Sunday, January 24, 2021
Home इतिहास ताज महल मुगलिया है या प्राचीन भारत की नायाब नक्काशी, प्रोफ. मार्विन...

ताज महल मुगलिया है या प्राचीन भारत की नायाब नक्काशी, प्रोफ. मार्विन मिल द्वारा दिए गए तर्क पर ध्यान दें!

ताज का निर्माण किसने करवाया यह तो हम सबको पता है, किन्तु प्रोफेसर मर्विन मिल्स ने कुछ ऐसे तथ्य सामने रखें हैं जिस से इतिहास पर पुनः पड़ताल की जरूरत है।

‘ताज महल’ अतुल्नीय भारत का एक नायाब नमूना है। इतिहास के जानकारों एवं किताबों में बताया जाता है कि Taj Mahal का निर्माण मुग़ल बादशाह शाहजहाँ के द्वारा करवाया गया था। किन्तु कुछ आवाज़ें यह भी कहती सुनाई दे जातीं हैं कि इसका निर्माण प्राचीन भारत के हिन्दू राजा ने करवाया था। अब जो अंग्रेजी इतिहासकारों ने लिखा उसी को आज तक हमे पढ़ाया जाता है या सुनाया जाता है।

किन्तु एडिसन बेग्ले एवं ज़ियाउद-दिन अहमद देसाई द्वारा लिखी किताब ‘TAJ MAHAL-THE ILLUMINED TOMB’ में कुछ रोचक तथ्य सामने निकल कर आए हैं, जिन पर प्रकाश Prof. Marvin Mills ने डाला है। Prof. Marvin Mills ने कुछ ऐसी बातें ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ में प्रकाशित अपने लेख में बताईं जिनपर शायद ही किसी का उस समय तक ध्यान गया हो। Prof. Marvin Mills ने सबसे पहले शाहजहाँ और मुमताज़ की मृत्यु पर ध्यान केंद्रित किया। जिसमे वह बताते हैं कि राजा जय सिंह से सौदा किए गए जमीन के दस्तावेजों और इतिहास के अनुसार मुमताज़ की मृत्यु हुई जून 1631 बुरहानपुर में, दो साल बाद जनवरी 1632 में मुमताज़ की कब्र को दुबारा ताज के जमीन के समीप पुनः दफनाया गया। यूरोपीय यात्री पीटर मुंडी 11 जून, 1632 को शाहजहाँ की आगरा वापसी के गवाही बने।

पहला फ़रमान 20 सितंबर, 1632 को जारी किया गया था जिसमें बादशाह ने राजा जय सिंह से मक़बरे की आंतरिक दीवारों, यानी ताज की मुख्य इमारत के आंतरिक दीवारों के सामने संगमरमर की लदान में तेजी लाने का आग्रह किया था। खैर इससे यह साफ दिख रहा है कि शाहजहाँ Taj Mahal के निर्माण में कितना घिरा हुआ है। किन्तु ध्यान देने वाली यह बात है कि मुमताज़ की बहुत काम उम्र में मृत्यु हुई और वह भी अचानक। मुमताज़ एवं शाहजहाँ के 13 बच्चों पर से माँ का साया उठ गया था। तो क्या इतने बड़े सदमे में जमीन की खरीद के काम में तेज़ी की बात कभी कैसे आ सकती है?

प्रोफेसर लिखते हैं कि उसे(शाहजहाँ) इतने बड़े सदमे के बीच विश्व स्तर के मकबरे और अपनी प्यार की निशानी पर ध्यान लगाना था। एक वास्तुकार का चयन करना(जो अभी भी किसी को नहीं पता), उसके साथ बनावट पर योजना बनाना, सभी ठेकेदारों और हजारों श्रमिकों को व्यवस्थित करना, और एक जटिल निर्माण कार्यक्रम तैयार करना। रहस्यमय रूप से, इस पुरे जटिल प्रक्रिया से संबंधित कोई भी दस्तावेज, चार फरमानों के अलावा नहीं बचा है या शायद है ही नहीं।

NewsGram Hindi Taj Mahal ताज महल
क्या ताज महल के निर्माण में शाहजहाँ ने हिस्सा लिया था?(Pixabay)

खैर, Prof. Marvin Mills के अनुसार शाहजहाँ ने अपने प्रिय मुमताज़ की मृत्यु के बाद इस परियोजना पर काम करना शुरू किया होगा, किन्तु एक वास्तुकार के नजरिए से इसे देखा जाए तो ऐसे किसी परियोजना पर योजना और साधन एकत्र करते-करते लगभग एक साल लग जाते हैं। जिसका मतलब कि जून 1631 में मुमताज़ की मृत्यु तो लगभग जून 1932 में काम का प्रारम्भ होना, लेकिन इतिहास में तो निर्माण कार्य जनवरी 1932 से ही शुरू दिखाया गया है।

Taj Mahal किसने बनवाया? लेखक कहते हैं कि यह शाहजहाँ के मुख्य वास्तुकार अहमद उस्ताद लाहौरी थे। इस बात पर इतना विश्वास लाहौरी के बेटे लुफ्त अल्लाह के बयान पर से किया गया है, जो कि सबूत के तौर पर काफी कमजोर है। एक और बात कि शाही इतिहासकारों ने अपने बादशाह के बखान में कई खिस्से गढ़े, कि कैसे शाहजहाँ ने व्यक्तिगत तौर पर ताज के निर्माण में भूमिका निभाई। किन्तु, यूरोपीय यात्रियों ने शाहजहाँ के चरित्र को कुछ और बताया है। उन्होंने बताया कि वह वासना और भोग के उलझन में एक कार्य पर ध्यान लगाने से असमर्थ था। प्रोफ. मिल बताते हैं कि “यह मानना है कि शाहजहाँ के कथित महान वास्तु कौशल के सहारे इस रिश्ते से बाहर आया, कई मानते हैं कि वो दुनिया के सबसे खूबसूरत इमारत है, यह सरासर रोमांटिक बकवास है।”

यह भी पढ़ें: टीपू सुल्तान का मंदिर उपहार देने के पीछे का ‘छुपाया गया’ सच

Prof. Marvin Mills ने एडिसन बेग्ले एवं ज़ियाउद-दिन अहमद देसाई द्वारा लिखी किताब को ध्यान में रखकर अपने लेख में कुछ ऐसे मुद्दे उठाए थे जिन्हे जानना हमारे लिए भी जरूरी है। वह 6 मुद्दे थे कि:

  • Taj Mahal के मुख्य भवन के दोनों ओर दो भवनों की अपनी-अपनी अलग पहचान है। एक मस्जिद दूसरा अतिथि निवास, अगर इन दोनों भवनों के अलग-अलग कार्य हेतु निर्माण हुआ था तो उसका ढांचा भी अलग होना चाहिए था जो कि नहीं है।
ताज महल मस्जिद
ताज महल मस्जिद।(Pixabay)
  • क्यों ताज के बाहरी दीवारों पर मध्यकालीन लोपख़ाना है जबकि उन तोपों का उपयोग भारत के मुगल आक्रमणों में पहले से ही था?[पहली तो यह कि एक मकबरे को एक सुरक्षात्मक दीवार की आवश्यकता क्यों है? एक महल के लिए यह समझ में भी आता है।]
  • यमुना नदी के सामने Taj Mahal के उत्तर की ओर छत के स्तर के नीचे कुछ बीस कमरे क्यों हैं? एक मकबरे में इन कमरों की क्या आवश्यकता है? एक महल उन्हें अच्छे उपयोग में ला सकता था। दोनों लेखक(बेग्ले एवं देसाई) भी उसके अस्तित्व का उल्लेख नहीं कर रहे हैं।
  • बीस कमरों के विपरीत लंबे गलियारे के दक्षिण में सील किए गए कमरों में क्या है? किसने उस द्वार पर इमारत खड़ी की? और क्यों विद्वानों और इतिहासकारों को उस कमरे में रखे वस्तुओं और अन्य सामानो की जाँच या उन्हें दर्ज करने की अनुमति नहीं दी गई?
  • मक्का की दिशा में न होने की बजाय मस्जिद पश्चिमी दिशा में क्यों है? निश्चित रूप से, सत्रहवीं शताब्दी तक एक इमारत को ठीक दिशा बनाने में कोई समस्या नहीं थी!
  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने ताज के कार्बन-14(Carbon-14) या थर्मो-ल्यूमिनेसेंस(Thermo-luminescence) के डेटिंग करने पर क्यों अंकुश लगा दिया है? जबकि इससे Taj Mahal को किस सदी में बनाया गया था, इस पर किसी भी विवाद को आसानी से सुलझाया जा सकता है।[एक दरवाजे से ली गई लकड़ी के टुकड़े की रेडियोकार्बन डेटिंग ने संभावित तिथि 13 वीं शताब्दी बताई गई। लेकिन इसमें अधिक तथ्य की जरूरत है।]

यह सभी तथ्य Prof. Marvin Mills ने एक वास्तुकार के नजरिए से बताया है। किन्तु उनके दिए तथ्य में कुछ ऐसे रोचक विषय भी जरूर हैं जिनपर हमें ध्यान केंद्रित करने कि आवश्यकता है। आखिर इस अनसुलझे सच से पर्दा उठना चाहिए, क्योंकि अगर इतिहास से छेड़छाड़ की गई है तो उस गलती को सुधारा जा सकता। लेकिन शायद आज बताए जाने वाली वह गलत इतिहास ‘कल’ पर हावी न हो जाए।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

हाल की टिप्पणी