Tuesday, December 1, 2020
Home ओपिनियन यथार्थ से अवगत कराने वालों को पाखंड ने पीछे ढकेल दिया

यथार्थ से अवगत कराने वालों को पाखंड ने पीछे ढकेल दिया

आज पर सवाल उठाने वाले कई हैं किन्तु जो सटीक जवाब दे-दे ऐसा कोई नही। क्यों पाखंड को नया धर्म बनाया जा रहा है? और वह कौन हैं जिनके इशारों पर आतंकियों को नायक बताया जा रहा है?

शिक्षा प्राप्त करने वालों की न तो कोई आयु होती है और न ही कोई धर्म, किन्तु आज शिक्षा देने वाले का धर्म भी देखा जाता और साथ ही साथ उसके पाखंड को भी अपनाया जाता है। आज कुछ गिने-चुने शिक्षक ही स्वेछा और निःस्वार्थ भाव से शिक्षा को दूसरों तक पहुंचाते होंगे, अन्यथा आज की दौड़ केवल नोटों पर जाकर ही थमती है। कुछ महापुरुष ही होंगे जो अपने ज्ञान का प्रसार-प्रचार मुफ्त में और बिना किसी ढोंग करते होंगे।

आज की विडंबना यह है कि जिस बाबा का गला सोने के श्रृंगार से भरा हुआ है और जो सोने के सिंघासन पर बैठकर रटी-रटाई बातों को ज्ञान कह कर दूसरों में बाँट रहा है, उसे लोग महात्मा कहते हैं। और जो केवल दो जोड़ी वस्त्र में शास्त्रों का ज्ञान रखता है उन्हें हम जोगी कह कर दूर कर देते हैं। अब हाल यह है कि हाथ की सफाई को लोग भगवान की कृपा मानते हैं और तो और किसी के झूठे लड्डू को प्रसाद समझ ग्रहण भी करते हैं।

किसी की आस्था या श्रद्धा पर प्रश्न खड़ा करना सरासर गैर-क़ानूनी होगा, किन्तु अंधभक्ति और पाखंड को बढ़ावा देना यह कहाँ तक उचित है? हम एक ऐसे युग में हैं जहाँ आधुनिकरण और नवीकरण अपने चरम पर है, और हर कई इसका हिस्सा बनना चाहता है। किन्तु इन सब बातों में हम अपने अहम सिद्धांतों को ताक पर तो नहीं रख रहे? वामपंथी विचारों में ज़्यादा ओझल तो नहीं हो रहे?

यह भी पढ़ें: भाषा का ज्ञान होना ज़रूरी है, किसी संप्रदाय से जोड़ना नहीं…

यह सवाल इसलिए है कि आज की युवा पीढ़ी में विरोधाभास ज्यादा बढ़ चुका है, संत महात्मा ही नहीं शास्त्रों और ग्रंथों पर भी सवाल उठाया जा रहा है। राम को मिथ्या और अफ़ज़ल गुरु को नायक बता रहा है। देश के प्रख्यात विश्वविद्यालयों में नक्सली सोच का प्रसार-प्रचार हो रहा है। रूढ़िवादी इतिहासकारों द्वारा भारत के इतिहास को मिटाया जा रहा है और हमे उनका गुण-गान करने के लिए कह रहा है जिन्होंने सिर्फ और सिर्फ इस देश को लूटा है।

हम सबको इस सोच और विचारधारा से बचने की ज़रूरत है, हमे अपने आधार को पुनः मजबूत करने की आवश्यकता है और यह किताबों के ज्ञान से या आपस में बात-चीत से नहीं होगा। इस चेतना को हमें जन-जन तक पहुँचाना है। भावी-भविष्य को अपने धर्म और इतिहास से जुड़े तथ्यों पर से झूठ का आवरण उतार कर फेकना है। तभी सही सवाल उठेंगे और उसका जवाब देने वाले महापुरुष जन्मेंगे।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
174FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी