Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

जानें महापर्व छठ पूजा क्यों है बाकि त्यौहारों से खास

आस्था का महापर्व छठ पूजा हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। इस साल छठ पूजा सोमवार 8 नवंबर से शुरू हो रहा है

छठ पूजा के दौरान भक्त ठन्डे पानी में खड़े होकर सूर्य देव को अर्घ्य देते हैं [Wikimedia Commons]

आस्था का महापर्व छठ पूजा हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। इस साल छठ पूजा सोमवार 8 नवंबर से शुरू हो रहा है। षष्ठी तिथि 9 नवंबर को शुरू होकर 10 नवंबर तक रहेगी।

छठ का त्यौहार मुख्य रुप से बिहार , झारखंड और उत्तर प्रदेश में मनाया जाता है। यह त्यौहार भारत के अलावा नेपाल के मधेश क्षेत्र में भी मनाया जाता है।


माना जाता है की छठ माता से जो भी मांगो , मिल जाता है। इस त्यौहार के फल के समान ही इसका व्रत भी खास है। इसे सबसे कठिन व्रतों में गिना जाता है। व्रत करने वाले को इसमें लगातार 36 घंटे का निर्जल उपवास रखना होता है। व्रत के दौरान शुद्धता का ख़ास ध्यान रखा जाता है।

छठ पूजा में मुख्य रूप से सूर्य देव और प्रकृति की पूजा की जाती है। यह 4 दिवसीय त्यौहार है। त्योहार के पहले दिन को नहाय खाय के नाम से जाना जाता है। लोग एक जल निकाय में पवित्र डुबकी लगाते हैं। पूजा करने वाली महिलाएं केवल एक ही भोजन करती हैं। नहाय खाय के अगले दिन उपवास रख व्रती खरना पूजन करती हैं। इस दिन रात में खीर का प्रसाद ग्रहण किया जाता है। त्यौहार के तीसरे दिन शाम को डूबते सूर्य को पहला अर्घ्य दिया जाता है। छठ के अंतिम दिन प्रात: काल उदय हो रहे सूर्य को अर्घ्य देने के साथ व्रत का समापन होता है।

Chhath Puja , Bihar ,Sun छठ पूजा को सबसे अधिक धूमधाम से बिहार और झारखंड में मनाया जाता है [Wikimedia Commons]


छठ पूजा के इतिहास को लेकर कई कथाएं और मान्यताएं हैं। माना जाता है की यह पर्व वैदिक काल से मनाया जा रहा है। ऐसा कहा जाता है की वैदिक युग में कुछ ऋषियों ने विस्तृत पूजा की और शाम और भोर के दौरान खुद को सीधे सूर्य के प्रकाश में उजागर किया ताकि सूर्य से जीवन शक्ति का दोहन कर सके । ऋग्वेद और महाभारत में सूर्य देव की प्रशंसा करने और छठ पूजा के समान रीति-रिवाजों का वर्णन करने वाले छंद हैं जो यह साबित करते हैं की यह त्यौहार बेहद प्राचीन काल से मनाया जा रहा है ।

छठ पूजा से जुड़ी एक मान्यता यह भी है कि इसकी शुरुआत महाभारत काल से हुई जब पांडव अपना सारा राजपाट जुए में हार गए थे। उस समय द्रोपदी ने ऋषि धौम्य के कहने पर चार दिनों तक इस व्रत को किया और सूर्य देव की उपासना कर उनसे अपना राजपाट वापस मांगा था।

छठ पूजा से जुड़ी लोकप्रिय कथाओं में से एक भगवान राम की भी है। ऐसा कहा जाता है कि रावण को मारने के बाद जब भगवान राम और माता सीता अयोध्या वापस आए तो उन्होंने उपवास किया और छठ पूजा की रस्में निभाईं और अपने कुल देवता सूर्य देव की विधि विधान से पूजा की ।

यह भी पढ़ें : जानिए प्रभु श्री राम के ऐसे 5 गुण जो उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम बनाते हैं

छठ पूजा को बाकी सारे त्यौहारों से अलग और ख़ास माना जाता है। यह ऐसा हिन्दू त्यौहार है ,जिसमे मूर्ति पूजन नहीं होती , बल्कि प्रकृति को पूजा जाता है। साथ ही डूबते सूर्य की पूजा की जाती है जो की इस बात का प्रतीक है की प्रकृति केवल तभी ख़ास नहीं है जब वो हमे कुछ प्रदान कर रही हो , बल्कि प्रकृति हर हाल में पूजनीय है।

