Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

पीसा की मीनार से भी ज्‍यादा झुका हुआ है  वाराणसी का रत्नेश्वर महादेव मंदिर, क्या है मन्दिर का इतिहास​

रत्नेश्वर महादेव का मंदिर वाराणसी के 84 घाटों पर स्थित सभी मंदिर से पूरी तरह से अलग है। अहिल्या बाई की दासी रत्नाबाई ने करवाया था मंदिर का निर्माण।

9 अंश के कोण से झुक हुआ है रत्नेश्वर महादेव मंदिर। (Wikimedia commons)

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी को वर्तमान में वाराणसी कहा जाता है। काशी में इस समय लगभग 1500 मंदिर हैं, जिनमें से अधिकांश इतिहास के विविध कालों से जुड़ी हुई हैं। इन्हीं मंदिरों में से एक ऐसा मंदिर है रत्नेश्वर महादेव। जो अपनी दिव्यता एवं भव्यता के लिए एक अलग पहचान बनाए हुए है। आज हम आपको रत्नेश्वर महादेव मंदिर की विशेषता के बारे में बताएंगे।

क्यों प्रसिद्ध है रत्नेश्वर महादेव मंदिर?

रत्नेश्वर महादेव का मंदिर वाराणसी के 84 घाटों पर स्थित सभी मंदिर से पूरी तरह से अलग है। इसकी खासियत यह है कि लगभग 400 सालों से 9 डिग्री के कोण पर झुका हुआ है। यह मंदिर आज तक ज्यों का त्यों खड़ा है, जबकि यह मंदिर गंगा नदी के तलहटी पर बना हुआ है। आपको बता दें जर्मनी में स्थित पीसा की मीनार केवल 4 डिग्री ही झुकी हुई है। अब आप सोचिए 400 वर्ष पूर्व ना कोई मशीन रही होगी ना कोई यंत्र फिर भी हमारे हमारे पूर्वजों की कलाकृति इतनी विशाल थी कि उन्होंने सैकड़ों वर्ष पूर्व ऐसी दिव्य कृति दुनिया को दी।


क्या है रत्नेश्वर महादेव मंदिर का इतिहास?

माना जाता है इस मंदिर को महारानी अहिल्याबाई की दासी रत्नाबाई ने बनवाया था। ऐसा माना जाता है कि मंदिर की जमीन को अहिल्याबई ने अपनी दासी रत्नाबाई को दी थी। जिसके बाद रत्नाबाई ने उसी जमीन पर मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया था। लेकिन बाद में रत्नाबाई के पास कुछ पैसों की कमी आ गई थी जिसके बाद मंदिर का निर्माण कार्य अहिल्याबाई की मदद से हुआ था। किवदंतियों के अनुसार निर्माण कार्य पूर्ण होने के बाद अहिल्याबाई ने मंदिर देखने की इच्छा जताई अहिल्याबाई मंदिर पहुंची तो वह मंदिर की खूबसूरती देखकर दंग रह गई थी और इसके बाद अहिल्याबाई ने रत्नाबाई से मंदिर का नाम ना देने की बात कहीं लेकिन रत्नाबाई ने इस मंदिर को अपने नाम से जोड़ते हुए रत्नेश्वर महादेव का नाम दिया जिसके कारण तभी से या मंदिर दाहिनी ओर झुक गया।

भारत सरकार द्वारा अहिल्याबाई की स्मृति में जारी किया गया डाक टिकट।(Wikimedia commons)

कौन है अहिल्याबाई जिन्होंने दी थी रत्नेश्वर महादेव मंदिर के निर्माण को जमीन?

मालवा राज्य की महारानी अहिल्याबाई भारत की प्रमुख वीरांगनाओं में से एक है।अहिल्याबाई का जन्म 31 मई 1725 को चौंडी नामक गाँव में हुआ था जो आजकल महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के जामखेड में पड़ता है। दस-बारह वर्ष की आयु में इनका विवाह खण्डेराव होलकर के साथ हुआ। दुर्भाग्यवश उनतीस वर्ष की अवस्था में अहिल्याबाई को विधवा होना पड़ा। मल्हारराव के निधन के बाद उन्होंने पेशवाओं को आग्रह किया कि उन्हें मालवा की प्रशासनिक बागडोर सौंपी जाए। मंजूरी मिलने के बाद 1766 में रानी अहिल्यादेवी मालवा की शासक बन गईं। उन्होंने तुकोजी होल्कर को सैन्य कमांडर बनाया। उन्हें उनकी राजसी सेना का पूरा सहयोग मिला। अहिल्याबाई ने कई युद्ध का नेतृत्व किया। वे एक साहसी योद्धा थी और बेहतरीन तीरंदाज भी थी। हमेशा आक्रमण करने को तत्पर भील और गोंड्स से उन्होंने कई बरसों तक अपने राज्य को सुरक्षित रखा। इसके अलावा आलिया बाई ने कुछ विशेष कार्य करें जिसके कारण वे संपूर्ण भारतवर्ष में अभी भी जानी जाती हैं जैसे अपने राज्य की सीमाओं के बाहर भारत भर के प्रसिद्ध तीर्थ और स्थानों में मंदिर बनवाना, घाट, कुआं और बांध का निर्माण करवाना।

यह भी पढ़े: जानिए प्रभु श्रीराम के ऐसे 5 गुण जो उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम बनाते हैं

अहिल्याबाई होल्कर के नाम से कई राज्य सरकारों ने कई योजनाएं चलाई है। इसके अलावा 1996 में भारत सरकार ने अहिल्याबाई की स्मृति में एक डाक टिकट भी जारी किया था। अहिल्याबाई को अभी भी मालवा क्षेत्र के वर्तमान लोग राजमाता कह कर पुकारते हैं तथा उनकी उपासना भी करते हैं।

Popular

ट्विटर में हक्कानी नेटवर्क के आतंकवादी का अकाउंट सक्रिय जबकि इस्कॉन जैसी संस्था का ट्विटर हैंडल बंद कर दिया गया है

सोशल मीडिया एक ऐसा माध्यम जिसके द्वारा जनता अपनी बात दुनिया तक पहुंचाती है। अगर यही सोशल मीडिया अल्पिकेशन किसी विशेष प्रोपेगेंडा के लिए काम करने लगे तो दुनिया में उन लोगों का क्या होगा जिन लोगों पर अत्याचार होता है और वह अपने अत्याचार की कहानी सोशल मीडिया के माध्यम से सुनाते हैं।

आप लोग सोच रहे होंगे हम लोग पहेलियां क्यों बुझा रहे हैं, दरअसल हमारे पड़ोसी देश बांग्लादेश में जारी हिंदुओं के ऊपर नरसंहार बंद होने का नाम नहीं ले रहा है तो दूसरी तरफ ट्विटर ने एक नया कारनामा कर दिया है जो अत्यंत निंदनीय है। ट्विटर ने इस्कॉन बांग्लादेश जैसे कई ट्विटर हैंडल हटा दिए हैं। आपको बता दें दुनिया तक बांग्लादेश के हिंदुओं की स्थिति बताने के लिए इस्कॉन बांग्लादेश और हिंदू यूनिटी काउंसिल ऑफ बांग्लादेश यह दोनों ट्विटर हैंडल प्रमुख थे जो अब ट्विटर में नहीं है।

Keep Reading Show less

देश के सभी प्रमुख घोटालों में से एक है बोफोर्स घोटाला। (Wikimedia commons)

भारतीय इतिहास की सबसे पुरानी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस जो खुद इतिहास बनने के कगार पर है जो कई भ्रष्टाचार और घोटालों के आरोपों के दागों से सनी हुई है। आज हम इन्हीं भ्रष्टाचार के आरोपों में से एक बोफोर्स घोटाल की बात करेगें।

कहाँ से हुई बोफोर्स की शुरुआत -

बोफोर्स कहानी की शुरुआत 1986 से हुई जब भारत सरकार और स्वीडन की हथियार निर्माता कंपनी एबी बोफोर्स के बीच 1,437 करोड़ रुपये का सौदा हुआ। यह सौदा भारतीय थल सेना को 155 एमएम की 400 होवित्जर तोप की सप्लाई के लिए हुआ था। जिस समय यह करार हुआ था उस समय केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी जिसका नेतृत्व राजीव गांधी कर रहे थे। इस घोटाले का खुलासा सबसे पहले स्वीडन के रेडियो में 1987 में किया। इस घोटाले को बोफोर्स घोटाला या बोफोर्स काण्ड का नाम दिया गया।

Keep Reading Show less

निहंग सिख समाज को गुरु की फौज भी कहा जाता है।(NewsGram Hindi)

बीते कुछ दिनों से मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक आपने "निहंग सिख" शब्द को कई बार सुना होगा। आज हम आपको इन्हीं निहंग सिख का भूतकाल और वर्तमान बताएंगे।

निहंग शब्द का वास्तविक अर्थ क्या है, इसके पीछे भी काफी भेद है। कुछ इतिहासकार निहंग को एक फारसी शब्द मानते है जिसका अर्थ मगरमच्छ होता है। कहा जाता है, यह नाम मुगलों ने दिया था क्योंकि सिख लड़ाके युद्ध में मगरमच्छ की तरह युद्ध करते थे। मुगलों का मानना था कि जिस तरह पानी में मगरमच्छ को हराना मुश्किल है उसी प्रकार युद्ध में निहंगों को हराना आसान नहीं है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि निहंग, संस्कृत शब्द निशंक से लिया गया है जिसका अर्थ जिसे कोई शंका न हो, कोई डर न हो, मोह न हो। निहंग शब्द का इस्तेमाल श्री गुरु ग्रन्थ साहिब में भी हुआ है। यहां इस शब्द का अर्थ निडर और बेसब्र बताया गया है।

Keep reading... Show less