Thursday, August 6, 2020
Home व्यवसाय कोरोना के दौर में 'वर्क फ्रॉम होम' वालों की भी कहानी सुनने...

कोरोना के दौर में ‘वर्क फ्रॉम होम’ वालों की भी कहानी सुनने लायक

जहां पूरी दुनिया कोरोना और लॉकडाउन से परेशान है, वहीं इसका एक और पहलू है जिस पर नज़र डालना चाहिए।

सरकार अपने काम में व्यस्त है, विपक्ष विरोध में व्यस्त है, डॉक्टर और पुलिस जैसे कोरोना योद्धा देश और मानवता की सेवा में लगे हैं।

लेकिन कुछ देर के लिए इन सब से हट कर क्या आप ये नहीं जानना चाहेंगे की उनकी ज़िन्दगी कैसी गुज़र रही है, जो घर बैठे अपने आफिस का काम कर रहे हैं?

ये भी एक मज़ेदार पहलू है। किसी ने इसमे अपनी खुशी ढूंढ ली है, तो किसी को सर का दर्द लग रहा है। कोई अपने घर के कुत्ते से परेशान है तो किसी ने घर को ही ऑफिस में बदल दिया है।

ऐसे ही लोगों के अनुभव को जानने की एक कोशिश वॉइस ऑफ अमेरिका ने की है।

ये वीडियो ज़रूर देखें।

POST AUTHOR

Kumar Sarthak
•लेखक •घोर राजनीतिज्ञ• विश्लेषक• बकैत

जुड़े रहें

5,787FansLike
0FollowersFollow
152FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

रामायण की अफीम से तुलना करने वाले प्रशांत भूषण लगातार हिन्दू धर्म को करते आयें हैं बदनाम

रामायण पर घटिया टिप्पणी करने वाले वकील प्रशांत भूषण पर इस शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट द्वारा करारा तमाचा जड़ा गया। सुप्रीम कोर्ट...

हाल की टिप्पणी