छठ पूजा में जातिवाद का भेदभाव मिट जाता है। छोटे बड़े , अमीर गरीब , सभी प्रेम से एकजुट होकर छठ पूजा करते हैं और एक ही तरह का प्रसाद बनाकर भगवान को भोग लगाते हैं। छठ पूजा के अवसर पर नदियां , तालाब और जलाशयों को साफ़ किया जाता है और इनके किनारे पूजा की जाती है । यह त्यौहार नदियों को प्रदुषण मुक्त बनाने का प्रेरणा देता है। साथ ही इसमें सेब , गन्ना , केला जैसे फलों को प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है ,जो हमे वनस्पतियों की महत्ता दर्शाती है ।

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

(NewsGram Hindi)

सन् 1992 का घोटाला भारतीय इतिहास में आज भी सबसे बड़े घोटालों में गिना जाता है। आंकड़ों की बात करें तो उस वर्ष लगभग 4,025 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई थी और इतने बड़े धोखे के पीछे शामिल था एक अकेला व्यक्ति - हर्षद मेहता।

स्टॉक मार्केट का बिग बुल कहे जाने वाला और 1992 के ऐतिहासिक घोटाले का मुख्य खिलाडी हर्षद मेहता की कहानी शुरू होती है आज से लगभग 30 साल पहले से। उसके जीवन की सबसे खास बात यह रही की इसने सिर्फ 40 रुपये के साथ शेयर मार्केट की दुनिया में कदम रखा था।

Keep Reading Show less

कोरोना के बाद अब देश में ज़ीका वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं ( Pixabay )

कोरोना महामारी और डेंगू से देश अभी लड़ ही रहा था की अब जीका वायरस नामक मुसीबत भी सामने आ गयी है। आज से ठीक 3 महीने पहले यानि 8 जुलाई ,2021 को केरल राज्य की एक 24 वर्षीय गर्भवती महिला में इस वायरस का सबसे पहला मामला सामने आया था। इसके बाद 31 जुलाई, 2021 को महाराष्ट्र के पुणे जिले में भी एक 50 वर्षीय महिला के जीका वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई ।
अब यह संक्रमण उत्तर प्रदेश में भी पहुँच गया है। 24 अक्टूबर को राज्य में इसका पहला मामला सामने आया। सोमवार को स्थानीय अधिकारियों ने बताया की उत्तर प्रदेश में जीका वायरस से अब तक 11 लोग संक्रमित पाए गए हैं। बढ़ते मामले को देखते हुए राज्य सरकार ने बड़े पैमाने पर नमूनों की जाँच करने का आदेश दिया है। समाचार एजेंसी पीटीआई ने बताया कि अब तक कुल 645 नमूने किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) भेजे गए हैं। अधिकारियों ने मुताबिक , इनमें से 253 लोगों के बुखार के लक्षण और 103 अन्य गर्भवती महिलाओं के नमूने लिए गए हैं।

रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्थानीय प्रशासन से वायरस के प्रसार के रोक थाम के लिए कड़ी निगरानी सुनिश्चित करने को कहा। साथ ही मच्छरों के प्रजनन को रोकने के लिए व्यापक डोर-टू-डोर सैनिटाइजेशन और फॉगिंग ड्राइव चलाने का भी आदेश दिया।

बता दें की यह पहली बार नहीं है जब देश में जीका वायरस ने दस्तक दी है। यह वायरस देश में सबसे पहले 2017 में सामने आया था।

zika viirus , infection symptoms जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति में बुखार और सिर दर्द जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं ( pixabay )

Keep Reading Show less

(NewsGram Hindi)

माता सीता हिन्दू धर्म में त्याग की प्रतीक मानी जाती हैं। उन्हें उनके असीम साहस , समर्पण और पवित्रता के लिए भी जाना जाता है। इनका यह नाम' सीता ' संस्कृत शब्द 'सीत' से निकला है जिसका अर्थ होता है कुंड। इनके अन्य नाम वैदेही , जानकी , भूमिजा , मैथिली इत्यादि है। देवी लक्ष्मी की अवतार माता सीता के गुणों की जितनी बखान की जाए कम है। उनके गुणों का यदि आज भी कोई स्त्री अनुसरण करती हैं, तो उसका जीवन सुखमय और सफल हो जाएगा। श्री रामचरितमानस में तुलसीदास जी ने माता सीता के चरित्र का बड़ा ही सुन्दर वर्णन किया है। तुलसीदास, श्री रामचरितमानस में लिखते हैं –

''उद्भवस्थितिसंहारकारिणीं क्लेशहारिणीम् ।
सर्वश्रेयस्करीं सीतां नतोऽहं रामवल्लभाम् ।।''

अर्थात जो उत्पत्ति, स्थिति और लय करनेवाली हैं ,समस्त क्लेशों को हर लेनेवाली हैं, सभी का कल्याण करनेवाली हैं, ऐसी श्रीरामप्रिया माँ सीताजी को मैं प्रणाम करता हूँ ।

Keep reading... Show less