Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

उस्ताद अलाउद्दीन खान को उनके जन्मदिन पर किसी ने याद नहीं किया

बाबा अलाउद्दीन खान को आठ अक्टूबर को उनके जन्मदिन के मौके पर किसी ने याद नहीं किया। इस बात का मलाल हर संगीतप्रेमी को है।

बाबा अलाउद्दीन खान (मध्य ) और उनके दो अन्य साथी। (Wikimedia Commons)

By – संदीप पौराणिक

संगीत की दुनिया में शायद ही ऐसा कोई हो जो मैहर के बाबा अलाउद्दीन खान को न जानता हो, क्योंकि अलाउद्दीन खान संगीत जगत के ऐसे समुंदर थे जिससे संगीत की अलग-अलग धाराएं निकली।


मध्यप्रदेश के सतना जिले का मैहर कस्बा देश के अन्य कस्बों जैसा ही है। देश और दुनिया में इस कस्बे की पहचान मां शारदा देवी के मंदिर और संगीतज्ञ बाबा अलाउद्दीन खान के कारण है। अलाउद्दीन खान का जन्म भले ही मैहर में न हुआ हो मगर उन्होंने मैहर को अपनी कर्मभूमि बनाया और यहां ऐसे रचे-बसे कि बाबा मैहर के ही होकर रह गए।

मध्यप्रदेश में उनके नाम पर अलाउद्दीन खान कला और संस्कृति अकादमी है तो मैहर में महाविद्यालय। इसके बावजूद आठ अक्टूबर को उनके जन्मदिन के मौके पर किसी ने उन्हें याद नहीं किया। इस बात का मलाल हर संगीतप्रेमी को है। अकादमी की ओर से यही कहा जा रहा है कि कोरोना काल के कारण किसी भी तरह का आयोजन संभव नहीं था।

अलाउद्दीन खान। (Wikimedia Commons)

अलाउद्दीन खान के परिजन आरिफ तनवीर का कहना है कि, अलाउद्दीन खान साहब सहित अन्य संगीतज्ञों की याद में महाविद्यालय विश्वविद्यालय के रूप में इमारतें तो खड़ी कर दी गई मगर उनकी याद में कोई स्थाई कार्यक्रम नहीं होता। यही कारण है कि लाखों करोड़ों रुपए इमारतों पर खर्च किए जाने के बावजूद देश में दूसरा अलाउद्दीन खान, भीमसेन जोशी, रविशंकर पैदा नहीं हो पाया है। सरकार का भारतीय संगीतज्ञ और संगीत के प्रति उपेक्षापूर्ण रवैया चिंताजनक है।

यह भी पढ़ें – हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे की नई मिसाल अयोध्या में कायम हुई

उस्ताद अलाउद्दीन खान, ढाका में 1955 के संगीत समारोह में सम्मिलित हुए थे। (Wikimedia Commons)

कहा जाता है कि अलाउददीन खान के संगीत कला से प्रभावित होकर मैहर के महाराजा बृजनाथ सिंह बीसवीं सदी की शुरुआत में उन्हें मैहर लेकर आए थे। अलाउददीन राजा के दरबार में नियमित रूप से वाद्य यंत्र बजाते और गायन तो करते ही थे, साथ ही जब तक सक्षम रहे हर रोज सीढ़ियां चढ़कर मां शारदा देवी के मंदिर दर्शन करने जाते थे और वहां भी भजन गाते थे।

उस्ताद अलाउद्दीन खान का घर। (Wikimedia Commons)

अलाउददीन खान के अनोखे आर्केस्ट्रा मैहर वाद्य वृंद (मैहर बैंड) की स्थापना का भी किस्सा है। लोग बताते हैं कि वर्ष 1918-19 में मैहर में प्लेग फैला था, इस महामारी के चलते बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई थी और कई बच्चे अनाथ हो गए थे। इन बच्चों को उन्होंने इकट्ठा किया और उनकी क्षमता और रूचि के अनुसार वाद्य बजाने की शिक्षा दी और उसके बाद ही यह वाद्य वृंद अस्तित्व में आया। वर्तमान में मैहर में स्थित अलाउद्दीन कला महाविद्यालय में यह वाद्य वृंद भी है इसमें महाविद्यालय के छात्र भी शामिल हैं। यहां अलाउद्दीन की याद में एक संग्रहालय भी है जिसमें तमाम वाद्य यंत्रों को रखा गया है।

यह भी पढ़ें – अयोध्या के राममंदिर में लगा 613 किलो का घंटा, कई किलोमीटर गूंजेगी ध्वनि

बाबा अलाउद्दीन खान 20 वीं शताब्दी के महानतम संगीत शिक्षकों में से एक थे। (Wikimedia Commons)

सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार नंदलाल सिंह का कहना है कि, उनका नाम जरूर अलाउद्दीन खान था मगर वे सांप्रदायिक सद्भाव की बेजोड़ मिसाल थे। वास्तव में वे संगीत के प्रतिरुप और अवतार थे, क्योंकि संगीत की कोई जाति-धर्म नहीं होती। उनके साम्प्रदायिक सद्भाव को इसी से समझा जा सकता है कि उनके घर (मकान) के दो नाम हैं – मदीना भवन और शांति कुटीर।

अलाउददीन खान ने संगीत परंपरा में एक नई शुरुआत की, संभवतः मैहर घराना भारतीय संगीत का इकलौता ऐसा घराना है जिसमें पीढ़ी हस्तांतरण किसी एक परिवार के सदस्यों की बजाय गुरु शिष्य परंपरा के जरिए होता है।

विश्व स्तर पर प्रसिद्ध दिल्ली के कलाकार और पद्मश्री से सम्मानित परेश मैती ने मैहर में 34 फीट ऊंची, 20 फीट लंबी और 8 फीट चौड़ी मूर्तिकला बनाई है जो मैहर के लिए एक कलात्मक श्रद्धांजलि है। ये मूर्तिकला पुण्यभूमि-मां शारदा शक्तिपथ और उस्ताद अलाउद्दीन खान की कर्मभूमि को समर्पित है। (आईएएनएस)

Popular

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep Reading Show less

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में भारत की जीत(PIXABAY)

एआईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप(AIBA World Boxing Championship) में भारत की जीत की लय को आगे बढ़ाते हुए दीपक भोरिया, सुमित और नरेंद्र ने सर्बिया के बेलग्रेड में चल रही चैंपियनशिप के दूसरे दिन शानदार जीत के साथ अपने अभियान को जारी रखा। खिताब के प्रबल दावेदारों में से एक, किर्गिस्तान के अजत उसेनालिव के खिलाफ, दीपक ने 51 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच में एक शानदार प्रदर्शन किया। एशियाई चैंपियन उसेनलिव के कुछ प्रतिरोध के बावजूद, 24 वर्षीय दीपक अपनी जीत को सुनिश्चत करने में सफल रहे।

सुमित भी जमैका के मुक्केबाज(Boxing) ओनील डेमन के खिलाफ अपने 75 किग्रा के शुरूआती दौर के मैच के दौरान समान रूप से प्रभावी थे। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ 5-0 से आसान जीत दर्ज की थी। दूसरी ओर, नरेंद्र को अपने पोलिश प्रतिद्वंद्वी ऑस्कर सफरियन से प्लस 92 किग्रा मुकाबले में कुछ कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा। हालांकि भारतीय खिलाड़ी ने 4-1 से अपनी जीत दर्ज की।

AIBA World Boxing Championship चैंपियनशिप के तीसरे दिन बुधवार को चार भारतीय मुक्केबाज अपनी चुनौती की शुरूआत करेंगे।(Pixabay)

Keep Reading Show less

एनपीपीए ने 12 डायबिटीज के इलाज के लिए जेनेरिक दवाओं की अधिकतम कीमतें तय करके एक सफल कदम उठाया है-एनपीपीए(Wikimedia commons)

नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग अथॉरिटी (NPPA-India) ने मंगलवार को डायबिटीज के इलाज में काम आने वाली 12 जेनेरिक दवाओं की कीमत तय किए हैं। आपको बता दें इसके पहले भी केंद्र सरकार ने सितंबर में आवश्यक दवाओं की राष्ट्रीय सूची (एनएलईएम) में संशोधन करते हुए आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली 39 दवाओं की कीमतों में कटौती की थी।

एनपीपीए(NPPA-India) ने ट्वीट कर कहा, "हर भारतीय के लिए डायबिटीज जैसी बीमारियों के खिलाफ चिकित्सा उपचार को संभव बनाने के लिए एनपीपीए ने 12 डायबिटीज के इलाज के लिए जेनेरिक दवाओं की अधिकतम कीमतें तय करके एक सफल कदम उठाया है।"

Keep reading... Show less