Friday, May 7, 2021
Home दुनिया WHO: तंबाकू पर उच्च "कर" लगा, जिंदगी और पैसे दोनों को बचाया...

WHO: तंबाकू पर उच्च “कर” लगा, जिंदगी और पैसे दोनों को बचाया जा सकता है

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि, अनुमान के मुताबिक आठ मिलियन से भी अधिक लोग हर साल समय से पहले ही तंबाकू से संबंधित बीमारियों के कारण मर जाते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने हाल ही में बढ़ते सिगरेट और तंबाकू सेवन पर अपनी चिंता व्यक्त की है। संगठन का कहना है कि, सिगरेट (Cigarette) और तंबाकू (Tobacco) जैसे अन्य जानलेवा उत्पादों का सेवन बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि, इन जहरीले उत्पादों के सेवन को रोकने के लिए सिगरेट और तंबाकू जैसे उत्पादों पर कर बढ़ाकर करोड़ों लोगों की जान को बचाया जा सकता है। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बताया कि, अनुमान के मुताबिक आठ मिलियन से भी अधिक लोग हर साल समय से पहले ही तंबाकू से संबंधित बीमारियों के कारण मर जाते हैं। कई लोग फेफड़ों के कैंसर (Cancer) के शिकार हो जाते हैं। इसके अलावा विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी रिपोर्ट में यह भी बताया कि, धूम्रपान की लागत वैश्विक अर्थव्यवस्था में $1.4 ट्रिलियन से भी अधिक है। 

WHO ने अपने नीति निर्माताओं और अन्य लोगों को अपने प्रमुख देशों के लिए तंबाकू पर सबसे मजबूत कराधान नीतियों के बारे में, सूचित करने के लिए एक नया मैनुअल जारी किया है। 

जेरेमीस एन पॉल जूनियर डब्ल्यूएचओ के लिए राजकोषीय नीतियों और स्वास्थ्य संवर्धन के प्रमुख हैं| वह कहते हैं कि, तंबाकू उद्योगों द्वारा जो लोगों को डराने के लिए रणनीति बनाई गई है। वह तंबाकू पर करों को बढ़ाने में, एक सबसे बड़ी बाधा साबित होता है। उन्होंने यह भी कहा कि, “यदि आप तंबाकू करों में वृद्धि करते हैं, तो आप तस्करों और अवैध व्यापार को भी बढ़ाते हैं। पॉल ने यह भी कहा कि, यदि आप तंबाकू करों को बढ़ाते हैं, तो राजस्व में भी कमी हो सकती है। जिसका रोजगार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। लेकिन पॉल का यह भी कहना है कि, नए WHO मैनुअल दस्तावेज़ वाले देशों ने इस नीतियों को अपनाया भी है और इसका प्रभाव सकारात्मक देखने को मिला है। देश अच्छे “कर” प्रशासन के माध्यम से संसाधनों को जुटाने में सफल रहे हैं। उदाहरण के लिए उन्होंने कहा कि, फिलीपींस (Philippines) ने अपने राजस्व में वृद्धि की है और तंबाकू पर कर लगाकर अपने स्वास्थ्य बजट को तीन गुणा बढ़ा दिया है। 

Cigarette
तंबाकू या सिगरेट जैसे जानलेवा उत्पादों पर उच्च कर लगाकर इनके सेवन को रोका जा सकता है। (Pexel)

WHO के अनुसार, 2018 में केवल 38 देशों में वैश्विक आबादी का 14 प्रतिशत कवर करने पर पाया गया कि, इन देशों में तंबाकू करों में काफी वृद्धि की गई है। यानी एजेंसी सिगरेट के एक पैकेट के खुदरा मूल्य को 75 प्रतिशत के रूप में परिभाषित करता है। 

पॉल ने कहा कि, यदि आप तंबाकू पर करों को बढ़ाते हैं, तो यह समय से पहले होने वाली मृत्यु को रोकने में सहायक हो सकता है। जब तंबाकू या अन्य सिगरेट जैसे जानलेवा उत्पादों पर करों को बढ़ाने की बात आती है, तो पॉल कहते हैं की, यह नियम यह सुनिश्चित करने के लिए है कि, लोग तंबाकू या सिगरेट जैसे उत्पादों को कम खरीदें और यह ज्यादा से ज्यादा उपभोक्ताओं को इसका सेवन करने से रोक सके। 

यह भी पढ़ें :- शारीरिक स्वायत्तता महिलाओं का अधिकार है : संयुक्त राष्ट्र

तंबाकू या सिगरेट जैसे जानलेवा उत्पादों पर उच्च कर लगाकर इनके सेवन को रोका जा सकता है। कई देशों ने ऐसा किया भी है। लेकिन वैश्विक स्तर पर यह कदम उठाना बहुत जरूरी है। इससे बड़े स्तर पर लोगों की जिंदगियों को बचाया जा सकता है। (VOA) (हिन्दी अनुवाद: स्वाती मिश्रा)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी