Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जानिए क्या है ‘एक जिला-एक उत्पाद योजना’

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को 'एक जिला-एक उत्पाद योजना' के जीआईएस डिजीटल मानचित्र को जारी किया है।

खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर । (Wikimedia Commons)

BY :अरुल लुइस

केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग, कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को ‘एक जिला-एक उत्पाद योजना’ के जीआईएस डिजीटल मानचित्र को जारी किया। साथ ही, उन्होंने प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना (पीएम-एफएमई स्कीम) के क्षमता निर्माण घटक के लिए मास्टर ट्रेनर्स प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।इस अवसर पर तोमर ने कहा कि प्रशिक्षण एवं सहयोग से छोटे खाद्य उद्यम स्थापित करने में सहायता मिलेगी और यह आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक सशक्त कदम साबित होगा।


आत्मनिर्भर भारत को साकार करना है

केंद्रीय मंत्री तोमर ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आत्मनिर्भर भारत अभियान को कार्यरूप देने को लेकर प्रतिबद्ध हैं। हम स्थानीय उत्पादन, स्थानीय विपणन और स्थानीय आपूर्ति श्रंखला निर्माण की दिशा में अग्रसर हैं।”

यह भी पढ़े : गुपकार को समर्थन देने के बाद, कांग्रेस की उड़ी खिल्ली

तोमर ने कहा कि सूक्ष्म खाद्य उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए क्षमता वर्धन अत्यंत आवश्यक है, इसलिए खाद्य प्रसंस्करण उद्यमियों के साथ-साथ स्व सहायता समूहों, कृषक उत्पादक संगठनों (एफपीओ) सहकारिता क्षेत्र से जुड़े लोगों, श्रमिकों एवं अन्य हितधारकों को इस योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

जाने क्या कहा राज्यमंत्री रामेश्वर तेली

इस मौके पर केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्यमंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि मास्टर ट्रेनर्स के प्रशिक्षण का उद्देश्य इस योजना से जुड़े आठ लाख लोग लाभान्वित होंगे, जिनमें किसान उत्पादक संगठन के सदस्यों के साथ ही स्व-सहायता समूह, सहकारिता, अनुसूचित जनजाति समुदाय के हितग्राही शामिल हैं।

तेली ने बताया कि एक जिला-एक उत्पाद योजना के डिजीटल मानचित्र के माध्यम से इस योजना से जुड़े सभी हितधारकों के उत्पादों की समग्र जानकारी एक साथ प्राप्त हो सकेगी।

यह भी पढ़े : भाजपा नेता ने देश में कालाधन के खिलाफ पीआईएल किया दाखिल

प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के क्षमता निर्माण घटक के अंतर्गयोजना का उद्देश्यत मास्टर ट्रेनरों को ऑनलाइन मोड, क्लासरूम लेक्चर, प्रदर्शन और ऑनलाइन पाठ्य सामग्री के माध्यम से प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। चयनित उद्यमियों और समूहों को प्रशिक्षण एवं शोध सहायता प्रदान करने में राष्ट्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी उद्यमशीलता एवं प्रबंधन संस्थान (एनएफआईटीईएम) और भारतीय खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएफपीटी) राज्य स्तरीय तकनीकी संस्थानों के समन्वय से महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

योजना का उद्देश्य

मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि मास्टर ट्रेनर्स, जिला स्तरीय प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। इसके बाद जिला स्तरीय प्रशिक्षक हितग्राहियों को प्रशिक्षण प्रदान करेंगे। क्षमता निर्माण के तहत दिए जाने वाले प्रशिक्षण का मूल्यांकन और प्रमाणन एफआईसीएसआई द्वारा किया जाएगा। प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत शुरू की गई है।

इस योजना का उद्देश्य खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में असंगठित रूप से कार्य कर रहे छोटे उद्यमियों को बढ़ावा देना और इस क्षेत्र में एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा का निर्माण करना है। इसके साथ की इस क्षेत्र से जुड़े कृषक उत्पादक संगठनों, स्व सहायता समूहों सहकारी उत्पादकों सहायता भी प्रदान करना है। इस योजना के तहत 2020-21 से 2024-25 के मध्य दो लाख सूक्ष्म खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों को वित्तीय, तकनीकी एवं विपणन सहयोग प्रदान करने के लिए 10,000 करोड़ रुपये की धनराशि का प्रावधान रखा गया है। (आईएएनएस)

Popular

अश्वगंधा के पत्तों पर जांच करेगा आयुष मंत्रालय(Twitter)

अपको याद होगा आयुष मंत्रालय(ayush ministry) ने पहले एएसयू(AASU) दवा निमार्ताओं को अश्वगंधा (विथानिया सोम्निफेरा) के पत्तों के उपयोग से परहेज करने का निर्देश दिया था और कहा था कि कच्ची दवा या अश्वगंधा(ashwagandha) के अर्क की प्रभावकारिता का समर्थन करने के लिए कोई पर्याप्त सबूत और साहित्य उपलब्ध नहीं है। लेकिन अब फिर से आयुष मंत्रालय ने आयुर्वेद, सिद्ध और यूनानी (एएसयू) दवाओं में अश्वगंधा-विथानिया सोम्निफेरा-पत्तियों के उपयोग से संबंधित मामले की फिर से जांच कराने का फैसला किया है।

मंत्रालय(ayush ministry) ने सभी एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशनों को एक एडवाइजरी भी जारी की, जिसमें क्रूड ड्रग/एक्सट्रैक्ट्स, सेलर्स, एएसयू ड्रग मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों, एएसयू ड्रग एक्सपोर्टर्स के निमार्ताओं से विथानिया सोम्निफेरा के पत्तों का इस्तेमाल क्रूड या एक्सट्रैक्ट या चिकित्सीय उद्देश्यों के लिए किसी अन्य रूप में नहीं करने की मांग की गई।

Keep Reading Show less

बिहार के 11 जिलों में 60 फीसदी से ज्यादा लोग है गरीब! सांकेतिक चित्र, (Wikimedia Commons)

नीति आयोग के बहुआयामी गरीबी सूचकांक(Multidimensional Poverty Index) की ताजा रिपोर्ट जारी कर दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार(Bihar) के पांच जिलों में 60 फीसदी लोग अमीर वर्ग के हैं, जबकि 11 जिलों में 60 फीसदी से ज्यादा लोग गरीब वर्ग के हैं। नीति आयोग की रिपोर्ट से पता चला है कि बिहार के 38 जिलों में से किशनगंज सबसे गरीब जिला है।

रिपोर्ट की माने तो, सीमांचल क्षेत्र के अल्पसंख्यक बहुल किशनगंज जिले में गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) रहने वाले 64.75 प्रतिशत लोग हैं, इसके बाद अररिया (64.65 प्रतिशत), मधेपुरा जिला (64.43 प्रतिशत), पूर्वी चंपारण (64.13 प्रतिशत), सुपौल (64.10 प्रतिशत), जमुई (64.01 प्रतिशत), सीतामढ़ी (63.46 प्रतिशत), पूर्णिया (63.29 प्रतिशत), कटिहार (62.80 प्रतिशत), सहरसा (61.48 प्रतिशत) और शिवहर (60.30 प्रतिशत) से हैं। इस बीच, जिन जिलों में 50 फीसदी लोग गरीब श्रेणी में आते हैं, उनमें मुंगेर (40.99 फीसदी), रोहतास (40.75 फीसदी), सीवान (40.55 फीसदी) और भोजपुर (40.50 फीसदी) शामिल हैं।

Keep Reading Show less

26/11 आतंकी हमले की तस्वीर (Twitter)

मुंबई में हुए 26/11 हमले को एक दशक बीत चुका है। लेकिन जैसे जैसे समय आगे बढ़ रहा है उसी तरीके 26/11 हमले के समय होने वाली घटना भी उजागर हो रही है। इसी तरह अबकी बार एक ऐसा खुलासा किया गया है जो तात्कालिक मनमोहन सिंह सरकार पर कई प्रश्न खड़े कर रहा है? यह खुलासा आर.एस.एन. सिंह द्वारा किया गया है। सिंह एक पूर्व सैन्य खुफिया अधिकारी हैं, जिन्होंने बाद में रिसर्च एंड एनालिसिस विंग में काम किया।

आर.एस.एन.सिंह ने भारतीय रक्षा समीक्षा के लेख में लिखा है लश्कर-ए-तैयबा ने जब 26/11 को मुंबई पर हमला किया, उस समय तत्कालीन केंद्रीय गृह सचिव मधुकर गुप्ता के नेतृत्व में भारत के गृह मंत्रालय और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारियों की नौ सदस्यीय उच्चस्तरीय टीम पाकिस्तान के मुरी में थी। टीम 24 नवंबर, 2008 को इस्लामाबाद पहुंची थी और उसे दो दिन बाद, यानी 26 नवंबर को वापस लौटना था। गुप्त रूप से, आतिथ्य को और एक दिन के लिए बढ़ा दिया गया था। इसमें इस्लामाबाद से 60 किमी उत्तर पूर्व में एक हिल स्टेशन मुरी के स्वास्थ्यप्रद वातावरण में एक रात का प्रवास शामिल था। सिंह ने लिखा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने यह सुनिश्चित किया कि मुंबई पर हमले के समय भारत की टीम उस गुप्त स्थान पर रहे।

Keep reading... Show less