Saturday, June 12, 2021
Home इतिहास बुंदेलखंड में दफन होते जल स्रोत

बुंदेलखंड में दफन होते जल स्रोत

बुंदेलखंड वह इलाका है जहां बुंदेला और चंदेल राजाओं के काल में हजारों जल संरचनाओं का निर्माण किया गया था। यही कारण रहा कि इस इलाके को कभी भी पानी के संकट के दौर से नहीं गुजरना पड़ा।

By: संदीप पौराणिक

देश में कभी बुंदेलखंड जल संरचनाओं के कारण पहचाना जाता था, मगर अब यही इलाका सूखा और जल अभाव क्षेत्र के तौर पर पहचाना जाने लगा है। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां के जल स्रोत धीरे-धीरे सिकुड़ते गए, दफन होते गए और बसावट का रूप ले लिया।

बुंदेलखंड वह इलाका है जहां बुंदेला और चंदेल राजाओं के काल में हजारों जल संरचनाओं का निर्माण किया गया था। यही कारण रहा कि इस इलाके को कभी भी पानी के संकट के दौर से नहीं गुजरना पड़ा। मगर वक्त गुजरने के साथ हालात बदले और एक तरफ जहां जल संरचनाएं सिमटती गई, वहीं उन्हें दफन करने का भी दौर चलता रहा। परिणाम स्वरुप यह इलाका सूखा और जल संकट में घिरने लगा।

जल संकट और पानी की समस्या

हाल ही में एक नया उदाहरण सामने आ रहा है और वह है विश्व स्तरीय पर्यटन स्थल खजुराहो से जुड़ा हुआ, यहां कभी पायल वाटिका में एक छोटी जल संरचना हुआ करती थी। पायल वाटिका वह स्थान है जो इस नगर के बीचो-बीच और आम लोगों की नजरों में रहने वाला है। उसके बावजूद यहां की जल संरचना को बीते सालों में दफन किया जा चुका है। लोगों ने इसे दफन होते देखा मगर किसी ने कुछ नहीं कहा। अब यहां के लोगों का दर्द सामने आने लगा है और वे सवाल उठाने लगे हैं कि आखिर इन जल संरचनाओं को इस तरह से दफन क्यों किया जाता है।

बुंदेलखंड के राजनीतिक विश्लेषक और जानकार रवींद्र व्यास का कहना है कि बुंदेलखंड में पानी की समस्या होगी, यह बुजुर्गों ने कभी नहीं सोचा होगा। मगर वर्तमान हालात यहां के एकदम उलट हैं। इस इलाके में जल संकट को निपटाने के लिए सरकारों ने और सामाजिक संगठनों ने करोड़ों रुपए खर्च कर दिए, मगर स्थितियां नहीं बदली। जल संरचनाएं सुधारने से लेकर नई जल रचनाएं बनाने का दौर चला, मगर उसका लाभ आमजन को नहीं हुआ। उसका लाभ हुआ तो उन ठेकेदारों को जो इन जल संरचनाओं को सुधारने और बनाने का काम अपने हाथ में लेते हैं।

यह भी पढ़े : टीपू सुल्तान का मंदिर उपहार देने के पीछे का ‘छुपाया गया’ सच

अभियान में आमजन की हिस्सेदारी

इस क्षेत्र के लोगों का मानना है कि जिस अभियान में आमजन की हिस्सेदारी रही वह तो मूर्तरुप ले गई, मगर जिसमें धनराषि सरकार या अन्य माध्यम से आवंटित की गई और काम किसी खास वर्ग के हाथ में सौंपा गया तो उसका हाल आम निर्माण कार्यों जैसा हो गया। पन्ना उदाहरण है जहां धर्म सागर तालाब के लिए स्थानीय लोगों ने अभियान चलाया, करोड़ो रुपये इकटठा कर तालाब की सूरत ही बदल दी।

बुंदेलखंड के जल विशेषज्ञ के.एस. तिवारी का कहना है कि बुंदेलखंड का दुर्भाग्य है कि लोगों ने इस क्षेत्र को सिर्फ लूट का साधन बनाया। जमीनखोरों ने इस इलाके की संपन्नता के प्रतीक जलसंरचनाओं केा निशाना बनाया। यही कारण रहा कि धीरे-धीरे जल संरचनाएं सिकुड़ती गई, उन पर लोगों ने कब्जा कर इमारतें बना डाली। जल संरचनाओं की मरम्मत से लेकर उन्हें बनाने के लिए आई रकम की बंदरबांट हो गई। जरुरत इस बात की है कि जल संरचनाओं का सीमांकन किया जाए और अवैध कब्जों के खिलाफ मुहिम चले। यह तभी संभव है जब प्रशासनिक और राजनीतिक इच्छाशक्ति हो।

बुंदेलखंड वह इलाका है जिसमें उत्तर प्रदेश के सात और मध्य प्रदेश के सात जिले आते हैं। कुल मिलाकर 14 जिलों में फैला है बुंदेलखंड। इस क्षेत्र से रोजगार की तलाश में हर साल लाखों परिवार पलायन करते हैं। खेती के लिए पर्याप्त पानी नहीं मिलता, परिणामस्वरुप सूखा यहां की नीयति बन गया है। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी