Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

सुशील मोदी का जाना, शाहनवाज का बिहार आना- क्या हैं राजनीतिक मायने!

By – मनोज पाठक पिछले वर्ष विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लगातार अपनी रणनीति में बदलाव कर रही है। ऐसे में एक बार फिर केंद्रीय मंत्री का दायित्व संभाल चुके शाहनवाज हुसैन को भाजपा ने विधान परिषद का प्रत्याशी घोषित कर सबको चौंका दिया। भाजपा के

By – मनोज पाठक

पिछले वर्ष विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लगातार अपनी रणनीति में बदलाव कर रही है। ऐसे में एक बार फिर केंद्रीय मंत्री का दायित्व संभाल चुके शाहनवाज हुसैन को भाजपा ने विधान परिषद का प्रत्याशी घोषित कर सबको चौंका दिया। भाजपा के इस कदम को लेकर अब दूरगामी तैयारी के संकेत मिल रहे हैं।


इससे पहले बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को राज्यसभा भेजकर और तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी को उपमुख्यमंत्री का दायित्व सौंपा गया है। भाजपा में रहते हुए मोदी की पहचान नीतीश कुमार के समर्थक के रूप में रही है। भाजपा के सूत्र भी मानते हैं कि भाजपा बिहार में राजग के सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बाद किसी भी हाल में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साये से बाहर निकलना चाह रही है, ऐसे में जहां ,सुशील मोदी को राज्यसभा भेज दिया गया वहीं पार्टी में मुस्लिम चेहरा शाहनवाज हुसैन को बिहार विधान परिषद में भेजने की रणनीति बनाई गई।

यह भी पढ़ें – नितीश कुमार के चश्मे से देखिए राजगीर के वेणुवन और घोड़ाकटोरा पार्क की सुंदरता

नितीश कुमार के ऊपर दबाव

राजनीतिक जानकारों की भी मानें तो भाजपा ने शाहनवाज की बिहार की राजनीति में एंट्री करवा कर एक दूरगामी दांव खेला है। भाजपा इस बदलाव के जरिए भविष्य की रणनीति तैयार कर रही है। भाजपा के इस बदलाव के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर एक दबाव के तौर पर भी माना जा रहा है।

भाजपा बिहार में इन बदलावों के जरिए सत्ता का भविष्य बुन रही है। (Wikimedia Commons)

राजनीतिक समीक्षक और बीबीसी के संवाददाता रहे मणिकांत ठाकुर कहते हैं, भाजपा बिहार में इन बदलावों के जरिए सत्ता का भविष्य बुन रही है। भविष्य को लेकर वह राजग के घटक दलों को भी यह संदेश दे रही है वह अब अब आगे बढकर राजनीति करेगी। ठाकुर हालांकि यह भी कहते हैं कि अतिरेक उत्साह में इस बदलाव को अंतिम मान लेना भी अभी सही नहीं है, अभी आगे और कुछ देखने को मिल सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा ने नीतीश कुमार को भी इन बदलावों से यह संदेश दे दिया है कि वे या तो भाजपा से सहमत हों या केंद्र में बड़ा पद ले लें। इसके अलावा भाजपा उन्हें कड़ा संदेश भी दे रही है।

यह भी पढ़ें – तो क्या सिंधिया और तोमर में बढ़ रही है दूरी?

बिहार की राजनीति में भाजपा ‘फ्रंट फुट’ पर

इधर, भाजपा के नेता इस पर कुछ भी खुलकर नहीं बोल रहे हैं। भाजपा के एक नेता नाम नहीं प्रकाशित करने की शर्त पर कहते हैं कि भाजपा ने अब ‘फ्रंट फुट’ पर बिहार की राजनीति करने का मन बना लिया है। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि भाजपा एक ओर जहां बिहार में शाहनवाज हुसैन को मुस्लिम चेहरा के रूप में प्रोजेक्ट कर सीमांचल में अपनी पकड़ मजबूत करने की योजना पर काम कर रही है वहीं राजद के मुस्लिम वोट बैंक में भी सेंध लगाने की जुगत में है। कहा जा रहा है कि शाहनवाज हुसैन के आने से बिहार में भाजपा को मजबूती मिलेगी तथा मुस्लिम समुदाय में अच्छा संदेश भी जाएगा। शाहनवाज की छवि युवा, तेजतर्रार और भरोसेमंद नेता की है।

इधर, भाजपा के प्रवक्ता निखिल आनंद भी कहते हैं कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व जो भी निर्णय लेता है उसे पार्टी के नेता और कार्यकर्ता सहर्ष स्वीकार करते हैं। यह फैसला भी पार्टी नेतृत्व का है। (आईएएनएस)

Popular

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (File Photo)

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री(Ravi Shastri) ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और 'पिछले पांच वर्षो में फॉर्मेट के राजदूत' होने के लिए प्रशंसा की। मुंबई(Mumbai) में सीरीज के फाइनल में विश्व टेस्ट चैंपियंस(WTC) पर 372 रन की जीत के बाद न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।


Keep Reading Show less

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep reading... Show less