Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

एक गिरफ़्तारी जिसने जन्मा क्रांति का आक्रोश

रोबिन हुड के विषय में सबने पढ़ा होगा, और अधिकांश युवाओं ने उनकी कहानी को अपना प्रेरणा स्रोत भी बना लिया होगा। किन्तु दुर्भाग्य की बात यह है कि भारत के ही एक वीर की कहानी पश्चिमी चकाचौंद में कहीं खो गई है। भारत के इतिहास और भारत के शौर्य को न तो हम युवाओं

रोबिन हुड के विषय में सबने पढ़ा होगा, और अधिकांश युवाओं ने उनकी कहानी को अपना प्रेरणा स्रोत भी बना लिया होगा। किन्तु दुर्भाग्य की बात यह है कि भारत के ही एक वीर की कहानी पश्चिमी चकाचौंद में कहीं खो गई है। भारत के इतिहास और भारत के शौर्य को न तो हम युवाओं तक पहुँचाया गया और न ही हमने उन्हें खोजने की पहल की। अंग्रेजी शासन में रसूकदारों से अनाज लूटकर जरूरतमंद गरीबों में वितरित करना उस समय में देश-द्रोह माना जाता था। लेकिन क्रांति के मतवालों ने अपने स्वार्थ के लिए नहीं बल्कि जनता के भले के लिए यह अपराध भी अपनाने में पीछे नहीं हटे। यह कहानी है शहीद वीर नारायण बिंझवार की।

वीर नारायण सिंह के पूर्वज गोंड जाति से नाता रखते थे और इसी वंश ने 16वीं सदी में वर्तमान के छत्तीसगढ़ राज्य में सोनाखान सूबे की स्थापना की थी। किन्तु गोंडमारु के डर से उन्होंने गोंड जाति से बिंझवार जाति में परिवर्तन करा लिया। क्योंकि उन दिनों दिल्ली के तख़्त पर मुग़ल शासन कर रहे थे। और उस समय वर्तमान का सम्पूर्ण मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश, बिहार, बंगाल, उड़ीसा, तेलंगाना और महाराष्ट्र का कुछ हिस्से गोंड़वाना भूभाग में आते थे। और इसी भूभाग पर मुगलों की भी नज़र थी। जिसके बाद मुग़ल सेना ने गोंड़वाना पर हमला कर दिया। जिसके उपरांत कुछ गोंड शासकों ने मुस्लिम धर्म अपना लिया और धर्मपरिवर्तन न करवाने वाले राजा और उसके राज्य पर अत्याचार करने लगे। इन्हीं धर्म परिवर्तित राजाओं को गोंडमारु के नाम से जाना गया।


वीर नारायण सिंह के पिता रामसाय दीवान 84 गावों के दीवान थे जो कि उन्हें विरासत में मिली थी। युवराज नारायण सिंह वीर एवं प्रजा के प्रति समर्पित थे। वह अपने स्वामी भक्त घोड़े पर सवार होकर प्रजा का दुःख-दर्द जानने निकल जाते। एक बार उन्हें खबर मिली कि सोनाखान इलाके में एक आदमखोर शेर ने उत्पात मचा रहा है। जिसके बाद वह उस शेर से सामना करने निकल पड़े। कई दिन ढूंढने के बाद भी वह शेर नहीं मिला, किन्तु जब एक वीर जब ठान लेता है तो उसे रोक पाना असंभव है। कई दिनों बाद, पास के गांव से खबर मिली कि उस इलाके में शेर ने फिर उत्पात मचाना शुरू कर दिया है। तब वीर नारायण सिंह उस शेर के समक्ष निहत्ते कूद गए। दोनों के बीच भयंकर द्वंद हुआ और नारायण सिंह पर कई खरोंचें आई और शेर भी पस्त होने लगा, तब मौका देख गोंड़वाना के शेर ने उस आदमखोर को अपनी कटार से वार कर परास्त कर दिया।

वीर नारायण सिंह का गोंड़वाना के शूरवीरों में सर्वप्रथम नाम आता है। और उनकी वीर गाथाओं को आज भी स्थानीय लोग कहते-सुनते नज़र आ जाते हैं।

सूबे में सूखे की वजह से अकाल जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई थी।(Pinterest)

1856 में इलाके में सूखे की वजह से अकाल की स्थिति उत्पन्न हो गई थी और इस समय तक अंग्रेज शासन और उन्ही के चाटूकार साहूकारों ने अपना कुनबा मजबूत कर लिया था। जमाखोरी और अवैध रूप से सामान का आदान-प्रदान का काला धंधा अंग्रेज हुकूमत के सामने बे रोक-टोक चल रहा था। जमाखोरी और ब्याज का धंधा करने से साहूकारों को आसमान छूने में बहुत काम समय लगा। सूखे का फायदा उठाकर जमाखोर मोटा मुनाफा कमाने की फ़िराक में थे। और इसका प्रभाव छोटे कस्बों में दिखने भी लगा था।

जब शोषण और अन्न दोनों का मोल आसमान छूने लगा तब राज्य के लोग वीर नारायण सिंह के समक्ष मदद की गुहार ले कर गए। जिसके उपरांत यह फैसला हुआ कि कसडोल वाले महाजन परिवार से अन्न को कर्ज के रूप में लिया जाएगा और उसके ब्याज का भुगतान भी किया जाएगा। किन्तु, महाजन ने ज़्यादा मुनाफे के लालच की चपेट में आकर इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया। तब सभी गोंड़वाना वासियों और सहायता मांगने आए अन्य नेताओं ने यह प्रतिज्ञा लिया कि हम साहूकारों द्वारा किए जा रहे इस अत्याचार को और सहन नहीं करेंगे। तब वीर नारायण सिंह के नेतृत्व में हज़ारों लोगों ने कसडोल गांव की तरफ मोर्चा खोल दिया। जब वीर नारायण सिंह कसडोल पहुंचे तब उन्होंने पुनः उस साहूकार से कर्ज की गुहार की, क्योंकि बुद्धिमान का पहला कदम विनम्रता से बात को सुलझाना होता है। किन्तु जब इस बार भी जब वह महाजन नहीं माना तब जनता की भलाई के लिए उसे लूटने के सिवा और कोई चारा नहीं बचा था। इसके उपरांत महाजन के गोदाम को वीर नारायण सिंह ने अपने कब्जे में कर लिया और जरूरतमंदों में बराबर हिस्से अन्न को वितरित किया।

जब इस घटना की शिकायत महाजन ने अग्रेजों से की तो वह वीर नारायण सिंह को गिरफ्तार करने लिए धमक पड़े। किन्तु उन अंग्रेजों को यह भलीभांति पता था कि नारायण सिंह को गिरफ्तार करना आसान काम नहीं है। इसलिए उन पर देशद्रोह और लुटेरा होने का झूठा आरोप लगाकर उन्हें गिरफ्तार कर रायपुर ले गए। किन्तु, अपने नेता की गिरफ़्तारी के बाद विद्रोह की ज्वाला फूट पड़ी और इसी बीच वीर नारायण सिंह, मौका मिलते ही बन्दीगृह से भागने में सफल रहे।

यह भी पढ़ें: “वीर शिरोमणि महाराजा दाहिर सेन”

जिसके उपरांत वीर नारायण सिंह के नेतृत्व में गोंड, कंवर, धनुहर, बिंझवार के नौजवानों और किसानों ने हर तरह के हथियारों से लैस हो कर अंग्रेज साम्राज्य के खिलाफ विद्रोह का शंखनाद कर दिया। प्रत्येक संग्राम में अंग्रेजों ने छल और कपट का साथ लिया और महाजन वर्ग को अपने खेमे कर लिया। यहाँ तक की देवरी के जमींदार एवं वीर नारायण सिंह के बहनोई को भी अंग्रेजों का साथ दिया। किन्तु गोंड़वाना शेरों के सामने अंग्रेज कहाँ टिक सकते थे। वीर नारायण सिंह गोरिल्ला रणनीति का इस्तेमाल कर अंग्रेजों पर वार करते थे और उन्हें इसका फायदा भी मिलता था। रात को विश्राम करने के लिए वीर नारायण सिंह कुर्रूपाट में ठहरते थे, जहाँ तक पहुँच पाना अंग्रेजों के लिए असंभव के समान था। परन्तु जासूसों द्वारा बताए मार्ग से अंग्रेजों ने नारायण सिंह पर धोके से हमला कर उन्हें पुनः बंदी बना लिया।

10 दिसम्बर 1857 को क्रांति की अलख जलाने वाले वीर नारायण सिंह को फाँसी दे दी गई।(Pixabay)

इस बार बंदीगृह में उन्हें कड़ी सुरक्षा में रखा गया। उन्हें अंग्रेजों की अदालत में प्रस्तुत किया गया और उन पर राजद्रोह का मुकदमा चलाया गया। फैसले के रूप में उन्हें मृत्यु दंड दिया गया। अंग्रेज सरकार इस हद तक भयभीत हो चुकी थी कि वह कोई मौका बचने देना नहीं चाहती थी। क्रांति के इस वीर योद्धा को 10 दिसम्बर 1857 को फाँसी दे दी गई। क्रूर अंग्रेजों ने जनता के अंदर दहशत भरने के लिए 10 दिन तक उन्हें फाँसी पर लटकने दिया। और 10वें दिन वीर नारायण सिंह के मृत शरीर को तोप से बांधकर उड़ा दिया गया। उनके क्षतिग्रस्त हुए शरीर को ही उनके परिवार को सौंपा गया।

जिस साल शहीद वीर नारायण सिंह को फाँसी दी गई थी उसी साल शहीद क्रन्तिकारी मंगल पांडेय को फाँसी दी गई। किन्तु न तो आज के युवा को मंगल पांडेय के बलिदान के विषय में कुछ इतिहास पता है और न ही वीर नारायण सिंह को आज के दौर में याद किया जाता है। जिसका ही परिणाम है कि एक विश्वविद्यालय में आतंकी के लिए आज़ादी के नारे लगाए जाते हैं और कई राजनीतिक दल उसका समर्थन भी करते हैं।

Popular

(NewsGram Hindi)

अगले वर्ष भारत एक बार फिर सबसे बड़े राजनीतिक धमाचौकड़ी का साक्षी बनने जा रहा है। जिसकी तैयारी में अभी से राजनीतिक दल अपना खून पसीना एक कर रहे हैं। यह चुनावी बिगुल फूंका गया है राजनीति का गढ़ कहे जाने वाले राज्य उत्तर प्रदेश में, जहाँ जातीय समीकरण, विकास और धर्म पर खूब हो-हल्ला मचा हुआ है। उत्तर प्रदेश चुनाव में जहाँ एक तरफ भाजपा हिन्दुओं को अपने पाले करने में जुटी वहीं विपक्ष ब्राह्मणों को अपनी तरफ करने के प्रयास में एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। आने वाला उत्तर प्रदेश चुनाव क्या मोड़ लेगा इसका उत्तर तो समय बताएगा, किन्तु ब्राह्मणों को अपने पाले में खींचने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

आपको बता दें कि वर्ष 2017 में हुए उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में सभी पार्टियों ने खूब खून-पसीना बहाया था, किन्तु सफलता का परचम भारतीय जनता पार्टी ने 312 सीटों को जीत कर लहराया था। वहीं अन्य पार्टियाँ 50 का आंकड़ा भी पार नहीं कर पाई। भाजपा की इस जादुई जीत का श्रेय प्रधानमंत्री मोदी के धुआँधार रैली और मुख्यमंत्री चेहरे को जाहिर न करने को गया। किन्तु उत्तर-प्रदेश 2022 का आगामी चुनाव सत्ता पक्ष के चुनौतियों से भरा हो सकता है। वह इसलिए क्योंकि सभी राजनीतिक पार्टी अब धर्म एवं जाति की राजनीति के अखाड़े में कूद गए हैं। इसमें सबसे आगे हैं यूपी में राजनीतिक बसेरा ढूंढ रहे एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन औवेसी! जो खुलकर रैलियों में और टीवी पर यह कहते हुए सुनाई दे जाते हैं कि वह प्रदेश के मुसलमानों को अपनी ओर खींचने के लिए उत्तर प्रदेश आए हैं।

Keep Reading Show less
(NewsGram Hindi, Shantanoo Mishra)

हिन्दू या हिंदुत्व, एक धर्म है या विचार इसका फैसला आज के समय में ग्रंथ, पुराण या धर्माधिकारी नहीं करते, अपितु इसका फैसला करता है कंप्यूटर के सामने बैठा वह तथाकथित बुद्धिजीवि जिसे न तो धर्म का ज्ञान है और न ही सनातन संस्कृति की समझ। इन्हें हम आम भाषा में लिब्रलधारी या लिब्रान्डू भी कहते हैं। यही तबका आज देश में ‘हिन्दू बांटों आंदोलन‘ का मुखिया बन गया है। समय-समय पर इस तबके ने देश में हिन्दुओं को हिंदुत्व के प्रति ही भड़काने का काम किया है। महिलाऐं यदि हिन्दू परंपरा अनुसार वस्त्र पहनती हैं तो वह इस तबके के लिए अभिव्यक्ति की आजादी पर चोट है और साथ ही यह पुराने जमाने का है, किन्तु इसी तबके के लिए हिजाब सशक्तिकरण की मूरत है। जब लव-जिहाद या धर्मांतरण के विरुद्ध आवाज उठाई गई थी तब भी इस तबके ने इसे प्रेम पर चोट या अभिव्यक्ति की आजादी जैसा बेतुका रोना रोया था। दिवाली पर जानवरों के प्रति झूठा प्रेम दिखाकर पटाखे न जलाने की नसीहत देते हैं और बकरी-ईद के दिन मौन बैठकर, सोशल मीडिया पर मिया दोस्त द्वारा कोरमा खिलाए जाने का इंतजार करते हैं।

सवाल करना एक व्यक्ति का जन्मसिद्ध अधिकार है, किन्तु स्वयं को लिब्रलधारी बताने के लिए श्री राम और सनातन धर्म की परम्पराओं पर प्रश्न-चिन्ह उठाना कहाँ की समझदारी है? इसी तबके ने भारत में मुगलिया शासन को स्वर्णिम युग बताया था, साथ ही हिन्दुओं को मारने वाले टीपू सुल्तान जैसे क्रूर शासक को करोड़ों का मसीहा भी बताया था। लेकिन आज जब भारत का जागरुक युवा ‘छत्रपति सम्राट शिवाजी महाराज’ का नाम गर्व से लेता है तो यह तबका उसे भी संघी या बजरंग दल का बताने में देर नहीं करता। इस तबके के लिए हिंदुत्व धर्म नहीं एक पार्टी की विचारधारा और यह इसी मानसिकता को विश्व में अन्य लोगों तक पहुंचाकर हिन्दुओं को बदनाम करने का कार्य कर रहे हैं।

Keep Reading Show less
(NewsGram Hindi, साभार: Wikimedia Commons)

आज शहीद स्वतंत्रता सेनानी मंगल पांडे(Mangal Pandey) की 194वीं जयंती है। मंगल पांडे(Mangal Pandey) पराधीन भारत की आजादी के वह जननायक थे जिनके एक नारे ने स्वतंत्रता के संग्राम को नई ऊर्जा दिया था। मंगल पांडे(Mangal Pandey) को स्वतंत्रता का जनक भी कहा जाता है जिनके नक्शे-कदम पर चलकर शहीद भगत सिंह, आजाद जैसे वीरों ने स्वतंत्रता के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिए। मंगल पांडे(Mangal Pandey) उन वीरों में से थे जिनके लिए धर्म एवं स्वाभिमान भी बड़ा था और राष्ट्र की स्वतंत्रता भी।

मंगल पांडे!

शहीद मंगल पांडे 19 जुलाई, 1827 को उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के नगवा गांव में जन्में थे। मंगल पांडे(Mangal Pandey) क्रांतिकारी के रूप में उभरने से पूर्व कलकत्ता (कोलकाता) के पास बैरकपुर की सैनिक छावनी में “34वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री” के सिपाही थे। अंग्रेजों ने भारतीय सिपाहियों को भी बहुत प्रताड़ित किया था। मंगल पांडे के साथ-साथ अन्य सैनिकों ने भी इन प्रताड़नाओं को सहा, किन्तु पानी सर से तब ऊपर चला गया जब भारतीय सैनिकों को सूअर और गाय की चर्भी लगे बारूद वाली बंदूक दी गईं। मंगल ब्राह्मण थे जिस वजह से उन्होंने अपने साथी सिपाहियों के साथ इसकी शिकायत बड़े अधिकारीयों से की। किन्तु इस मामले पर सुनवाई न होता देख उनमें प्रतिशोध की भावना उमड़ पड़ी।

Keep reading... Show less