Vivek Agnihotri को कश्मीर पंडितों पर हुई प्रताड़ना का सच दिखाने के लिए मिल रही हैं धमकियां

0
45
फिल्म निर्माता विवेक रंजन अग्निहोत्री(Wikiemedia Commons)

कश्मीर में हुए कश्मीरी पंडितों की व्यथा को चित्रित करती फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ के रिलीज़ को रोकने की कट्टरपंथी भरसक प्रयास कर रहे हैं। हालही में फिल्म निर्माता विवेक रंजन अग्निहोत्री(Vivek Agnihotri) ने इस कारण से अपना ट्विटर अकाउंट निष्क्रिय कर दिया है। उन्होंने(Vivek Agnihotri) अपने सोशल मीडिया पर इसके पीछे का कारण बताते हुए कहा “बहुत सारे लोग सोच रहे हैं कि क्या मेरा ट्विटर अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया है। नहीं, ऐसा नहीं किया गया है। मैंने इसे डिएक्टिवेट कर दिया है। जब से मैंने द कश्मीर फाइल्स का कैंपेन शुरू किया है, ट्विटर शैडो ने मुझ पर बैन लगा दिया है। मेरे फॉलोअर्स में भारी गिरावट आई और मेरे ज्यादातर फॉलोअर्स मेरे किसी भी ट्वीट को नहीं देख पा रहे हैं। उसके अलावा, मेरा इनबॉक्स अश्लील और धमकी भरे मैसेज से भरा हुआ था।””

उन्होंने(Vivek Agnihotri) स्थिति को संभालने के विषय में बताया कि “ऐसा नहीं है कि मैं ऐसे एलिमेंट्स को संभाल नहीं सकता, लेकिन ऐसा लग रहा था कि कई पाकिस्तानी और चाइनीज बॉट्स थे। आप कितने भी सख्त क्यों न हों, अपने परिवार के लिए इतनी तीव्र घृणा और धमकियों से घिरे रहना मेंटली टेस्टिंग है। किसलिए?”

उन्होंने आगे कहा, “हमारे कश्मीरी भाइयों और बहनों के दर्द और पीड़ा पर एक ईमानदार फिल्म बनाने की वजह से? क्या इसलिए वे इस बात से खफा हैं कि सच सामने आ सकता है? सोशल मीडिया की कुरूप दुनिया ने बहुत से बुरे एलिमेंट्स को पावर दी है। इसके साथ हमारी चुप्पी उन्हें सफल होने की उम्मीद देती है। मेरी फिल्म द कश्मीर फाइल्स उस चुप्पी को तोड़ती है।”

अग्निहोत्री(Vivek Agnihotri) ने अपने फिल्म के विषय में बताते हुए लिखा कि “मैंने हमेशा भारत के दुश्मनों के खिलाफ बात की है। फिल्म में अमानवीय आतंकवाद को बेनकाब करने का एक प्रयास है, जिसने भारत की सबसे पवित्र भूमि शिव और सरस्वती को नष्ट कर दिया है और अब धार्मिक आतंकवाद भारत में पैठ बना रहा है। इसलिए वे चाहते हैं कि मेरे जैसे लोगों को चुप करा दिया जाए।”

साथ ही लिखा “मैं हमेशा उनके लिए बोलता हूं, जिनकी कोई सुनता नहीं है। मैं भारत विरोधी अर्बन नक्सलियों द्वारा कई असत्य का पर्दाफाश करता रहा हूं। वे मुझे चुप कराना चाहते हैं, लेकिन मैं अच्छी तरह जानता हूं कि चुप्पी कश्मीर नरसंहार जैसी दुखद घटनाओं में मदद करती है। उन्हें पता होना चाहिए कि मुझे चुप नहीं कराया जा सकता। मैं अपने सभी फॉलोवर्स और प्रशंसकों को उनके प्यार और समर्थन के लिए धन्यवाद देता हूं।”

यह भी पढ़ें: खालिस्तान के प्रधानमंत्री बनना चाहते थे केजरीवाल!

‘द कश्मीर फाइल्स’ एक सच्ची कहानी है, जो कश्मीरी पंडितों द्वारा अनुभव किए गए उत्पीड़न की पहली पीढ़ी के पीड़ितों के वीडियो साक्षात्कार पर आधारित है, जिसके कारण उनका पलायन हुआ। विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा लिखित और निर्देशित, पलायन नाटक में मिथुन चक्रवर्ती, अनुपम खेर, दर्शन कुमार, पल्लवी जोशी और चिन्मय मंडलेकर शामिल हैं। जी स्टूडियोज और तेज नारायण अग्रवाल, अभिषेक अग्रवाल, पल्लवी जोशी और विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा निर्मित ‘द कश्मीर फाइल्स’ 11 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है।

Source: आईएएनएस, Edited By: Shantanoo Mishra


भगवान राम और रामचरितमानस से क्यों डरते हैं लिब्रलधारी | liberals on ramayan | sita haran |ram mandir

youtu.be

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here