Wednesday, May 12, 2021
Home थोड़ा हट के लाह की खेती से लाखों कमा रही झारखंड की महिला किसान

लाह की खेती से लाखों कमा रही झारखंड की महिला किसान

झारखंड(Jharkhand) के पश्चिमी सिंहभूम जिले के रूमकूट गांव की रहने वाली रंजीता देवी की लाह की खेती ने जिंदगी बदल दी।

By: मनोज पाठक

झारखंड(Jharkhand) के पश्चिमी सिंहभूम जिले के रूमकूट गांव की रहने वाली रंजीता देवी की लाह(lacquer farming) की खेती ने जिंदगी बदल दी। रंजीता उन महिलाओं में शामिल हैं, जो लाह की खेती((lacquer farming)) से सालाना तीन लाख रुपए तक की आमदनी प्राप्त कर रही हैं। रंजीता कहती हैं, दूरस्थ क्षेत्र होने के कारण उनकी आजीविका मुख्यत: जंगल और वनोपज पर निर्भर है। उनके परिवार में पहले भी लाह की खेती(lacquer farming) की जाती थी, लेकिन अब वैज्ञानिक विधि से खेती करने से उपज बढ़ाने के बारे में जानकारी मिली और फिर उत्पादन बढ़ गया।

रंजीता ऐसी केवल एकमात्र महिला नहीं है, जिनकी जिंदगी लाह की खेती(lacquer farming) ने बदल दी है। झारखंड(Jharkhand) में 73 हजार से ज्यादा ग्रामीण परिवारों को लाह की वैज्ञानिक खेती से जोड़ा गया है, जिनमें अधिकतर अति गरीब एवं सुदूरवर्ती क्षेत्रों में रहने वाले ग्रामीण परिवार हैं।राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण महिलाओं को लाह की वैज्ञानिक खेती से जोड़कर अत्याधुनिक प्रशिक्षण के जरिए आमदनी बढ़ोतरी के प्रयास किये जा रहे हैं। इस पहल से राज्य की वर्ष 2020 में करीब 2000 मीट्रिक टन लाह का उत्पादन ग्रामीण महिलाओं द्वारा किया गया है।

झारखंड(Jharkhand) सरकार भी लाह की खेती(lacquer farming) को कृषि का दर्जा देने में जुटे हैं, जिससे राज्य की ग्रामीण महिलाओं को वनोपज आधारित आजीविका से जोड़कर आमदनी बढ़ोतरी का कार्य हो सके। झारखंड(Jharkhand) के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन(Hemant Soren) भी कहते हैं कि भारत आत्मनिर्भर देश तभी बनेगा, जब ग्रामीण क्षेत्र का सशक्तिकरण होगा।सोरेन(Hemant Soren) कहते हैं, “राज्य सरकार लाह की खेती को कृषि का दर्जा देगी। इसका न्यूनतम समर्थन मूल्य भी तय करेगी। किसानों को स्वावलंबी और आत्मनिर्भर बनाना सरकार का संकल्प है। इस बाबत कई योजनाएं चलाई जा रही हैं, जिसके जरिए किसानों(farmers) को अनुदान, ऋण और अन्य जरूरी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है।”

महिलाएं
लाह की खेती से महिलाएं बन रहीं हैं सशक्त।(सांकेतिक चित्र, फाइल फोटो)

रंजीता कहती हैं, “जे.एस.एल.पी.एस के माध्यम से लाह की आधुनिक खेती(lacquer farming) से सम्बंधित प्रशिक्षण प्राप्त किया। सरकार की ओर से लाह का बीज भी उपलब्ध कराया गया।” पिछले वर्ष रंजीता ने 300 किलो बिहन (बीज) लाह के रूप में लगाया, जिससे उन्हें 15 क्विंटल लाह की उपज प्राप्त हुई और उससे उन्हें तीन लाख रुपए की आमदनी हुई। गोईलकेरा प्रखंड की महिला शोभा देवी कहती हैं कि लाह की खेती में लागत नाममात्र है, लेकिन उससे कई गुना ज्यादा उपज एवं मुनाफा प्राप्त हो रहा है।

यह भी पढ़ें: कृषि के लिए कोराना की आपदा अब अवसर में बदल रही है !

महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना के तहत महिला किसानों को लाह उत्पादन, तकनीकी जानकारी, प्रशिक्षण और बिक्री हेतु बाजार उपलब्ध कराया जा रहा है। समूहों के माध्यम से लाह की सामूहिक खेती, बिक्री हो रही है। किसानों को उचित बाजार उपलब्ध कराने के लिए राज्य भर में 460 संग्रहण केंद्र और 25 ग्रामीण सेवा केंद्र चलाए जा रहे हैं। हालांकि अभी भी लाह के लिए बहुत कुछ किया जाना शेष है। लाह को खेती का दर्जा देने के लिए संघर्ष कर रहे पलामू जिला के कुंदरी निवासी कमलेश सिंह कहते हैं कि कुंदरी वन क्षेत्र में ही लाह के लाखों पलाश के पेड हैं, लेकिन इसका सही उपयोग नहीं हो रहा है। वे कहते हैं कि पलाश के फूल से पिछले वर्ष गुलाल बनाया गया था, लेकिन इस वर्ष इसके लिए पहल नहीं की गई।

उन्होंने कहा कि अगर लाह को खेती का दर्जा मिल जाता है, तो प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर बनने को झारखंड(Jharkhand) में साकार किया जा सकता है। उन्होंने झारखंड सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि प्र्रकृति ने झारखंड को आत्मनिर्भर बनने के लिए काफी कुछ दिया है लेकिन सरकार ही रूठी है।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,638FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी