता चला कि 68 प्रतिशत प्रतिभागी यह चाहते हैं कि वह फिर से राष्ट्रपति का चुनाव लड़ें, जबकि 95 प्रतिशत प्रतिभागियों ने उनकी नीतियों का समर्थन किया।

इस सम्मेलन में शामिल हुए सदस्यों की भीड़ से पार्टी में ट्रंप के जनाधार का अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है, हालांकि इनमें अधिकांश सदस्यों ने न तो मास्क पहना हुआ था और न ही वे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे थे। वे बार-बार यही दोहरा रहे थे – “वी लव यू”।

ट्रम्प ने अपने अंतिम भाषण में सभी विरोधिओं पर साधा निशाना।(VOA)

जहां तक पार्टी के व्यापक आधार पर ट्रंप की पकड़ की बात है तो यह पार्टी के लिए दुविधाजनक स्थिति है क्योंकि वह एक विभाजनकारी शख्सियत हैं जिन्होंने उनके खिलाफ वोट देने के लिए कई मतदाताओं को परेशान किया। फिर भी वास्तविकता तो यही है कि पार्टी उनके समर्थकों के बिना नहीं जीत सकती।

ट्रंप ने कहा कि एकमात्र विभाजन वाशिंगटन डीसी में सत्ता के शीर्ष राजनेताओं और देश के अन्य नेताओं के बीच है। उन्होंने मिट रोमनी और लिज चेनी जैसे रिपब्लिकन सीनेटरों का नाम लिया, जिन्होंने उनकी आलोचना की थी और महाभियोग के दौरान उनके खिलाफ मतदान भी किया था। ये वही सीनेटर हैं जिन्होंने यहां तक कहा कहा था – “उनसे (ट्रंप से) छुटकारा पाएं।”

ट्रंप ने सुप्रीम कोर्ट की आलोचना की, जिसने उनके उत्तराधिकारी जो बाइडेन के चुनाव के खिलाफ उनके मामले को खारिज कर दिया था। हालांकि अदालत के पास उनके तीन नामांकितों द्वारा संरक्षित बहुमत है, फिर भी उनमें से कोई भी उनके बचाव में नहीं आया।

यह भी पढ़ें: वीजा बैन हटाने के बाद बाइडेन का उच्च-कौशल आव्रजन पर जोर

ट्रंप ने कहा कि उन्होंने हमारे देश के लिए जो किया है, उसके लिए उन्हें खुद पर शर्म आनी चाहिए। उनके पास सही निर्णय लेने की हिम्मत या साहस नहीं था।

उन्होंने कहा कि हमारी चुनावी प्रक्रिया तीसरी दुनिया के देश के कई मामलों की तुलना में खराब है। उन्होंने पार्टी से चुनाव सुधारों के लिए काम करने का आह्वान किया।

बाइडेन को अभी पदभार ग्रहण किए मात्र 39 दिन ही हुए हैं। ट्रंप ने बाइडेन पर प्रहार करते हुए कहा कि कहा कि केवल एक ही महीने में हम ‘अमेरिका फस्र्ट’ से ‘अमेरिका लास्ट’ की ओर चले गए हैं।(आईएएनएस-ShM)

Popular

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (File Photo)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया(Mansukh Mandaviya) ने शुक्रवार को कोरोनोवायरस(coronavirus) महामारी पर लोकसभा(Loksabha) में एक सवाल के जवाब में, कहा कि दो कोविड टीके (कोवैक्सीन और जायकोव-डी) भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा स्वदेशी रूप से विकसित किए गए और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण द्वारा विकसित अन्य कोविशील्ड को आपातकालीन उपयोग के लिए अप्रूव किया गया है।

उन्होंने(Mansukh Mandaviya) कहा कि कोविड(Covid 19) से पहले भारत एन-95 मास्क, पीपीई किट, वेंटिलेटर जैसे कई उपकरणों का आयात करता था, लेकिन अब देश इनका निर्यातक बन गया है। साथ ही साथ मंडाविया ने सदन को बताया भारत दुनिया की 70 फीसदी कोविड वैक्सीन जरूरतों को पूरा कर रहा है।

Keep Reading Show less

गामी पांच राज्यों में होने वाले चुनाव का बिगुल बज गया है और अब भाजपा जीत के लिए वापस से उनके मोदी नामक "ट्रम्प कार्ड" का इस्तेमाल करेगी। (Wikimedia Commons)

अगले साल फरवरी-मार्च में होने वाले चुनावों का बिगुल बज चूका है। पाँचों राज्यों में चुनाव जीतने के लिए राजनितिक पार्टियां रणनीति बनाने में लगी। इन पांचों राज्यों में सबसे बड़ी नज़र भाजपा(Bhajpa) पर होगी क्योंकि पांच राज्यों में से तीन राज्यों में उसकी सत्ता है। पांच राज्यों में से उत्तराखंड(Uttarakhand) में भी चुनाव होने हैं जहां भाजपा ने इस साल 3 मुख्यमंत्री बदल दिए हैं। वर्तमान में मुख्यमंत्री पुष्कर धामी(Pushkar Dhami) हैं जिन्हे आए हुए कुछ ही महीने हुए हैं ऐसे में भाजपा के लिए उत्तराखंड का पूरा चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आ गया है।

सैन्य बाहुल्य राज्य उत्तराखंड में पिछले पांच सालों में नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) की ऐसी छवि बन चुकी जिसे विपक्ष के लिए फिलहाल तोडना ना मुमकिन है। पिछले चुनाव में कांग्रेस में हुई बगावत और मोदी का जादू ही वो वजह था जिसने राज्य की 70 सीटों में से 57 सीटें भाजपा की झोली में दाल दी थी।

Keep Reading Show less

देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। [pixabay]

दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने अब भारत में भी दस्तक दे दी है। मामले की गंभीरता आप इस बात से समझ सकते हैं कि देश के टॉप साइंटिस्ट ने शुक्रवार को यह चेतावनी तक दे दी है कि यह वेरिएंट देश में तीसरी लहर ला सकता है। बता दें कि देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। ये दोनों मरीज कर्नाटक से हैं। इनमे से एक शख्स 66 साल का विदेशी है जो 20 नवंबर को बैंगलुरु आया था। कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद इसे प्राइवेट होटल में आइसोलेट कर दिया गया, जिसके बाद 27 नवंबर को ये शख्स दुबई लौट गया। वहीं 46 साल का जो दूसरा शख्स ओमिक्रॉन वेरिएंट से प्रभावित है, वो स्थानीय है और 22 नवंबर को ये पॉजिटिव पाया गया था। फिलहाल इनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के लिए भेजे गए हैं। अब आइये जानते हैं कि क्या होती है जीनोम सिक्वेंसिंग।

जीनोम सिक्वेंसिंग क्या है ?

Keep reading... Show less