Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

आखिर कौन है हिन्दू?

सवाल यह नहीं है कि हिन्दू को बदनाम किया जाने वाला षड्यंत्र कब तक चलेगा, अब सवाल यह आवश्यक है कि कितने हिन्दू अपनी संस्कृति के खिलाफ बोलने वालों को जवाब देने में सक्षम हैं?

(NewsGram Hindi)

आज देश-भर में हिन्दू संगठन ‘हिन्दू साम्राज्य दिवस’ पर कई प्रकार के आयोजन कर रहे हैं। आज के ही दिन हिन्दू हृदय सम्राट एवं मराठा शेर छत्रपति शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक किया गया था और इसी प्रकार से हिन्दू सम्राज्य की रक्षा के लिए भारत को एक पिता स्वरूप राजा मिला था। जिन्होंने ने मुगलिया दौर में न केवल हिन्दू साम्राज्य का विस्तार किया साथ ही एक ऐसे अभेद दीवार की भांति मुगलों के सामने खड़े हुए कि आज भी उनके शौर्य और शासन को याद किया जाता है। किन्तु आज के दौर में जहाँ उदारवादी और एक विशेष धर्म को खुश करने की कोशिश चल रही है उसमें हिन्दू कहाँ है? साथ ही आज हिन्दू कौन है?

यह प्रश्न है तो विस्तृत किन्तु इसे आज के आधुनिक लिब्रलधारियों और कट्टरवादियों ने एक शब्द में समेट दिया है और वह शब्द है ‘संघी’। यदि एक विशेष धर्म का व्यक्ति अपने धर्म का गलत तरीके से भी प्रचार कर रहा है तो उसके लिए यही लिब्रलधारी वाह! वाह! करते हैं, किन्तु यदि कोई योगी लाखों जीवन को बचाने वाली आयुर्वेदिक पद्धतियों का प्रचार करता है और योग का प्रचार करता है तो उसे अजेंडे से जोड़ दिया जाता है। साथ ही उनके लिए एक ऐसा षड्यंत्र रचा जाता है जिससे देश के नव-युवकों में भ्रम की स्थिति पैदा हो जाए और वह भी उस षड्यंत्र का हिस्सा बन जाए। आपको याद होगा कि कांग्रेस पार्टी के नेता अभिषेक सिंघवी ने योग पर एक विवादित ट्वीट किया था और योग को धर्म से जोड़ने का प्रयास किया था। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था कि “ॐ उच्चारण से न तो योग ज्यादा शक्तिशाली हो जाएगा और ना अल्लाह कहने से योग की शक्ति कम होगी।”


किन्तु अब, सवाल यह नहीं है कि हिन्दू को बदनाम किया जाने वाला षड्यंत्र कब तक चलेगा, अब सवाल यह आवश्यक है कि कितने हिन्दू अपनी संस्कृति के खिलाफ बोलने वालों को जवाब देने में सक्षम हैं? और,

आखिर हिन्दू है कौन?

हिन्दू धर्म सनातन एवं सद्भाव में विश्वास रखने वाली सभ्यता है। आप इतिहास का कोई भी पन्ना पलटकर देख लीजिए, किसी भी हिन्दू शासक या सेना ने पहले आक्रमण नहीं किया था और न ही आज किया जाता है। दंगों में सबसे पहला हाथ किस समुदाय का रहता है, वह भी जग-जाहिर है। हिन्दू वह सभ्यता है जिसने यह कहा है कि आप किसी भी रूप से भगवान का ध्यान कीजिए अंततः कल्याण आपका ही होगा। कई हिन्दू विद्वानों ने जिनमें अधिकांश संत या ऋषि हैं, विश्व को सद्मार्ग पर चलने का रास्ता दिखाया है। सद्गुरु आदि शंकराचार्य, रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, स्वामी दयानंद सरस्वती ऐसे कई संत महात्मा थे और आज भी ऐसे कई महात्मा हैं जिनके विचार सनातन एवं हिंदुत्व को स्पष्ट रूप से समझने में मदद कर रहे हैं। आज के विकट समय में कई हिन्दू संगठन लोगों की मदद करने के लिए सामने आए हैं, अनेकों मंदिरों ने अपनी क्षमता से बढ़कर इस महामारी से लड़ने के लिए दान दिया है। सनातन धर्म ने दान को इतने सुंदर रूप से समझाया है कि आप भी दंग रह जाएंगे “बोधयन्ति न याचन्ते भिक्षाद्वारा गृहे गृहे ।दीयतां दीयतां नित्यं अदातु: फलमीदृशम् ॥” इस श्लोक का अर्थ है ‘भिक्षुक सबके घर पर केवल भिक्षा माँगने नहीं आते हैं, वह हमे ज्ञान देते हैं कि दे दो! दे दो! न देने का फल मेरे जैसा होगा। इस जन्म मे नहीं दिया तो अगले जन्म मे जरुर मेरी तरह भिक्षा माँगनी पड़ेगी।’

अधिकांश लिब्रलधारियों को इस श्लोक में नकारात्मकता दिखाई देगी किन्तु जो व्यक्ति बुद्धिमान होगा वह इसके गूढ़ अर्थ को समझ जाएगा। हिन्दू धर्म ही केवल धर्म है जो नदियों की, सूर्य की, वायु एवं अग्नि की पूजा करता है। क्योंकि यही वह तत्व हैं जिनसे जीवन अधिक सरलता से आगे बढ़ती है। हिन्दू संस्कार में महिलाओं को देवी का स्थान प्राप्त है। हमारी संस्कृति में हिमालय की चोटी पर विराजमान आदियोगी शिव को भी पूजा जाता है और क्षीर सागर में विराजे सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु को भी। हिन्दू धर्म ही एक धर्म है जहाँ आपको आस्था को भी चयन करने अवसर प्राप्त होता है। आप शिव में आस्था रखते हैं तो भी भक्त कहलाते हैं और श्री राम में आस्था रखते हैं तो भी भक्त कहलाते हैं, न तो कोई आपकी आस्था पर प्रश्न खड़ा करता है और न ही किसी और भगवान पर आस्था रखने के लिए आप पर हिंसक रूप से दबाव बनाया जाता है।

हिन्दू धर्म ही केवल धर्म है जो नदियों की, सूर्य की, वायु एवं अग्नि की पूजा करता है।(Pixabay)

यह भी पढ़ें: क्यों भगवान राम और कृष्ण को नीले रंग में वर्णित किया गया है?

क्या हिन्दू बदनाम करने वालों को जवाब देने में सक्षम हैं?

आज के समय में कई संगठन ऐसे हैं जिन्होंने जवाब देने का जिम्मा अपने सर उठाया है और वह बिना किसी लालच के यह काम भी कर रहे हैं। किन्तु समस्या तब उत्पन्न होती है जब बाहरी ताकत मिलकर उन्हें बदनाम करने की या सोशल मीडिया पर उन्हें छुपाने की साजिश रचती है। यह दोहरा चरित्र तब नहीं अपनाया जाता है जब देश विरोधी शरजील उस्मानी के पोस्ट धड़ल्ले से चलाया जाता है, किन्तु जो हिन्दुओं की बात करे उसके पोस्ट को डीएक्टिवेट कर दिया जाता। बहरहाल हिन्दू जवाब देने में सक्षम हैं या नहीं यह उनके ज्ञान पर निर्भर करता है और ज्ञान केवल पोथी पढ़ने से नहीं आएगा, ज्ञान समझने से और जड़ तक खुदको मजबूत करने से आएगा। साथ ही तथ्यविहीन बातों से फायदा नहीं नुकसान ही होगा। इसलिए कुछ ऐसे वक्ताओं को सुनिए जिनके तर्कों में तथ्य हैं और उन्हें सुनिए जो हिन्दू रक्षा पर तर्क सहित बात करते हैं।

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less