Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

पश्चिमी मीडिया, भारतीय महामारी के घावों पर क्रूरता से नमक छिड़क रही हैं।

पश्चिमी मीडिया रिपोर्टो ने भारत की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है| जिस वजह से कुछ विद्वान और टिप्पणीकार पश्चिमी मीडिया से बेहद असंतुष्ट हैं।

भारत में महामारी पर पश्चिमी मीडिया की अतिरंजित रिपोटरें के जवाब में, भारतीय समाज में विरोध जारी है। (सांकेतिक चित्र, Pexels)

भारतीय मीडिया (Indian Media) के कुछ लोग हमेशा पश्चिमी मीडिया (Western Media) के खुलेपन की प्रशंसा करते रहे हैं, लेकिन पश्चिमी मीडिया द्वारा भारतीय महामारी के प्रति की गईं हालिया रिपोर्टों ने भारतीय लोगों को गुस्से में डाल दिया है। भारत में कुछ विद्वान और टिप्पणीकार पश्चिमी मीडिया में भारतीय महामारी की त्रासद स्थिति की जबरदस्त प्रस्तुति से बेहद असंतुष्ट हैं। जो बात उन्हें विशेष रूप से गुस्सा दिलाती है वह यह है कि पश्चिमी मीडिया वाले न केवल आईसीयू में कैमरे ले गए, बल्कि श्मशान घाटों के क्लोज-अप शॉट्स भी लिए और आक्रामक व्यक्तिगत गोपनीयता और गरिमा की जो ये चीजें हैं, वे अपने देश में रिपोर्टिग करते समय नहीं करेंगे।

बीबीसी भारत में तैनात सबसे बड़ा विदेशी मीडिया है, जिसके भारत में 1,000 से अधिक पत्रकार और कर्मचारी हैं। बीबीसी ने हाल ही में भारत के ‘शहर लॉकडाउन’, ‘वैक्सीन की कमी’ और ‘चिकित्सा सहायता के वितरण में भ्रष्टाचार’ आदि पर खूब रिपोर्टिग की है। जिसका इशारा महामारी से लड़ने में भारत सरकार की अक्षमता को बताना है। गंगा (Ganga) नदी के तट पर श्मशान घाट पर सीएनएन की रिपोर्ट ने ‘पूरी दुनिया को भारतीय महामारी का सबसे क्रूर दृश्य दिखाया है।’


उधर अमेरिका (America) के ‘टाइम’, ‘वाशिंगटन पोस्ट’ और अन्य मीडिया ने यह भी कहा कि भारत में महामारी के नवीनतम प्रकोप की जिम्मेदारी, सरकार की वैक्सीन कूटनीति का परिणाम है, क्योंकि उसने सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रबंधन को मजबूत करने के लिए कोई उपाय नहीं किया है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ‘द लैंसेट’ ने 8 मई को एक संपादकीय प्रकाशित किया, जिसमें कहा गया कि अगर भारत में 1 अगस्त तक कोरोना से 10 लाख लोगों की मौत हुई, तो वर्तमान सरकार को आपदा की जिम्मेदारी लेनी होगी।

भारत में महामारी पर पश्चिमी मीडिया की अतिरंजित रिपोटरें के जवाब में, भारतीय समाज में विरोध जारी है। कुछ भारतीय मीडिया ने टिप्पणी की कि पश्चिमी मीडिया रिपोर्टो ने भारत की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है, जबकि कुछ भारतीय सरकारी अधिकारियों ने बताया कि पश्चिमी मीडिया अपने देश में महामारी के दुखद दृश्यों की रिपोर्ट करते समय अधिक सतर्क है। यह भारत के प्रति पश्चिमी मीडिया के अहंकार को दर्शाता है।

पश्चिमी मीडिया घरेलू रिपोर्ट करता है, तो उन्हें घरेलू राजनीति के प्रभाव को ध्यान में रखना चाहिए। (सांकेतिक चित्र, Pexels)

भारत के नीति अनुसंधान केंद्र के प्रसिद्ध टिप्पणीकार ब्रह्म चेलानी ने लिखा है कि सामाजिक त्रासदियों की रिपोर्ट करते समय मीडिया को पीड़ितों की भावनाओं को ध्यान में रखना चाहिए। पश्चिमी मीडिया आम तौर पर अपने देश में इस नियम का सख्ती से पालन करता है, लेकिन गैर-पश्चिमी समाज पर रिपोर्टिग करते समय उन्हें कोई संकोच नहीं होता है।

उल्लेखनीय है कि जब पश्चिमी मीडिया घरेलू रिपोर्ट करता है, तो उन्हें घरेलू राजनीति के प्रभाव को ध्यान में रखना चाहिए। हालांकि, भारत में महामारी की रिपोर्ट करते समय उन्हें किसी भी सामाजिक वास्तविकता पर विचार करने की आवश्यकता नहीं है। ऐसी परिस्थितियों में, भारतीय समाज और पश्चिमी मीडिया के बीच संघर्ष ने ध्यान आकर्षित करना शुरू कर दिया।

उदाहरण के लिए, भारतीय पुलिस ने हाल ही में भारत में ‘ट्विटर’ के कार्यालयों की जांच की। इसका कारण यह था कि भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता के खाते को ‘कंट्रोल्ड मीडिया’ के रूप में चिह्न्ति किया गया। पिछले महीने, भारत सरकार ने भी ट्विटर और फेसबुक को महामारी से मोदी सरकार के अप्रभावी संचालन की आलोचना करने वाले पोस्ट हटाने के लिए कहा। इन घटनाओं ने पश्चिमी मीडिया की आलोचना भी शुरू कर दी है कि “भारत सरकार छवियों को बचाने पर ध्यान केंद्रित करती है, लेकिन जीवन नहीं।”

यह भी पढ़ें :- कोविड-19 वेरिएंट को ग्रीक वर्णमाला के नाम दिए जाएंगे: डब्ल्यूएचओ

पश्चिमी मीडिया का भारत में अत्यधिक प्रभाव रहा है, और सामान्य भारतीय नेटिजन्स पूरी तरह से ‘फेसबुक’ और ‘ट्विटर’ जैसे पश्चिमी सोशल मीडिया पर निर्भर रहे हैं। लेकिन जब भी कोई बड़ा बदलाव होता है, तो पश्चिमी मीडिया कभी भी भारतीय लोगों की भावनाओं और गरिमा पर विचार नहीं करता है। एक विकासशील देश और एक उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में, भारत को अपनी छवि और अधिकार बनाए रखना चाहिए, जो कि देश के सुचारु शासन के लिए एक पूर्वापेक्षा भी है।

इंटरनेट के युग में, अफवाहें और झूठी खबरें सरकार में लोगों के विश्वास को गंभीर रूप से कमजोर कर देंगी, सामाजिक दहशत को बढ़ा देंगी, और अधिक अशांति और आपदाएं पैदा करेंगी। इसी दृष्टि से पश्चिमी मीडिया की तथाकथित ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ रिपोर्टे भारतीय महामारी के घावों पर क्रूरता से नमक छिड़क रही हैं।

(साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग) (आईएएनएस-SM)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less