Saturday, June 12, 2021
Home ओपिनियन "अल्पसंख्यक का रोना रोने वाले अल्पसंख्यक नहीं"

“अल्पसंख्यक का रोना रोने वाले अल्पसंख्यक नहीं”

आज हमें न तो अल्पसंख्यक का मतलब पता है और न ही उसके मापदंड की खबर है। जिस वजह से देश में आज तक आरक्षण लागू है। और अगर उस पर कोई सवाल उठाए उदारवादी लोग नोच खाने को दौड़ते हैं।

अल्पसंख्यक या माइनॉरिटी यह शब्द आय-दिन ख़बरों में पढ़ी या सुनी जाती हैं। किन्तु क्या हमें अल्पसंख्यक होने असल मतलब ज्ञात है? अगर हिन्दू को बहुसंख्यक बताया जा रहा है तो क्यों साल दर साल उनकी जनसँख्या में कटौती हो रही है? आज वही अल्पसंख्यक सरकारी फायदा और आरक्षण का लुफ्त तो उठा रहें हैं, किन्तु वह बेरोज़गारी और विश्वविद्यालयों में सीट कम होने का विलाप भी करते हैं और सरकार की व्यवस्था को कोसते हैं?

यह सभी सवाल शुरुआत में इसलिए पूछे गए हैं क्योंकि अंत में आप हमें किसी पंथ या संप्रदाय का ठेकेदार न बता दें। आज यह काम कई लोग कर रहें हैं। गोदी मिडिया, भगवा आतंकवाद, इस्लामोफोबिया यह सभी शब्द इन्ही विक्रेताओं और तथाकथित धर्मनिरपेक्ष लोगों की ही देन है। लिबरल यानि उदार सोच रखने वाले व्यक्तित्व के सामने जब कोई आरक्षण और अल्पसंख्यक का मुद्दा उठाता है तो उन्हें केवल एक ही तबके पर कटाक्ष करने की सूझती है और हम उसे उदारवादी सोच मान लेते हैं। विद्यालयों में हिंदी भाषा बोलना वर्जित है किन्तु कविता उर्दू शब्द के बिना नही लिखा जा सकता, कोई कहता है उर्दू जैसी मधुर और कोई भाषा नहीं, किन्तु उन्हें न तो उर्दू लिखना आता है और न ही पढ़ना। ग़ालिब की शायरियों से जो दो शब्द सीखे उसी इन सबकी उर्दू का शब्दकोश भर जाता है।

साल 2011 तक की जनगणना पर अगर हम नज़र दौड़ाएंगे तो एक न एक बार आपको भी ताज्जुब होगा कि हर 10 साल में हिन्दुओं की जनसंख्या 84.1% से 79.8% पर आ गई है। वहीं इस्लाम में हर 10 साल में वृद्धि हुई है। ईसाई धर्म जैसे का तैसा है 2.3% पर, सिख धर्म की जनसंख्या में भी कटौती आई है जो कि अब 1.72% है। गौर करने वाली बात यह है कि जो अन्य श्रेणी में आए हुए धर्म हैं उनमे तेजी से वृद्धि हुई है।

धर्म श्रेणी1951 %1961 %1971 %1981 %1991 %2001 %2011 % 
हिन्दू84.1%83.45%82.73%82.3%81.53%80.46%79.8%
इस्लाम9.8%10.69%11.21%11.75%12.61%13.43%14.23%
इसाई2.3%2.44%2.6%2.44%2.32%2.34%2.3%
सिख1.79%1.79%1.89%1.92%1.94%1.87%1.72%
अन्य0.43%0.43%0.41%0.42%0.44%0.72%0.9%
बौद्ध0.74%0.74%0.7%0.7%0.77%0.77%0.7%
जैन0.46%0.46%0.48%0.47%0.4%0.41%0.37%

उपरिलिखित सूची से आप यह अंदाज़ा लगा सकते हो कि किस तरह एक धर्म हर 10 साल में लगभग 10 गुना बढ़ रहा है। यह सभी आंकड़ें सरकारी हैं। देश आज़ाद होने के 1951 में पहली जनगणना की गई। हालाँकि बटवारे के कारण सीमाओं का बटवारा और जनता से अपने घर का बटवारा हुआ। लेकिन आश्चर्य इस बात की है कि आज़ादी के बाद सभी धर्मों की जनसंख्या में कटौती हुई और घटना बढ़ना हुआ। किन्तु हिन्दू धर्म लगातार घटना और इस्लाम लगातार बढ़ना एक संदेह को उत्पन्न कर रहा है। वह यह सवाल उठाने पर मजबूर कर रहा है कि क्या लव-जिहाद को इसी सरकार ने गंभीरता से लिया है? क्या धर्मपरिवर्तन जैसे गंभीर मुद्दों को बरगलाया गया है?

इस्लाम_NewsGram Hindi
इस्लाम धर्म की जनसंख्या साल दर साल दर साल वृद्धि हो रही है।(Pixabay)

एक देश में इस्लाम धर्म का 14.23% होना यह ठोक कर बता रहा है कि अल्पसंख्यक का पत्ता सिर्फ वोटों के लिए खेला जा रहा है। आरक्षण को कब का ख़त्म कर दिया गया होता, अगर राजनीति और वोटों को मोह न होता।

भारतीय जनता पार्टी के उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने अब कहा है कि “पाकिस्तान की तुलना में भारत में मुस्लिम आबादी अधिक है, इसलिए मुसलमानों के अल्पसंख्यक दर्जे को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दिया जाना चाहिए। मुसलमानों को अब खुद को हिंदुओं का छोटा भाई-बहन समझना चाहिए और देश में उनके साथ रहना चाहिए।”

यह भी पढ़ें: ‘हिन्दू टेरर’ यह शब्द क्या कहता है?

साक्षी महाराज के इस बयान पर विवाद होना तय है किन्तु इस बात को झुटला भी नहीं सकते की जिस देश की 96.5 मुसलमान है उसकी तुलना भारत में रह रहे मुसलमान संख्या में अधिक हैं। तो यह अल्पसंख्यक का रोना क्यों?

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी