Monday, June 14, 2021
Home देश कोरोना से मौत के बाद बॉडी में एक्टिव नहीं रहते वायरस :...

कोरोना से मौत के बाद बॉडी में एक्टिव नहीं रहते वायरस : स्टडी

डॉ. गुप्ता ने बताया कि, AIIMS के फोरेंसिक विभाग की स्टडी में कोविड मरीजों की मौत के 24 घंटे में लिए गए सैंपल में कोरोना वायरस नहीं पाया गया है।

पिछले कुछ महीनों से हमारे देश में फैल रही कोरोनावायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर ने एक अत्यंत विकराल रूप कायम कर रखा है। संक्रमित लोगों की संख्या में भले ही कमी देखी गई हो। लेकिन मौत के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना वायरस के चलते प्रतिदिन 1000 से भी ज्यादा लोगों की मौत हो रही है और ऐसे में कोरोना संक्रमण से मारे गए लोगों के अंतिम संस्कार के प्रति लोगों का रवैया भी बेहद दुखी कर देने वाला है। 

लोगों में संक्रमण का डर इस कदर बैठ चुका है कि, लोग अपने परिजनों के शव तक को लेने से इनकार कर रहे हैं। उन्हें डर है कि, कहीं वह भी कोरोना संक्रमित ना हो जाए। हालात इतने असंवेदनशील हो गए हैं कि, मृतकों के शरीर को ऐसे ही गंगा में या नदियों में बहा दिया जा रहा है। कई जगह मृतकों के शरीर को गड्ढों में फेंक दिया जा रहा है। 

हम सभी जानते हैं, यह स्थिति अत्यंत भयावह है। खुद को भी सुरक्षित रखना है और दूसरों को भी। लेकिन हमें यह भी समझना होगा कि, डरने की बजाय बुद्धि और संयम से काम लिया जाए। लोगों को यह समझना होगा कि, संक्रमित व्यक्ति की मौत के 12 से 24 घंटे बाद कोरोना नाक और मुंह में सक्रिय नहीं रहता है। ऐसे में अगर पूरी सुरक्षा से PPE किट पहनकर मरने वालों का अंतिम संस्कार सावधानी पूर्वक और नियमानुसार किया जाए तो इसमें कोई खतरा नहीं है। 

Covid
लोगों में संक्रमण का डर इस कदर बैठ चुका है कि, लोग अपने परिजनों के शव तक को लेने से इनकार कर रहे हैं। (सोशल मीडिया)

हाल ही में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में फोरेंसिक प्रमुख डॉ. सुधीर गुप्ता ने कहा है कि, एक संक्रमित व्यक्ति की मौत के 12 से 24 घंटे बाद कोरोना वायरस नाक और मुंह में सक्रिय नहीं रहता है। 

डॉ. गुप्ता ने बताया कि, AIIMS के फोरेंसिक विभाग की स्टडी में कोविड मरीजों की मौत के 24 घंटे में लिए गए सैंपल में कोरोना वायरस नहीं पाया गया है। इसलिए आईसीएमआर ने कोविड की वजह से मरने वाले लोगों के शरीर को अंतिम रीति रिवाज से अंतिम संस्कार करने का मौका दिया जाना चाहिए। 

पिछले एक साल से एम्स में फोरेंसिक मेडिसिन विभाग में कोविड – 19 पॉजिटिव मामलों पर अध्ययन किया जा रहा है। इन मामलों में पोस्टमार्टम किया गया था। डॉ. गुप्ता ने बताया कि लगभग 100 शवों की कोरोनावायरस से मरने के बाद फिर जांच की गई थी। जिसकी रिपोर्ट बाद में नेगेटिव आई थी। 

यह भी पढ़ें :- एक तरफ कोविड, दूसरी तरफ कृषि कानून पर राजनीति, किसका खतरा अधिक?

हालांकि डॉ गुप्ता ने कहा है कि, मौत के कुछ घंटे बाद बॉडी से निकलने वाले आंतरिक तरल पदार्थ को लेकर एहतियात रखना बहुत जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा है कि, कोरोना से मरने वाले लोगों की अस्थियां और राख का संग्रह पूरी तरह से सुरक्षित है। क्योंकि अस्थियों से संक्रमण फैलने का कोई डर नहीं है। 

जिस प्रकार स्टडी में बताया गया है और आईसीएमआर (ICMR) की गाइडलाइन में कहा गया है, अगर सही तरीके से बॉडी बैग में है, आपने सभी गाइडलाइन का पालन किया है, तो आपको किसी भी प्रकार से डरने की जरूरत नहीं है। परिजन अपने चहेते को देख सकते हैं। उन्हें ठीक तरीके से अंतिम विदाई दे सकते हैं। 

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी