Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

चुनावी संदर्भ में डोनाल्ड ट्रंप ने नरेंद्र मोदी के समर्थन का किया दावा

ट्रम्प ने प्रधानमंत्री मोदी को अमेरिकी राजनीति में यह कहते हुए शामिल किया कि नरेंद्र मोदी उन्हें अमेरिकी चुनाव के संदर्भ में 'बड़ा समर्थन' देते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के अमरीकी दौरे पर डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा आयोजित किए गए कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी’के दौरान ली गयी तस्वीर (फ़ाइल फोटो, पीआईबी)

By: अरुल लुइस

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिकी राजनीति के संभावित क्षेत्र में यह कहते हुए शामिल किया कि भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उन्हें अमेरिकी चुनाव के संदर्भ में ‘बड़ा समर्थन’ देते हैं। भारतीय अमेरिकी वोट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “हमें भारत से बहुत समर्थन है। हमारे पास प्रधानमंत्री मोदी से बहुत समर्थन है, और मुझे लगता है कि लोग, भारतीय लोग ट्रंप के लिए मतदान करेंगे।”


एक रिपोर्टर ने भारतीय अमेरिकियों को लक्षित एक वीडियो ‘फोर मोर इयर्स’ का जिक्र किया जो रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन के दौरान जारी किया गया था और जिसे उनके बड़े बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर द्वारा रीट्वीट किया गया था और पूछा कि क्या कम्युनिटी उनके लिए वोट करेगा।

इस पर ट्रंप ने कहा, “मैं ऐसा मानता हूं।” उन्होंने कहा, “हमने ह्यूस्टन में एक कार्यक्रम किया था, जैसा कि आप जानते हैं और यह एक शानदार कार्यक्रम था। मुझे प्रधानमंत्री मोदी द्वारा आमंत्रित किया गया था, यह बड़े पैमाने पर था, यह वह जगह थी, जहां ह्यूस्टन फुटबॉल टीम फुटबॉल खेलती थी। यह अविश्वसनीय था। यह वास्तव में अविश्वसनीय था। प्रधानमंत्री काफी उदार थे।” उन्होंने तब भारत और मोदी का समर्थन होने के बारे में जोर दिया था, जो नवंबर के राष्ट्रपति चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप के आरोप के बीच विवादास्पद हो सकता है।

यह भी पढ़ें: ईरान का समृद्ध यूरेनियम भंडार, अंतर्राष्ट्रीय समझौते की सीमा से 10 गुना अधिक

डेमोक्रेटिक पार्टी और रिपब्लिकन ने एक-दूसरे पर आरोप लगाए थे। डेमोक्रेटिक ने कहा था कि रूस ट्रंप का समर्थन कर रहा है, जबकि रिपबिल्कन ने कहा था कि चीन डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडन का समर्थन कर रहा है।

‘फोर मोर इयर्स’ वीडियो के कॉन्सेप्ट का श्रेय ‘अल मेसन’ को जाता है, जो ‘ट्रंप विक्ट्री इंडियन अमेरिकन फाइनेंस कमेटी’ का को-चेयर है। वीडियो में ह्यूस्टन में पिछले साल आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम और इस साल फरवरी में अहमदाबाद में ‘नमस्ते ट्रंप’ रैली की झलकियां हैं।

प्रधानमंत्री मोदी के अमरीकी दौरे पर डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा आयोजित किए गए कार्यक्रम ‘हाउडी मोदी’के दौरान ली गयी तस्वीर (फ़ाइल फोटो, पीआईबी)

भारतीय अमेरिकी पारंपरिक रूप से डेमोक्रेटिक पार्टी का गढ़ रहे हैं।

प्यू रिसर्च सेंटर ने पाया है कि 65 प्रतिशत भारतीय अमेरिकी डेमोक्रेट समर्थक हैं या पार्टी के प्रति झुकाव रखते हैं।

‘एशियन अमेरिकी पैसिफिक आईलैंडर डेटा’ के निदेशक कार्तिक रामाकृष्णन के अनुसार, 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में 77 प्रतिशत भारतीय अमेरिकियों ने डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन को वोट दिया था और ट्रंप को केवल 16 प्रतिशत ने दिया था।

यह भी पढ़ें: जी-4 के साथ भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधारों पर दिया अल्टीमेटम

भारतीय-अमेरिकी मतदाता प्रमुख्र अमेरिकी राज्यों में अहम भूमिका निभा सकते हैं।

एक रिपोर्टर ने ट्रंप से पूछा कि क्या उनके बड़े बेटे और बेटी इवांका इस साल चुनाव के लिहाज से प्रमुख राज्यों में उनके लिए भारतीय-अमेरिकी समुदाय के बीच प्रचार करेंगे तो उन्होंने कहा, “वे शानदार युवा हैं। और मुझे पता है कि उनका भारत से रिश्ता बहुत अच्छा है और ऐसा ही मेरा भी है और प्रधानमंत्री मोदी मेरे एक मित्र हैं और उन्होंने बहुत अच्छा काम किया है। कुछ भी आसान नहीं, कुछ भी आसान नहीं है, लेकिन वह बहुत अच्छा काम कर रहे हैं।”

अहमदाबाद में आयोजित ‘नमस्ते ट्रम्प’ कार्यक्रम के दौरान अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प व भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फ़ाइल फोटो ,पीआईबी)

उन्होंने आगे कहा कि फरवरी में भारत दौरे के दौरान हमने देखा कि भारत के लोग गर्मजोशी से भरपूर होते हैं, वे अविश्वसनीय हैं। भारत एक अविश्वसनीय, शानदार देश है और उसके पास एक शानदार नेता और शानदार शख्सियत है।(आईएएनएस)

Popular

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद।(PIB)

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने बुधवार को दोहराया कि भारत सामूहिक स्वास्थ्य और आर्थिक कल्याण सुनिश्चित करने के लिए Covid-19 महामारी के खिलाफ एक निर्णायक और समन्वित प्रतिक्रिया देने के वैश्विक प्रयासों में सबसे आगे रहा है। कोविंद ने यह भी कहा कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत भारतीयों को अब तक 80 करोड़ से अधिक खुराक मिल चुकी है।

राष्ट्रपति भवन से एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बुधवार को एक आभासी समारोह में आइसलैंड, गाम्बिया गणराज्य, स्पेन, ब्रुनेई दारुस्सलाम और श्रीलंका के लोकतांत्रिक गणराज्य के राजदूतों/उच्चायुक्तों से परिचय पत्र स्वीकार किए।

अपना परिचय पत्र प्रस्तुत करने वाले राजदूत निम्न हैं : महामहिम गुडनी ब्रैगसन, आइसलैंड के राजदूत, महामहिम मुस्तफा जवारा, गाम्बिया गणराज्य के उच्चायुक्त, महामहिम जोस मारिया रिडाओ डोमिंगुएज, स्पेन के राजदूत, महामहिम दातो अलैहुद्दीन मोहम्मद ताहा, ब्रुनेई दारुस्सलाम के उच्चायुक्त, महामहिम अशोक मिलिंडा मोरागोडा, श्रीलंका के लोकतांत्रिक समाजवादी गणराज्य के उच्चायुक्त।


इस अवसर पर अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने इन सभी राजदूतों को उनकी नियुक्ति पर बधाई दी और उन्हें भारत में एक सफल कार्यकाल के लिए शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि भारत के इन सभी पांच देशों के साथ घनिष्ठ संबंध हैं और भारत इनके साथ शांति, समृद्धि का एक समन्वित दृष्टिकोण साझा करता है।

Keep Reading Show less

भारत का खूबसूरत क्षेत्र कोडाईकनाल।(Unsplash)

भारत के तमिलनाडु राज्य में स्थित कोडाईकनाल एक पर्वतीय नगर है। यह समुद्र तल 2133 मी. की ऊंचाई पर पिलानी नामक पहाड़ पे बसा हैं। ये अपनी प्राकृतिक सुंदरता और शांत वातावरण से सब को मनमोहित कर देता है । खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य के कारण इसे भारत का स्विट्जरलैंड भी कहा जाता हैं। यहां पर घूमने का मजा तब बढ़ जाता है, जब मानसून दस्तक देता है, क्योंकि इस समय यहां के झरने वादियां और भी खूबसूरत हो जाते हैं। यहां कुरिंजी नामक एक फूल है जो कि 12 वर्षों में खिलता है, जिससे यहां की पहाड़ियों में सुंदरता और निखरती है और इसकी महक मदहोश कर देने वाली होती है। कोडाईकनाल में प्रकृति की सुंदरता अपने तमाम रूपों में नजर आती है। विशाल चट्टान , शांत झील ,फलों के बगीचे और यहां के हरे भरे दृश्य अपनी सुंदरता की कहानियां व्यक्त करते हैं। मानसून में यह जगह जन्नत सी नजर आती है। यहां पर लोग पिकनिक मनाने , घूमने फिरने , या हनीमून के लिए आते हैं।

\u0915\u094b\u0921\u093e\u0908\u0915\u0928\u093e\u0932 \u090f\u0915 \u092a\u0930\u094d\u0935\u0924\u0940\u092f \u0928\u0917\u0930 तमिलनाडु राज्य में स्थित कोडाईकनाल एक पर्वतीय नगर(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटें। (IANS)

राम भक्तों द्वारा दी गई और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) (Vishwa Hindu Parishad) द्वारा तीन दशक लंबे मंदिर आंदोलन के दौरान देश भर से जमा की गई 2 लाख से अधिक ईंटों का इस्तेमाल अब राम जन्मभूमि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण के लिए किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट के सदस्य अनिल मिश्रा ने कहा, "1989 के 'शिलान्यास' के दौरान कारसेवकों द्वारा राम जन्मभूमि पर एक लाख पत्थर रखे गए थे। कम से कम, 2 लाख पुरानी कार्यशाला में रह गए हैं, जिन्हें अब निर्माण स्थल पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा। ईंटों पर भगवान राम का नाम लिखा है और यह करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रमाण है।

Keep reading... Show less