Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कौन है मोहम्मद उमर गौतम, जिसने जबरन लोगों को मुस्लिम धर्म में परिवर्तन कराया?

आपको जान कर हैरानी होगी कि जबरन धर्म परिवर्तित कराने वाले इस गिरोह में से एक व्यक्ति हिन्दू धर्म से संबंध रखता है। फिर आखिर वह मुस्लिम कैसे बना?

मोहम्मद उमर गौतम, जो धर्मांतरण रैकेट का एक हिस्सा है। (NewsGramHindi)

उत्तर प्रदेश में “धर्मांतरण रैकेट” की जांच करने वाली एजेंसी लगातार इस दिशा में अपना ध्यान केंद्रित किए हुए है। इस मामले की जांच कर रहे यूपी के आतंकवाद निरोधक दस्ते ATC ने एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया था, ताकि लोग धर्मांतरण रैकेट और इससे जुड़े किसी भी व्यक्ति के बारे में जानकारी उपलब्ध करा सकें। एटीसी को यह भी शक है कि धर्मांतरण कराने वाले इस रैकेट को विदेशों से भी सहायता प्राप्त है।

अभी हाल ही में यूपी एटीसी को इसमें एक बड़ी सफलता भी प्राप्त हुई है। सूचना के मुताबिक धर्म परिवर्तन कराने वाले इस गिरोह में से ATC ने दो लोगों को गिरफ्तार किया था। यह रैकेट खासकर मूक – बाधिर बच्चों और महिलाओं का जबरन धर्म परिवर्तन कराता है। आपको जान कर हैरानी होगी कि जबरन धर्म परिवर्तित कराने वाले इस गिरोह में से एक व्यक्ति हिन्दू धर्म से संबंध रखता है। फिर आखिर वह मुस्लिम कैसे बना? क्यों उसने अपना धर्म परिवर्तन किया? आइए जानते हैं इसके बारे में।


मोहम्मद उमर गौतम (Mohd Umar Gautam), जो धर्मांतरण रैकेट का एक हिस्सा है। यूपी पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते के अनुसार, उसे 20 जून को इस्लामिक दबाह केंद्र के एक कर्मचारी मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी के साथ गिरफ्तार किया गया था। आपको बता दें कि जांच के मुताबिक मोहम्मद उमर गौतम पहले एक हिन्दू था। जिसने कुछ साल पहले ही अपना हिन्दू धर्म छोड़, मुस्लिम धर्म को अपना लिया था। मोहम्मद उमर गौतम का असली नाम श्याम प्रताप सिंह गौतम है। यह और इसका पूरा परिवार राजधानी दिल्ली में बाटला हाऊस, जामिया नगर में रहता है। उमर की गिरफ्तारी के बाद मीडिया द्वारा उसकी पत्नी रजिया से बात की गई। रजिया जो 51 वर्षीय उमर की पत्नी है। रजिया और उमर की शादी को 30 साल से ज्यादा हो चुके हैं। यह दोनो मूल रूप से फतेहपुर सीकरी के राजपूत परिवारों से संबंध रखते हैं।

यह रैकेट खासकर मूक – बाधिर बच्चों और महिलाओं का जबरन धर्म परिवर्तन कराता है। (Pixabay)

रजिया बताती हैं कि उनके पति यानी उमर की भगवान हनुमान में बड़ी आस्था थी। हर मंगलवार और शनिवार वह पूजा – पाठ करते थे, मंदिर जाना सब किया करते थे। वह बताती हैं कि हम इतने धार्मिक थे कि लोग अक्सर मुझे पुजीता कहते थे। जिसके अर्थ होता है पूजा करने वाला। उत्तर प्रदेश में एक प्रथा है माघी स्नान की, माघी स्नान एक वार्षिक 30 दिवसीय अनुष्ठान है जिसमें भक्त गंगा नदी में स्नान करते हैं। हम हर साल माघी स्नान के लिए भी जाया करते थे। क्योंकि हमारी शादी किशोरावस्था में हुई थी, इसलिए उमर उस समय अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे थे।

रजिया आगे बताती हैं कि साल 1984 में उमर, उत्तराखंड में गोविंद वल्लभ पंत विश्वविद्यालय में बीएससी की पढ़ाई पूरी कर रहे थे। विश्वविद्यालय में उनके साथ एक साथी नासिर खान भी पढ़ता था। वह मुसलमान था। रजिया ने बताया कि नासिर हर हफ्ते उमर को साइकिल पर बिठा कर मंदिर ले जाता था। एक दिन उमर ने उससे पूछा कि वह उसके साथ इतने लगन के साथ मंदिर क्यों आता है। नासिर ने कहा अपने भगवान को खुश करने के लिए। मेरा धर्म मुझे अपने हकुक वालों को देखभाल करना सिखाता है। इस घटना के बाद ही उमर बिल्कुल बदल गए थे। उमर ने एक महीना बाइबल, गीता और कुरान पढ़ने में बिताया और फिर इस्लाम धर्म मे परिवर्तित हो गए। और धर्म परिवर्तन के दौरान ही उन्होनें अपना नाम भी श्याम प्रताप सिंह गौतम से मोहम्मद उमर गौतम रखा था।

उमर ने एक महीना बाइबल, गीता और कुरान पढ़ने में बिताया और फिर इस्लाम धर्म मे परिवर्तित हो गए। और धर्म परिवर्तन के दौरान ही उन्होनें अपना नाम भी श्याम प्रताप सिंह गौतम से मोहम्मद उमर गौतम रखा था। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

यहां आपको बता दें कि उमर गौतम का एक इस्लामिक दबाह सेंटर (IDC) चलाता है। जिसमें दावत के माध्यम से लोगों को बुलाया जाता है, और आपस में बात – विचार किया जाता है। बातचीत के दौरान व्यक्ति को धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाने के लिए सबसे पहले गीता का पाठ पढ़ाया जाता है, फिर कुरान और उसके बाद दोनों में अंतर बताते हुए जबरन गीता में से कमियों को निकाल व्यक्ति को फसाया जाता है। उस व्यक्ति को हदीस तक पढ़ाया जाता है। पूरी तरीके से व्यक्ति के मस्तिष्क को काबू में किया करने के बाद उसे जबरन धर्म परिवर्तन करने पर मजबूर किया जाता है। IDC यानी इस्लामिक दबाह सेंटर के बारे में रजिया बताती हैं कि धर्म परिवर्तन को औपचारिक रूप देने के लिए व्यक्ति को उप – मंडल मैजिस्ट्रेट द्वारा हस्ताक्षरित एक हलफनामा दाखिल करना होता है। एक बार यह हो जाने के बाद IDC उस व्यक्ति को जहांगीर कासमी द्वारा हस्ताक्षरित रूपांतरण प्रमाणपत्र जारी करता है।

लेकिन जैसे हमनें आपको बताया कि IDC जिसमें दावत के दौरान ही धर्म रूपांतरण की योजना के तहत यह कहकर बरगलाया जाता है कि “हर इंसान इस्लाम धर्म में जन्म लेता है लेकिन किसी कारण वश वो दूसरे धर्म में चला जाता है। इसी कारण से लोगों को घर वापसी यानी इस्लाम में वापसी कराना ही उसका काम है।”

यह भी पढ़ें :- इस्लामिक धर्मांतरण गिरोह पर फिर चला कानून का डंडा, दो मौलवी गिरफ्तार

आपको यह भी बता दें कि उमर गौतम की गिरफ्तारी के बाद इस बात का खुलासा हुआ है कि, जाकिर नाइक, जो भारत के लिए एक वांटेड है। भारत से भागा हुआ एक इस्लामिक धर्म गुरु है। इससे उमर गौतम को फंडिग प्राप्त होती थी। वहीं उमर गौतम ने सांसद मौलाना बदरुद्दीन अजमल के द्वारा भी फंडिंग प्राप्त होने का खुलासा किया है। 

रजिया का यह भी कहना है कि हमनें किसी को भी धर्म परिवर्तन करने के लिए कभी मजबूर नहीं किया है। लेकिन ATC ने जब उमर की जांच प्रारम्भ की, तब पता चला कि उसने लगभग 1000 हिन्दुओं का जबरन धर्मांतरण कराया है। बहरहाल मोहम्मद उमर गौतम को यूपी ATC द्वारा गिरफतार कर लिया गया है। लेकिन देश में अब भी ऐसे कई गिरोह चल हैं जिनका पता चलना बहुत आवश्यक है।

Popular

ब्रिटेन में पढ़ने के लिए राज्य छात्रवृत्ति मिली 6 आदिवासी छात्रों को।(Unsplash)

भारत के झारखंड राज्य में कुछ छात्रों का भविष्य उज्व्वल होने जा रहा है । क्योंकि झारखंड राज्य में छह छात्रों को राज्य के छात्रवृत्ति कार्यक्रम के तहत विदेश में मुफ्त उच्च शिक्षा मिलने जा रही है। राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और कल्याण मंत्री चंपई सोरेन राजधानी रांची में गुरुवार कोआयोजित होने वाले एक कार्यक्रम में छात्रवृत्ति योजना मारंग गोमके जयपाल सिंह मुंडा के तहत लाभार्थियों छात्रोंऔर उनके अभिभावकों को सम्मानित करने जा रहे है।

आप को बता दे की यह योजना राज्य सरकार द्वारा यूके और आयरलैंड में उच्च अध्ययन करने हेतु अनुसूचित जनजातियों के छात्रों के लिए शुरू की गई है। छात्रवृत्ति के पुरस्कार प्राप्त करने वाले छात्रों को विविध खर्चो के साथ-साथ ट्यूशन फीस भी पूरी तरह मिलेगी । इस योजना के अनुसार झारखंड राज्य में हर साल अनुसूचित जनजाति से 10 छात्रों का चयन किया जाएगा।

सितंबर में ब्रिटेन के 5 विभिन्न विश्वविद्यालयों में अपना अध्ययन कार्यक्रम शुरू करंगे 6 छात्र जिनको को चुना गया हैं।

अगर बात करे चयनित छात्रों की सूचि के बारे में तो इसमें से हरक्यूलिस सिंह मुंडा जो कि "यूनिवर्सिटी ऑफ लंदन " के "स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज" से एमए करने जा रहे हैं। "मुर्मू यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लंदन" से छात्र अजितेश आर्किटेक्चर में एमए करने जा रहे हैं। और वंहीआकांक्षा मेरी "लॉफबोरो विश्वविद्यालय" में जलवायु परिवर्तन, विज्ञान और प्रबंधन में एमएससी करेंगी, जबकि दिनेश भगत ससेक्स विश्वविद्यालय में जलवायु परिवर्तन, विकास और नीति में एमएससी करेंगे।

\u0938\u094d\u091f\u0942\u0921\u0947\u0902\u091f विश्वविद्यालय में पढ़ते हुए छात्र (pixabay)

Keep Reading Show less

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep reading... Show less