Tuesday, April 20, 2021
Home देश World AIDS Day : 34 साल पहले मिला था भारत में...

World AIDS Day : 34 साल पहले मिला था भारत में पहला HIV वायरस

लोगों को एचआईवी संक्रमण के बारे में जागरूक करने की मंशा से विश्व भर में हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS Day) मनाया जाता है।

लोगों को एचआईवी संक्रमण के बारे में जागरूक करने की मंशा से पूरे विश्व में हर साल वर्ल्ड एड्स डे (World AIDS Day) मनाया जाता है। 1988 में पहली बार इस मुहिम की शुरुआत हुई थी।

इस साल वर्ल्ड एड्स डे की थीम है ; “Ending the HIV/AIDS Epidemic: Resilience and Impact”, इस अवसर पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया है जो HIV के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आकड़ों की मानें तो 2019 में 690,000 लोग एचआईवी से संबंधित कारणों की वजह से मृत्यु को प्राप्त हो गए। भारत में इसके मौजूदा हालातों पर नज़र डालें तो राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (NACO) ने अनुमान लगाया है कि 2017 में भारत में 2.14 मिलियन लोग HIV / AIDS से संक्रमित थे।

पर क्या आप जानते हैं कि भारत में पहली बार कब और कहाँ, HIV वायरस की पुष्टि की गयी थी।

यह भी पढ़ें – ओपिनियन मेरा मानसिक स्वास्थ्य, हाय तौबा ज़िंदाबाद !

चेन्नई की सेक्स वर्कर महिलाओं में हुई थी HIV की पुष्टि

इतिहास को थोड़ा पलट कर देखें तो भारत में पहली बार एड्स(AIDS) सम्बंधित मामले की पुष्टि चेन्नई में हुई थी। 1986 में डॉक्टर और माइक्रोबायोलॉजिस्ट सुनीति सोलोमन ने महिला चिकित्सक सेल्लप्पन निर्मला के साथ मिल कर चेन्नई की सेक्स वर्कर महिलाओं की बस्तियों में जाकर करीबन 200 ब्लड सैंपल इकट्ठा किए। असल में सेल्लप्पन निर्मला, डॉ सुनीति की स्टूडेंट थीं। दोनों द्वारा कलेक्ट किए सैम्पल्स को वेल्लूर प्रयोगशाला में भेजा गया। वहां से आई रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ कि 200 सैम्पल्स में से 6 सैम्पल्स में HIV वायरस मौजूद है। इस बात पर पूरी तरह से दृढ़ होने के लिए सुनीति ने उन सैम्पल्स को जाँच के लिए अमेरिका भेजा। वहां से भी उन 6 ब्लड सैम्पल्स में HIV वायरस के होने की बात कही गयी।

यह उस समय की बात है जब हमारे देश में सेक्स को लेकर इतनी जागरूकता नहीं थी और ना ही लोग खुल कर इन मुद्दों पर बात किया करते थे।

Doctor and microbiologist Suniti Solomon
दिवंगत डॉ सुनीति सोलोमन को 2017 में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। (Facebook)

बहरहाल, 1986 के बाद भारत में लगतार HIV के मामलों में बढ़ोतरी देखी जाने लगी। जिसका परिणाम यह हुआ कि सरकार ने 1992 में HIV और AIDS की रोकथाम से संबंधित नीतियों की देखरेख के लिए NACO (राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन) और NACP (राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण कार्यक्रम) की स्थापना की।

आज भारत में लोग HIV/AIDS को लेकर जागरूक भी हैं और कई लोग इस बीमारी से संक्रमित होने के बावजूद खुशहाल ज़िन्दगी जी रहे हैं।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Predicting Breast Cancer By Deep Learning Model

मगर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार विश्व भर में कोरोनाकाल के आ जाने से HIV/AIDS के मामलों में काफी बढ़त हो सकती है। क्योंकि कोविड-19 के आ जाने से HIV/AIDS मरीजों के लिए चल रहे वैश्विक अभियानों और कार्यक्रमों पर रोक लग गयी है। ऐसे में HIV मरीजों के लिए यह संकट का विषय बन चुका है।

World AIDS Day के अवसर पर UNAIDS ने कोरोना के आ जाने से अपना डर व्यक्त करते हुए लोगों को कोरोना और एचआईवी से एक साथ लड़ने के लिए प्रेरित किया है।

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,646FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी