Saturday, June 12, 2021
Home देश स्वास्थ्य मुश्किल हालात में देवदूत बने लखनऊ के दो डॉक्टर

मुश्किल हालात में देवदूत बने लखनऊ के दो डॉक्टर

इस मुश्किल घड़ी में सबसे ज्यादा व्यस्त लखनऊ के अस्पताल में दो डॉक्टरों की छोटी कोशिश से मरीजों की सांस टूटने से बच रही है।

By: विवेक त्रिपाठी

कोविड महामारी में जहां मरीजों को एक बेड तक मिलना मुश्किल है, वहीं दूसरी लहर में सांस का भी संकट आन पड़ा है। इस मुश्किल घड़ी में सबसे ज्यादा व्यस्त लखनऊ केजीएमयू का ट्रॉमा सेंटर और राम मनोहर लोहिया अस्पताल में दो डॉक्टरों की छोटी कोशिश से मरीजों की सांस टूटने से बच रही है।

केजीएयू के ट्रामा सेंटर में मरीजों की भरमार है । पहले यहां पर 25 कोरोना मरीज भर्ती हो रहे थे जिनकी संख्या बढ़कर 125 हो गई है। ट्रामा सेंटर में दुर्घटना में घायल मरीज का भार भी है। ऐसे में लखनऊ समेत पूरे प्रदेश से रेफर होकर आ रहे मरीजों को यहां पर इलाज के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती है। इसे देखते हुए केजीएमयू के कोविड प्रबंधन के सह प्रभारी और ट्रामा सेंटर के इंचार्ज डा. संदीप तिवारी के छोटे प्रयास से कई मरीजों की सांसें टूटने से बच रही है। उन्होंने ऑक्सीजन के आभाव में आ रहे लोगों को आक्सीजन मुहैया कराना शुरू किया। इससे कुछ मरीजों में सुधार हुआ है। जिनमें से कुछ यहीं पर इलाज करा रहे कुछ घर चले गये।

ट्रामा सेंटर इलाज के लिए पहुंचे टेकचन्द्र बताते हैं कि ‘ आज से 4 दिन पहले मेरा ऑक्सीजन लेवल 70 के आस-पास पहुंच गया था। ऐसा लग रहा था कि क्या करें। प्राइवेट अस्पतालों में आक्सीजन और बेड का टोटा पड़ा है।’ वह केजीएमयू पहुंचे वहां उनकी एक डाक्टर जाते ही स्ट्रेचर पर ऑक्सीजन की व्यवस्था की। जिससे उनका ऑक्सीजन लेवल ठीक हुआ। इसके बाद उन्हें कुछ घंटो में बेड में मिल गया।

इसी तरह विकास नगर के सुषील वर्मा की मां का आक्सीजन लेवल 80 था वह भी ट्रामा सेंटर लेकर पहुंचे थे। उन्होंने बताया कि ‘मां को महज 15 मिनट में ऑक्सीजन मिलने लगी।’

corona virus oxygen cylinder in india
कोविड 19 के मार में यह दो डॉक्टर लोगों के लिए मसीहा बनकर सामने आए हैं।(Pixabay)

संदीप तिवारी बताते हैं कि उनका मकसद है कि किसी भी मरीज की ऑक्सीजन के कमी के कारण उसे कोई परेशानी न हो, जिसका वह पूरा प्रयास करते है। उनका कहना है कि मरीजों की संख्या ज्यादा होने के कारण बेड मिल पाने में कुछ देर की दिक्कत होती है। ऐसे में मरीजों को स्ट्रेचर में ही ऑक्सीजन की व्यवस्था की जा रही है। हलांकि जैसे ही बेड खाली होता वैसे तुरंत उन्हें बेड देकर पूरा सही ढंग से उपचार किया जा रहा है।

संदीप तिवारी ने बताया कि वह 24 घंटे केजीएमयू में ड्यूटी कर रहे है। उन्होंने बताया कि ट्रामा सेंटर में पहले 27 बेड पर कोविड के मरीज भर्ती किए जा रहे थे। अब करीब 125 बेड पर कोविड मरीज भर्ती कर रहे है। करीब 100 मरीज रोजना आ रहे है। ट्रामा सेंटर में कोविड के अलावा एक्सीडेंटल केस आते उन्हें भी पूरी तत्पर्यता से देखा जाता है।

राजधानी के डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भी मरीजों का लोड बहुत ज्यादा है। यहां पर ऑक्सीजन के कम लेवल वाले मरीज आ रहे हैं। ऐसे में यहां के रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग डा. अमीय पांडेय जो कि हाईडिपेंडेंसी में ड्यूटी कर रहे है। उनके पास बात करने का भी समय नहीं होता है। ऐसे में वह ड्यूटी के समय ही 2-3 घंटे निकालकर मरीजों को फोन में सलाह देते है। उनकी सलाह से कई मरीज ठीक भी हुए है।

यह भी पढ़ें: कोरोना के दौर में संक्रमितों को ‘डीलैम्प’ के जरिए रोशनी दिखा रहे डॉ. अनिल

अमीय पांडेय बताते कि उन्हें 21 अप्रैल से कोविड प्रबंधन की ड्यूटी ज्वाइन की है। उन्होने बताया कि इस ड्यूटी के अलावा हम टेलीफोन के माध्यम से लोगों की जान बचाने का क्रम जारी है। अब तक तकरीबन तीन दर्जन से अधिक लोगों को टेलीफोन से सलाह दे चुके है।

डा. पांडेय ने बताया कि लखनऊ के रहने वाले बालदेव गुप्ता की ऑक्सीजन लेवल घट बढ़ रहा था। उन्होंने फोन किया तो कोविड संक्रमण की ड्यूटी में तैनात होने के बावजूद उन्होंने उन्हें आक्सीजन सिलेण्डर इंजेक्शन एंटीबायोटिक और स्टेरॉयड की सलाह दी। जिससे वह अब ठीक हो गये हैं। उन्होंने बताया कि ड्यूटी का दबाव है। लेकिन मरीज की जान बचाना डाक्टरों का पहला धर्म होता है। इसी कारण ड्यूटी के बावजूद भी अलग से समय निकालकर फोन से मरीज काउंसिलिंग कर रहे हैं। पांडेय ने बताया कि 8 घंटे कि शिफ्ट होती है। वो कहते हैं ‘करीब 14 दिनों से एकांतवास में हूं। लेकिन लगातार फोन पर मरीजों से जुड़ा हुआ हूं। ‘(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी