Thursday, May 13, 2021
Home दुनिया ट्रंप के खिलाफ ट्रायल में वारेन हेस्टिंग्स के महाभियोग का जिक्र

ट्रंप के खिलाफ ट्रायल में वारेन हेस्टिंग्स के महाभियोग का जिक्र

By: अरुल लुईस

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग ट्रायल के दौरान बंगाल के 18वीं शताब्दी के ब्रिटिश गवर्नर-जनरल वॉरेन हेस्टिंग्स का सीनेट में जिक्र किया गया, जब अभियोजन पक्ष ने ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स द्वारा उनके खिलाफ महाभियोग का हवाला दिया।

ट्रंप के महाभियोग ट्रायल की संवैधानिकता पर मंगलवार को बहस के दौरान, जब वह पहले ही पद छोड़ चुके हैं, प्रतिनिधि सभा के एक डेमोक्रेटिक सदस्य जेमी रस्किन, जो मुख्य अभियोजक हैं, ने हेस्टिंग्स के खिलाफ महाभियोग ट्रायल की मिसाल पेश की, जो हेस्टिंग्स के जवर्नर-जनरलशिप खत्म होने और इंग्लैंड लौटने के लगभग चार साल बाद 233 साल पहले इसी महीने उनके खिलाफ शुरू हुआ था।

रस्किन ने सुझाव दिया कि 1787 में हेस्टिंग्स महाभियोग अमेरिकी संविधान के निर्माताओं के लिए एक मॉडल था, जिन्होंने उसी वर्ष इसका मसौदा तैयार किया था।

उन्होंने कहा, “ऐसे कई लोगों पर महाभियोग चला, जिन्होंने संविधान के प्रारूपकारों के जीवनकाल में पद छोड़ दिया था और वास्तव में, इन महाभियोगों में से सबसे प्रसिद्ध तब हुआ, जब संविधान को लिखने के लिए फिलाडेल्फिया में निर्माता इकट्ठे हुए थे। यह बंगाल के ब्रिटिश उपनिवेश के पूर्व गवर्नर-जनरल वारेन हेस्टिंग्स का महाभियोग था।”

एक अन्य अभियोजक, डेमोक्रेटिक नेता जो नेग्यूज ने भी हेस्टिंग्स के महाभियोग का उल्लेख किया।

अमरीका में पूर्व राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग ट्रायल शुरू।(VOA)

ट्रंप के प्रमुख वकील ब्रूस कैस्टर ने कहा कि इसकी अमेरिका के लिए कोई प्रासंगिकता नहीं है। “हम ब्रिटिश प्रणाली को छोड़ चुके हैं।”

उन्होंने कहा कि यदि ब्रिटेन के इतिहास का उपयोग किया जाना है, तो सवाल यह है कि क्या “हमारे देश में एक संसद होनी चाहिए और हमारा राजा होना चाहिए?”

उन्होंने पूछा, “क्या ये वो चीज है जिसकी ओर हम जा रहे हैं?”

बचाव पक्ष के एक अन्य वकील डेविड स्कोन ने कहा कि संविधान के निमार्ताओं ने ब्रिटिश मॉडल को खारिज कर दिया था, जिसमें राजा को छोड़कर किसी के भी महाभियोग की अनुमति दी गई थी और इसे केवल उन लोगों तक सीमित कर दिया था, जो पद पर हो।

यह भी पढ़ें: पांच साल के लिए बढ़ा रूस और अमेरिका के बीच परमाणु करार

हेस्टिंग्स को अंतत: दोषमुक्त होने के आठ साल बाद 1795 में हाउस ऑफ लॉर्डस द्वारा बरी कर दिया गया था। उन पर भ्रष्टाचार, अधिकार का दुरुपयोग और दुर्व्यवहार और भारतीयों को अनुचित रूप से फांसी देने का आरोप लगा था।

ट्रायल की शुरुआत में, सीनेट को इस सवाल का जवाब ढूंढना था कि क्या ट्रंप पर पद छोड़ने के बाद महाभियोग चलाया जा सकता है।

अंतत: सीनेट में महाभियोग के पक्ष में 56 और विपक्ष में 44 वोट पड़े जो संविधान के तहत ट्रंप के पद छोड़ने के बाद भी उनके खिलाफ ट्रायल की अनुमति देता है।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी