Tuesday, October 20, 2020
Home संस्कृति भाषा का ज्ञान होना ज़रूरी है, किसी संप्रदाय से जोड़ना नहीं...

भाषा का ज्ञान होना ज़रूरी है, किसी संप्रदाय से जोड़ना नहीं…

संस्कृत भाषा का पतन भारत के लिए एक चर्चा विषय है, कि क्यों हम एक भाषा को एक संप्रदाय से जोड़ कर देखते हैं और वह कौन लोग थे जिन्होंने संस्कृत भाषा के इस्तेमाल को गलत बताया था?

क्या संस्कृत भाषा केवल एक धर्म से जुड़ी भाषा है या एक संप्रदाय या केवल एक ही विचारधारा के दामन से जुड़ी भाषा है? क्या संस्कृत को हमारे ही कुछ बुद्धिजीवियों और इतिहासकारों ने एक संप्रदाय का बोल कर ठुकरा दिया है और हमें भी इसे ठुकराने के लिए उकसाया है? ऐसा इसलिए कि जिस भाषा को हम भारतीयों ने धीरे-धीरे भुला दिया, आज उसी भाषा को विदेशी विद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में पढ़ाया जाता है। एक भाषा जिसका जन्म भारत में हुआ अब वही अपनी बुनियाद खोज रही है। 

वर्तमान भारत में कुछ चुनिंदा जगहों पर संस्कृत भाषा का उपयोग किया जाता है, जिसमें राजस्थान का गनोडा, मध्यप्रदेश में बघुवर, मोहद और झिरी, कर्नाटक में मत्तुर और होसहल्ली शामिल हैं। संस्कृत के विशेषज्ञ, ज्ञाता एवं आचार्य भी आज-कल संस्कृत छोड़ किसी अन्य भाषा का लिखने या पढ़ने में प्रयोग करते हैं। 

क्या आपको पता है कि भारत के ही कुछ वामपंथी विचारों ने कहा था कि हिन्दू हाल ही में जन्मा एक धर्म है जिसको उन्होंने नव-हिन्दू या नया-हिन्दू नाम दिया था और कहा गया कि यह कुछ राष्ट्रवादी विचारधाराओं की सोच थी, जो बंगाल और भारत के अन्य राज्यों से शुरू हुई थी। जिसमें ईसाई धर्म के विचारों को संस्कृत में अनुवाद कर के पेश किया गया है, इसका मतलब यह है कि हिन्दू धर्म ईसाई विचारों से जन्मा धर्म है। किन्तु आश्चर्य की बात यह है कि जब भी इस नव-हिन्दू के विषय को उछाला जाता है तब एक नाम बहुत ही साफ-साफ दिखाई पड़ता है और वह नाम है राजा राम मोहन राय। 

राम मोहन राय या तो अपने धर्म को ठीक से समझ नहीं पाए थे या अंग्रेज़ी प्रभाव ने उनके विचारों को बदल दिया था, यह अपने में ही एक सोचने का विषय है। किंतु हिन्दू समाज से होते हुए भी मूर्ति पूजा का विरोध करना एक संदेह पैदा करता है। आपको जानकारी के लिए बता दूं कि राम मोहन राय ने न कभी अंग्रेजी हुकूमत का विरोध किया और न ही उनके विचारों के विपरीत गए। राय, नए और आधुनिक भारत का सपना देख रहे थे लेकिन ब्रिटिश राज के नीचे। इसमें कोई संदेह नहीं राजा राम मोहन राय ने ‘सती’ जैसी कुरीतियों के खिलाफ आवाज़ उठाई और इसलिए इतिहास उन्हें महान विचारक कह रहा है। किन्तु राम मोहन राय ही वह व्यक्ति थे जिन्होंने संस्कृत के पतन में अहम योगदान दिया था।  

राम मोहन राय एक ऐसे ब्रिटिश मिशनरी विलियम कैरी के साथ भी करीबी रखते थे जो हिन्दू-फोबिक था या हिन्दू धर्म से डर था। 

यह भी पढ़ें : वह हमें राह दिखा कर चले गए, मगर उस पर चलना हमें है

राय ने उस समय के भारत के गवर्नर-जनरल को चिठ्ठी लिखकर कहा था कि संस्कृत भाषा को पाठ्यक्रम से हटा देना चाहिए और उसकी जगह गणित जैसे विषयों को पढ़ाना चाहिए। मज़ेदार बात यह है कि लोग, लॉर्ड मैकाले को शिक्षा में अंग्रेजीकरण के लिए कोसते हैं किन्तु राम मोहन राय ने मैकाले से 12 साल पहले ही इस मुद्दे को उठा दिया था। 

भारत वर्ष की यह विडंबना कहिए या बदकिस्मती कहिए कि जिस भाषा पर कई शोध हो रहे हैं एवं कई विदेशी पाठ्यक्रम में सम्मिलित है उस संस्कृत भाषा को भारत के कुछ बुद्धिजीवियों ने पिछड़ा हुआ बता कर भुला दिया है। जिस वजह आज अंग्रेजी भाषा बोलने वाले को उच्च श्रेणी का बताया जाता है। 

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी