Wednesday, September 23, 2020
Home देश प्रयागराज कुम्भ का फार्मूला उत्तराखंड कुम्भ में भी इस्तेमाल किया जाएगा

प्रयागराज कुम्भ का फार्मूला उत्तराखंड कुम्भ में भी इस्तेमाल किया जाएगा

अधिकारियों ने कोविड प्रोटोकॉल पर, विशेष भीड़ प्रबंधन पर भी चर्चा की, ताकि इस बड़े कार्यक्रम के दौरान दो भक्तों के बीच 1.6 मीटर की दूरी बनी रहे।

 उत्तराखंड पुलिस ने साल 2021 में होने वाले अगले कुंभ मेले के लिए भीड़ प्रबंधन और यातायात नियंत्रण को लेकर उत्तर प्रदेश के अपने समकक्षों की मदद मांगी है। प्रयागराज रेंज के पुलिस महानिरीक्षक के.पी. सिंह, जिन्होंने महाकुंभ-2019 के दौरान डीआईजी/एसएसपी के रूप में कार्य किया था, उनको यातायात और भीड़ प्रबंधन पर रणनीति और योजना बनाने और उनके अनुभव से लाभ पाने के लिए उत्तराखंड में आमंत्रित किया गया।

आईजी ने कहा, “मैंने 2019 महाकुंभ में यातायात और भीड़ प्रबंधन के लिए अपनाए गए उपायों, रणनीति को और अपने अनुभव को आईजी (मेला) संजय गुंज्याल के साथ साझा किया। मैंने उन्हें हरिद्वार में वन-वे ट्रैफिक सिस्टम लगाने की सलाह दी, जैसे हमने महाकुंभ के दौरान किया था।”

उत्तराखंड पुलिस को सलाह दी गई कि वे मेला स्थल पर वाहनों की आवाजाही की अनुमति न दें, चिह्नें का सीमांकन करें और वहां से तीर्थयात्रियों को मेला परिसर तक पहुंचाएं।

यह भी पढ़ें: महामारी के प्रभाव से धीरे-धीरे पटरी पर लौटेगी अर्थव्यवस्था

भक्तों और तीर्थयात्रियों को घाटों, आश्रमों, मठों और अखाड़ों तक चलकर जाना होगा।

उन्होंने कहा, “हमने उन्हें तीर्थयात्रियों को ट्रैफिक जाम और दुर्घटना से बचाने के लिए शटल बस सेवा शुरू करने की सलाह दी। प्रयागराज पुलिस ने 400 से अधिक शटल बसों को श्रद्धालुओं और तीर्थयात्रियों को पाकिर्ंग स्लॉट से लेकर मेला स्थल तक पहुंचाने के लिए सड़कों पर उतारा था।”

सिंह ने उत्तराखंड पुलिस को हरिद्वार में भीड़ और यातायात का प्रबंधन करने और अराजकता से बचने के लिए उन्हें विभिन्न घाटों की ओर मोड़ने की सलाह दी।

साल 2019 के महाकुंभ के दौरान प्रयागराज पुलिस ने संगम पर भीड़भाड़ को रोकने के लिए फाफामऊ, अरैल और झांसी घाटों की ओर भीड़ को मोड़ दिया था।

प्रायराज कुम्भ में प्रशासन के इंतजामों की हुई थी प्रशंसा। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

सिंह ने आगे कहा, “हमने मेला स्थल पर कई प्रवेश और निकासी द्वार बनाने का भी सुझाव दिया।”

प्रयागराज की तुलना में हरिद्वार मेला स्थल में होल्डिंग एरिया (घाटों पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं के लिए स्थान) कम है, इसलिए आईजी ने इस क्षेत्र को सेक्टरों में विभाजित करने और बेहतर भीड़ प्रबंधन के लिए समान मात्रा में श्रद्धालुओं को डायवर्ट करने का सुझाव दिया, इसके अलावा यातायात और भक्तों के प्रवाह को नियंत्रित करने के लिए होल्डिंग एरिया को मेला स्थल के बाहर बनाने का सुझाव भी दिया।

उन्होंने कहा, “हरिद्वार मेला पुलिस को सार्वजनिक परिवहन और निजी वाहनों की तैनाती के लिए पड़ोसी जिला पुलिस के साथ समन्वय करने के लिए भी कहा गया है, इसके अलावा रणनीतिक स्थानों पर क्रेन और अन्य यातायात उपकरणों की व्यवस्था भी की गई है।”

यह भी पढ़ें: देश-विदेश में प्रदर्शित होगी काशी की पपेट रामलीला

सिंह ने आईजी हरिद्वार कुंभ मेला संजय गुंज्याल के साथ सुरक्षा ब्लूप्रिंट प्लान और ‘शाही स्नान’ के लिए सुरक्षा उपाय भी साझा किए।

अधिकारियों ने कोविड प्रोटोकॉल पर, विशेष भीड़ प्रबंधन पर भी चर्चा की, ताकि इस बड़े कार्यक्रम के दौरान दो भक्तों के बीच 1.6 मीटर की दूरी बनी रहे। उन्होंने यह भी चर्चा की कि कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन नहीं होने देने के लिए भीड़ की मात्रा को एक निश्चित समय पर मेला स्थल में प्रवेश की अनुमति दी जाए।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
162FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी