Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

कोरोना की वैक्सीन सबसे पहले किसे मिलेगी?

कोविड-19 महामारी से पूरी दुनिया जूझ रही है। इस समय वैश्विक स्तर पर कोरोनावायरसमामलों की कुल संख्या 6.7 करोड़ से अधिक हो गई है, जबकि संक्रमण से हुई मौतों की संख्या 15.3 से अधिक हो गई।

वैक्सीन की पहली खुराक के बाद रोगियों के लिए एहतियात बरतना जरूरी है। (Pixabay)

कोविड-19 महामारी से पूरी दुनिया जूझ रही है। इस समय वैश्विक स्तर पर कोरोनावायरसमामलों की कुल संख्या 6.7 करोड़ से अधिक हो गई है, जबकि संक्रमण से हुई मौतों की संख्या 15.3 से अधिक हो गई। यह सिलसिला अब भी जारी है यानी कोरोना की मार बहुत बुरी है। कोरोना को इसके रास्ते में रोक पाने के लिए, दुनिया भर में वैक्सीन बंटवाने की जरूरत है। सभी देशों के वैज्ञानिक इसको लेकर लगातार प्रयास कर रहे हैं कि वैक्सीन जल्द से जल्द बाजार में आ जाए। ऐसा माना जा रहा है कि वैक्सीन इस साल के अंत तक या अगले साल बाजार में उपलब्ध हो जाएगी।

फिर भी, यह फैसला कैसे होगा कि किस देश को कोरोना की वैक्सीन पहले मिलेगी? क्या दुनिया के सबसे अमीर देशों को सबसे गरीब देशों से पहले यह मौका मिलेगा? लॉकडाउन ने कई देशों की अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ दी है, तो क्या हर कोई ये वैक्सीन खरीद पाएगा?

दरअसल, इंग्लैंड जैसे कुछ अमीर देशों ने 6 संभावित कोरोना वैक्सीनों के लिए कुछ महंगे करार किये हैं। इससे विवाद खड़ा हो रहा है, क्योंकि बनने से पहले ही वैक्सीन जमा करने से, कमजोर देश पीछ छूट सकते हैं। अच्छी बात ये है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सबको बराबरी का मौका देने के लिए कोवाक्स प्लान बनाया है, जिसके तहत सभी को समय पर और उचित मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराई जा सके।

यह भी पढ़ें : रक्तदान में 80 फीसदी के साथ प्री-कोविड स्तर तक सुधार


वैक्सीन का उद्देश्य

इस प्लान का उद्देश्य वैक्सीन को सही तरीके से खरीदे जाने और दुनिया भर में सही तरह से बांटे जाने के लिए साल 2021 तक 2 अरब डॉलर इकट्ठा करना है। कई देश अपने संसाधनों को साथ ला रहे हैं, ताकि अफ्रीका, एशिया, और लैटिन अमेरिका जैसे कम आय वाले 92 देशों को वैक्सीन तक सही पहुंच मिल सके।

अगर यह कोवाक्स प्लान काम करता है तो इसमें शामिल सभी देशों को अपनी 20 फीसदी आबादी के लिए वैक्सीन मिल जाएगी जिसमें सबसे कमजोर लोगों की बारी पहले आएगी। इसमें स्वास्थ्य कर्मी, नसिर्ंग होम के बुजुर्ग और ऐसे लोग शामिल होंगे जो पहले से किसी ऐसी बिमारी से जूझ रहे हैं।

इसके बाद बारी आएगी 65 से ज्यादा उम्र के लोगों की और फिर 50 के नीचे की उम्र के लोगों की बारी आएगी। ये टीके स्कूलों, दवाखानों और यहां तक कि ट्रेन स्टेशनों जैसी सुविधाजनक जगहों से बांटे जाएंगे।

हम नहीं कह सकते कि वैक्सीन के आसानी से उपलब्ध होने के पहले महामारी कितना बुरा रूप लेगी, पर शोधकतार्ओं का कहना है कि अगली जनवरी तक मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 लाख हो सकती है। लेकिन अगर हम अपनी कोशिशों में तेजी लाएं, मास्क पहने रहें और दूरी बनाए रखें, तो ये आंकड़ा इससे काफी छोटा भी हो सकता है। ( आईएएनएस )

Popular

माइक्रोसॉफ्ट (Wikimedia Commons)

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया(Microsoft India) ने आज छोटे और मध्यम व्यवसायों (Small And Medium Businesses) को सही डिजिटल कौशल के साथ आगे रहने में मदद करने के लिए एक नई पहल शुरू करने की घोषणा की।

माइक्रोसॉफ्ट(Microsoft) के अनुसार, एसएमबी भारत के सकल घरेलू उत्पाद में ~ 30% का योगदान करते हैं और 114 मिलियन से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करते हैं। हालांकि, महामारी के जवाब में एसएमबी के लिए कर्मचारी कौशल की कमी सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक रही है।

Keep Reading Show less

भारत सरकार (Wikimedia Commons)

भारत सरकार(Government Of India) ने ट्विटर(Twitter) से जनवरी-जून 2021 की अवधि में 2,200 उपयोगकर्ता खातों पर डेटा मांगा और माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म(Micro Blogging Platform) ने केवल 2 प्रतिशत अनुरोधों का अनुपालन किया।

समीक्षाधीन अवधि में भारत से ट्विटर खातों को हटाने की लगभग 5,000 कानूनी मांगें भी थीं, कंपनी की नवीनतम पारदर्शिता रिपोर्ट से पता चला है।

Keep Reading Show less

माइक्रोसॉफ्ट टीम्स ने किया 270 मिलियन एक्टिव यूज़र्स को पार। (Wikimedia Commons)

माइक्रोसॉफ्ट टीम्स(Microsoft Teams) संचार और सहयोग मंच दिसंबर तिमाही में 270 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं में शीर्ष पर रहा, उपयोगकर्ताओं को जोड़ना जारी रखा लेकिन महामारी के शुरुआती महीनों की तुलना में बहुत धीमी गति से।

माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला(Satya Nadella) ने कंपनी की तिमाही आय के संयोजन के साथ मंगलवार दोपहर नवीनतम संख्या का खुलासा किया। यह संख्या छह महीने पहले, जुलाई 2021 में माइक्रोसॉफ्ट द्वारा रिपोर्ट किए गए 250 मिलियन से 20 मिलियन मासिक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की वृद्धि का प्रतिनिधित्व करती है।

Keep reading... Show less